ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंड टिहरीस्वस्थ जीवन का आधार हैं योग, धर्मानंद उनियाल राजकीय महाविद्यालय नरेन्द्रनगर में बोले प्रो.राजेश कुमार उभान   

स्वस्थ जीवन का आधार हैं योग, धर्मानंद उनियाल राजकीय महाविद्यालय नरेन्द्रनगर में बोले प्रो.राजेश कुमार उभान   

योग के महत्त्व के विषय मे बोलते हुये कहा कि योग एक संतुलनकारी क्रिया है जो मन और शरीर मे सांमजस्य स्थापित करती है। शारीरिक, मानसिक, आध्यात्मिक और आत्मिक पहलुओं को एकीकृत कर स्वस्थ रहा जा सकता है।

स्वस्थ जीवन का आधार हैं योग, धर्मानंद उनियाल राजकीय महाविद्यालय नरेन्द्रनगर में बोले प्रो.राजेश कुमार उभान    
Himanshu Kumar Lallनरेन्द्रनगर, हिन्दुस्तान Wed, 19 Jun 2024 08:11 PM
ऐप पर पढ़ें

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (21 जून) से पहले धर्मानंद उनियाल राजकीय महाविद्यालय की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के अंतर्गत कार्यक्रम अधिकारी डॉ. संजय कुमार के नेतृत्व मे योग कार्यक्रम आयोजित किया गया। छात्र-छात्राओं के साथ समस्त स्टाफ ने योग किया। 

कार्यक्रम में योग से निरोग की बात कही गई। विदित है कि अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत देश में 21 जून 2015 से शुरू हुई थी। कार्यक्रम का शुभारंभ योग प्रतिज्ञा से करते हुए महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो. राजेश कुमार उभान ने कहा कि योग स्वस्थ जीवन का आधार है। साथ ही बताया कि भागदौड़ भरी जिंदगी मे खुद को स्वस्थ रखने का योग सबसे आसान तरीका हैं।  

यही वजह है कि आज भारतीय संस्कृति से जुड़ा योग विश्व मे प्रचलित हो चुकी हैं I इस मौके पर राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रम अधिकारी डॉ. संजय कुमार ने बताया कि इस वर्ष भारत सरकार ने 10वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की थीम “स्वंय और समाज के लिए योग”  रखी गई हैं जोकि पूरे विश्व को स्वस्थ जीवनशैली के प्रति जागरूक करने मे मील का पत्थर साबित होगी।

योग के महत्त्व के विषय मे बोलते हुये कहा कि योग एक संतुलनकारी क्रिया है जो मन और शरीर मे सांमजस्य स्थापित करती है। साथ ही शारीरिक, मानसिक, आध्यात्मिक और आत्मिक पहलुओं को एकीकृत कर स्वास्थ्य और जन कल्याण के लिए एक समग्र मार्ग प्रदान करता हैं जो आज तेज-रफ्तार दौड़ते जीवन में शांति का प्रमुख स्रोत हैं। 

इस मौके पर अर्थशास्त्र विभाग प्रभारी डॉ सुधा रानी ने कहा कि योग एक समग्र दृष्टिकोण है जो स्वंय के साथ विश्व को प्रकृति के साथ जोड़ता हैं I इस दौरान मुख्य रूप से डॉ. सृचना सचदेवा, डॉ. बीपी पोखरियाल, डॉ. देवेंद्र कुमार, डॉ. विजय प्रकाश, डॉ. सोनी तिलरा, डॉ.ज्योति शैली,  राकेश जोगी, सुरबीर दास, लक्ष्मी कैठेत, अजय, नितिन शर्मा, विशाल त्यागी, आदि सभी स्वंयसेवी उपस्थित रहें Iजबकि छात्र कृष्णा राणा योगा प्रशिक्षक की भूमिका मे रहें I