DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिलसौड़ के ग्रामीणों का सड़क व पूल को लेकर प्रदर्शन

दिलसौड़ के ग्रामीणों का सड़क व पूल को लेकर प्रदर्शन

जिला मुख्यालय से लगे दिलसौड़ के ग्रामीणों ने डीएम कार्यालय के समक्ष सड़क, पुल व पंचायती चौक निर्माण को लेकर जमकर ढोल-नगाड़ों के साथ जुलूस-प्रदर्शन किया। इस मौके पर उन्होंने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुये आरोप लगाया कि जिला मुख्यालय से लगा गांव होने के बाद भी विकास से पूरी तरह से वंचित है। जिला प्रशासन के एक सप्ताह में कार्यवाही के आश्वासन पर ग्रामीणों ने लोनिवि में तालाबंदी का कार्यक्रम स्थगित किया। दिलसौड़ प्रधान विजयपाल सिंह महर के नेतृत्व में दिलसौड़ के ग्रामीणों ने भारी संख्या में जिला मुख्यालय पहुंचकर मुख्य मार्गों से होते हुये जुलूस निकाला। उन्होंने सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुये गांव को विकास से वंचित करने का आरोप लगाया। ग्रामीणों ने स्थानीय प्रशासन के माध्यम से सीएम को प्रेषित ज्ञापन में अवगत कराया कि दिलसौड़ झूला पुल की स्वीकृति 2016 में हो गई थी, लेकिन आज तक निर्माण कार्य नहीं हो पाया है। चामकोट गांव जिसका संपर्क 2014-15 से जिला मुख्यालय व क्षेत्रीय गांवों से कटा है, के लिए अब तक झूला पुल की स्वीकृति नहीं मिल पाई है। लोनिवि ने मनेरा से दिलसौड़-चामकोट सड़क को तीन साल पहले विश्व बैंक को सौंपा था, लेकिन तीन साल बीतने के बाद भी मात्र तीन किमी सड़क के लिए बजट स्वीकृत नहीं किया गया है। सड़क के बिना ग्रामीणों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। दो साल पहले सड़क निर्माण के कारण गांव का पंचायती चौक ध्वस्त हो गया था। जिसके लिए जिम्मेदार विभाग ने आज तक इस चौक को नहीं बनवाया है। जिससे ग्रामीणो में भारी रोष व्याप्त है। ग्रामीणों का कहना है कि बार-बार शिकायतों के बाद भी गांव की ओर ध्यान न देने के कारण ग्रामीणों को आंदोलन का रूख अपनाना पड़ रहा है। इस मौके पर ग्रामीणों में सोमवारी, वीना, गीता, खुशाली, रेखा, पूर्ण दास, भुवनेश्वरी, हरि सिंह, शारदा, मदन, उर्मिला, शीला, किशन सिंह, कमलेश्वर, सरिता, सुमित्रा, जगदेई, पूर्णदास, हरि सिंह सहित दर्जनों मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Demonstrations on the road and pool of villagers of Dilsud