Hindi News उत्तराखंड Uttarkashi Tunnel Live Updates: उत्तरकाशी सुरंग में 41 जान बचाने को बना अब यह प्लान

Uttarkashi Tunnel Live Updates: उत्तरकाशी सुरंग में 41 जान बचाने को बना अब यह प्लान

Uttarkashi Tunnel Live Updates: उत्तरकाशी के सिलक्यारा सुरंग में ऑगर मशीन के 2.2 मीटर चलने के बाद अमेरिकन मशीन के सामने फिर अड़चन आ गई। ऐसे में अब  13वें दिन भी लोगों की जान नहीं बचा सकी है। टनल के अं

Uttarkashi Tunnel Live Updates: उत्तरकाशी सुरंग में 41 जान बचाने को बना अब यह प्लान
लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Himanshu Kumar Lall
Sat, 25 Nov 2023 03:48 PM

Uttarkashi Tunnel Live Updates: उत्तरकाशी के सिलक्यारा सुरंग में ऑगर मशीन के 2.2 मीटर चलने के बाद अमेरिकन मशीन के सामने फिर अड़चन आ गई। ऐसे में अब  13वें दिन भी लोगों की जान नहीं बचा सकी है। टनल के अंदर फंसे 41 मजदूरों की जान बचाने को आज शनिवार सुबह से रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। उम्मीद जताई जा रही है कि टनल के अंदर से मजदूरों को सकुशल बाहल निकाल लिया जाएगा। ऑगर मशीन के समाने बार-बार धातु की चीज सामने आन के बाद रेस्क्यू अभियान थम रहा है। 

टनल के अंदर फंसे 41 मजदूरों को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए रेस्क्यू अभियान में जुटे कर्मियों ने अब दूसरा प्लान बनाया है। सिलक्यारा टनल के ऊपर से अब वर्टिकल ड्रिलिंग कर सुरंग के अंदर फंसे 41 लोगों की जान बचाने का प्लान बनाया गया है। 

Sat, 25 Nov 2023 03:48 PM

सीएम धामी ने बताया देरी की वजह 

सीएम पुष्कर सिंह धामी ने टनल हादसे में देरी के कारणों की वजह बताई। उत्तरकाशी में शनिवार दोपहर को प्रेसवार्ता कर सीएम धामी ने बताया कि ऑगर मशीन के खराब होने की वजह से देरी हो रही है। कहा कि जल्द ही खराब मशीन के पार्टस को बाहर निकाल लिया जाएगा। 

Sat, 25 Nov 2023 03:15 PM

उत्तरकाशी में निर्माण कंपनी पर मुकदमा दर्ज कराने की मांग 

रामनगर में विभिन्न संगठनों के पाधिकारियों ने राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजकर उत्तरकाशी की घटना को निर्माणधीन कंपनी की लापरवाही बताया है। उन्होंने कंपनी के अधिकारियों पर मुकदमा दर्ज करा जांच कराने की मांग की है। शनिवार को लोगों ने राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन एसडीएम राहुल शाह को सौंपा।

कहा कि उत्तरकाशी में बन रहे सुरंग में 41 मजबूर कई दिनों से फंसे हैं। आरोप लगाया कि मजदूरों को निकालने के कार्य मे भी लापरवाही बरती जा रही है। मजदूर जिंदगी और मौत से जूझ रहे हैं। उन्होंने कंपनी के अधिकारियों पर मुकदमा दर्ज करने को कहा।

साथ ही यह भी कहा कि सुरंग बनाने में वैज्ञानिक विधि अपनाया ही नहीं है। इस मौके पर राज्य आंदोलनकारी प्रभात ध्यानी, ललित रावत,सुमित बिष्ट, पार्वती देवी,पीताम्बर रावत आदि मौजूद थे।

Sat, 25 Nov 2023 02:31 PM

सीएम धामी पल-पल की ले रहे हैं अपडेट

सीएम पुष्कर सिंह धामी उत्तरकाशी सिलक्यारा टनल हादसे पर पल-पल की अपडेट ले रहे हैं। सीएम धामी ने रेस्क्यू अभियान से जुड़े कर्मियों से जानकारी जुटाई। इसी के साथ ही, सीएम धामी ने टनल के अंदर फंसे मजदूरों से भी बातकर उनकी हौसला अफजाई की थी। 

Sat, 25 Nov 2023 01:58 PM

टनल के अंदर फंसे 41 मजदूरों की स्थिति पर डॉक्टरों की पैनी नजर

श्रमिकों के स्वास्थ्य पर डॉक्टर और मनोचिकित्सक नजर बनाए हुए हैं। सचिव डॉ.नीरज खैरवाल ने बताया कि डॉक्टर और मनोचिकित्सक पूरे समय श्रमिकों से बात कर रहे हैं। कोई दिक्कत पता चलने पर तुरंत दवा भेजी जा रही हैं। किसी भी श्रमिक को कोई गंभीर समस्या नहीं है।

सभी स्वस्थ हैं और उन्हें पौष्टिक भोजन दिया जा रहा है। भोजन में चना, अंडा, ड्राईफ्रूट, पोहा, दाल,चावल, रोटी, सब्जी सप्लाई किए जा रहे हैं। श्रमिकों को कब्ज की दिक्कत को देखते हुए भोजन में फाइबर की मात्रा को बढ़ाया जा रहा है।

Sat, 25 Nov 2023 01:41 PM

मुकाम तक पहुंचने को मुश्किलों से मुकाबला

 उत्तरकाशी के सिलक्यारा की सुरंग में जारी रेस्क्यू ऑपरेशन में एक के बाद एक आ रही अड़चनें, मुश्किल काम को और मुश्किल बना रही हैं। बुधवार शाम सुरंग में सरिया आने और पाइप मुड़ने से काम बाधित हो गया था।

इस समस्या से निपटने के लगातार प्रयासों के बाद शुक्रवार को सफलता मिली। आठ सौ एमएम के पाइप में दो विशेषज्ञ बड़ी मुश्किल से रेंगते हुए 48 मीटर भीतर पहुंचे। इसके बाद उन्होंने सरिया, गार्डर और पाइप काटकर रास्ता साफ किया।

Sat, 25 Nov 2023 01:23 PM

‘जीपीआर’ ने दिखाई राह, आगे का रास्ता साफ

सिलक्यारा सुरंग के भीतर तकरीबन 57 से लेकर 60 मीटर तक फैले मलबे में आगे बढ़ने की राह दिखाने का काम, ग्राउंड पेनिट्रेटिक रडार(जीपीआर) तकनीक ने किया। इस तकनीक के एक्सपर्ट भारत भास्कर ने 48 मीटर लंबे 800 एमएम के पाइप के भीतर जोखिम भरे हिस्से में जाकर वीडियो बनाया। उपकरणों से जांच कर साफ किया कि अब आगे का 5.4 मीटर का रास्ता लगभग पूरी तरह साफ है।

Sat, 25 Nov 2023 01:05 PM

टनल के ऊपर वर्टिकल ड्रिलिंग कर जान बचाने का प्लान

उत्तरकाशी के सिलक्यारा टनल के ऊपर वर्टिकल ड्रिलिंग कर जान बचाने का प्लान बना गया है। उम्मीद है कि वर्टिकल ड्रिलिंग कर टनल के अंदर प्रवेश किया जा सकेगा। ऐसे में 41 मजदूरों की जान बचाई जा सकेगी। आपको बता दें कि वर्टिकल ड्रिलिंग करने के लिए मशीनों को पहुंचाने के लिए सड़क का भी निर्माण किया गया था। 

Sat, 25 Nov 2023 12:46 PM

रेस्क्यू ऑपरेशन में ऑगर मशीन ने भी तोड़ा दम, वर्टिकल ड्रिलिंग से बचेगी 41 जान 

रेस्क्यू ऑपरेशन में ऑगर मशीन ने भी तोड़ा दम, वर्टिकल ड्रिलिंग से बचेगी जान 
उत्तरकाशी के सिलक्यारा में मलबा हटाने के दौरान ऑगर मशीन के सामने कई बार कठिनाई सामने आई। मशीन के रुकने से लेकर खराब होने तक रेस्क्यू अभियान पर विराम भी लगा। टनल निर्माण में सरियों के जाल में फंसकर ऑगर मशीन से ड्रिलिंग कार्य कई बार प्रभावित था।

सूत्रों की बात मानें तो अमेरिकन ऑगर मशीन से ड्रिलिंग के साथ ही अन्य विकल्पों पर भी विचार किया जा रहा। सुरंग के अंदर पिछले 41 दिनों से फंसे लोगों करे सुरक्षित बाहर निकालने के लिए अब वर्टिकल ड्रिलिंग को एक बेहतर विकल्प के रूप में भी देखा जा रहा है। 

Sat, 25 Nov 2023 12:22 PM

टनल से बाहर निकालने के बाद मजदूरों के इलाज के लिए एम्स में 4 टीमें गठित

उत्तरकाशी सुरंग में फंसे मजदूरों के इलाज को एम्स ऋषिकेश पूरी तरह तैयार है। चिकित्सक अलर्ट मोड पर हैं और अस्पताल प्रशासन ने श्रमिकों के बेहतर उपचार को विशेषज्ञ चिकित्सकों की चार टीमें बनाई हैं।

उत्तरकाशी से एम्स पहुंचाए जाने की स्थिति में श्रमिकों को एम्स के हेलीपैड से सीधे अस्पताल के इमरजेंसी में ले जाया जाएगा। तैयारियों की बाबत एम्स अस्पताल प्रशासन के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ.नरेन्द्र कुमार ने बताया कि ट्रॉमा सेंटर के डिजास्टर वार्ड सहित अस्पताल के अन्य एरिया में 41 बेडों की पर्याप्त व्यवस्था है।

आपात स्थिति को देखते हुए विशेषज्ञ चिकित्सकों की चार टीमें गठित की हैं। इन टीमों में ट्रॉमा सर्जन, एनेस्थिसिया, मनोरोग और जनरल मेडिसिन विभाग के चिकित्सक शामिल हैं। संस्थान की कार्यकारी निदेशक प्रोफेसर डॉ.मीनू सिंह, सरकार के साथ संपर्क में हैं।

डॉ. नरेन्द्र ने कहा कि जरूरत पड़ी तो उत्तरकाशी भेजे जाने के लिए भी डॉक्टर्स और नर्सिंग अधिकारियों की एक टीम तैयार रखी गई है। एम्स के पास अपना हेलीपैड है, जहां एक बार में तीन हेलीकॉप्टर्स एक साथ उतारे जा सकते हैं।
 

Sat, 25 Nov 2023 11:38 AM

ऑगर मशीन के दोबारा चलने से रेस्क्यू अभियान को गति मिलने की उम्मीद

ऑगर मशीन के दोबारा चलने से रेस्क्यू अभियान को गति मिलने की उम्मीद

उत्तरकाशी टनल हादसे में ड्रिलिंग कर रही ऑगर मशीन के दोबारा चलने से रेस्क्यू अभियान को गति मिलने की उम्मीद है। माना जा रहा है कि टनल के अंदर फंसे 41 मजदूरों को जल्द ही बाहर निकाल लिया जाएगा। 

Sat, 25 Nov 2023 11:07 AM

टनल के बाहर मजदूरों के परिजन कर रहे इंतजार 

उत्तरकाशी टनल में रेस्क्यू अभियान जारी है। शनिवार सुबह से ही टनल के अंदर फंसे 41 मजदूरों  के परिजन अपनों का इंतजार कर रहे हैं। परिजनों को  उम्मीद है कि आज सभी टनल से सकुशल बाहर निकल  जाएंगे। 

Sat, 25 Nov 2023 10:38 AM

टनल में मशीन के बार-बार फंसने पर मैनुअल ड्रिलिंग की तैयारी

उत्तरकाशी टनल के अंदर ड्रिलिंग करते हुए बार-बार ऑगर मशीन को बाहर निकालने और अंदर भेजने में लगने वाले समय को देखते हुए अब आगे की ड्रिलिंग मैनुअल करने की तैयारी है। इस तरह आखिरी पाइप मैनुअल ही डालने की कोशिश की जाएगी। अब श्रमिकों तक पहुंचने के लिए करीब आठ मीटर की दूरी और रह गई है। 

Sat, 25 Nov 2023 10:17 AM

टनल के अंदर धातू के टुकड़ों से हो रही परेशानी

उत्तरकाशी टनल के अंदर ड्रिलिंग कर रही ऑगर मशीन के सामने कई दिक्कतें आ रहीं हैं।  2.2 मीटर खुदाई करने के बाद ऑगर मशीन रुक गई है। धातू के टुकड़े में ऑगर अटक गया। फिर से उसे निकाल कर कटिंग होगी।  

Sat, 25 Nov 2023 10:00 AM

कई प्लान फेल होने के बाद 41 जान बचाने को बना यह प्लान 

उत्तरकाशी टनल हादसे में रेस्क्यू अभियान के सारे प्लान फेल होते दिखाई दे रहे हैं। टनल में फंसे 41 मजदूरों को बाहर निकालने के लिए अब वर्टिकल ड्रिलिंग के प्लान पर भी काम करने की तैयारी है।  

Sat, 25 Nov 2023 09:50 AM

दो कदम पीछे हटकर आगे बढ़े इंजीनियर

सुरंग के भीतर मलबे को चीर कर इंजीनियरों ने 48 मीटर तक पाइप बिछाने में सफलता हासिल कर ली थी। इसी बीच ऑगर मशीन के आगे आई बाधाओं ने रफ्तार पर ब्रेक लगा दिया। इसके चलते शुक्रवार को 1.2 मीटर पीछे भी हटना पड़ा। अपर सचिव अहमद ने बताया कि पाइप आगे से मुड़ने के चलते काफी खराब हो गया था। ऐसे में एक्सपर्ट को 1.2 मीटर पाइप काटना पड़ा। 1.2 मीटर के रूप में दो कदम पीछे हटने के बाद रास्ता साफ हो गया।
 

Sat, 25 Nov 2023 09:41 AM

बचाव दल जाएगा टनल के अंदर श्रमिकों के पास

बचाव अभियान अब लगभग अंतिम चरण में है। इसके मद्देनजर एनडीआरएफ और एसडीआरएफ के जवान फंसे मजदूरों को पाइप की मदद से बाहर लाने के अभ्यास में लगे हैं। 800 एमएम का पाइप मलबे के आरपार होने के बाद, पहले उसकी सफाई कराई जाएगी। इसके बाद एनडीआरएफ के जवान, पाइप के जरिए मजदूरों तक पहुंचेंगे। वह मजदूरों को बचाव की प्रक्रिया बताएंगे और फिर शुरू होगी श्रमिकों की निकासी।