DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सांद्रा पुल पर आवाजाही रोकने से नाराज ग्रामीण खफा

विकास खंड मोरी के सांद्रा और सलला के बीच सवा सौ साल पूर्व बने झूला पुल के जर्जर होने के कारण वन विभाग ने पुल से आवाजाही बंद कर दी है। पुल पर रोक लगने के विरोध में क्षेत्र के ग्रामीणों ने धरना-प्रदर्शन कर विरोध जताया है। ग्रामीणों ने शीघ्र नए झूला पुल स्वीकृत करने की मांग की है। झूला पुल से आवाजाही बंद करने पर क्षेत्र के ग्रामीण आक्रोशित हो गए हैं। ग्रामीणों ने वन विभाग के खिलाफ नारेबाजी कर धरना प्रदर्शन किया। ग्रामीणों ने कहा यदि 10 अगस्त तक मोहतड़-सला प्रस्तावित मोटर मार्ग तथा सांद्रा में जर्जर पुल के स्थान पर नए झूला पुल निर्माण की स्वीकृति नहीं दी गई तो आंदोलन को और तेज करेंगे। ग्रामीणों ने बताया कि सवा सौ वर्ष पूर्व बने उक्त पूल से ही 16 गांव की आवाजाही होती आई है। इसी पुल से मोरी स्कूल में पढ़ने वाले गांव के बच्चों की आवाजाही भी होती है। वन विभाग द्वारा पुल को बंद करने से ग्रामीणों तथा स्कूली बच्चों के समक्ष आवागमन की समस्या पैदा हो गई है। इस मौके पर क्षेत्र के राजेंद्र सिंह, प्रकाश, महेंद्र, राजेश, सोहन आदि मौजूद रहे। क्या कहते हैं अधिकारीवन विभाग के अधिकारी आरके मिश्रा ने बताया कि पुल बहुत पुराना है और जर्जर हो गया है। जिससे इस पर सफर करना खतरे से खाली नहीं है। खतरे को देखते हुये विभाग को पुल से आवाजाही बंद करनी पड़ी। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों तथा स्कूली बच्चों की आवाजाही के लिये मोहताड़ सल्ला पैदल मार्ग का निर्माण किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Angry villagers angry over the stoppage of sandra bridge