DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नदियों के बिना जीवन संभव नहीं: डॉ.अनिल जोशी

नदियों के बिना जीवन संभव नहीं: डॉ.अनिल जोशी

राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के तहत वन्य जीव संस्थान देहरादून की ओर से नौ दिवसीय गंगा जैव विविधता पद यात्रा देवप्रयाग संगम स्थल से शुरू हुई। क्षेत्रीय विधायक विनोद कंडारी और पर्यावरणविद पद्म श्री डॉ. अनिल जोशी ने नमामि गंगे ध्वज दिखकर पद यात्रा को रवाना किया। गुरुवार को देवप्रयाग से रवाना हुआ 12 सदस्यों का दल यात्रा के दौरान गंगा के किनारे बसे लोगों को जलजीवों के संरक्षण सहित गंगा पर्यावरण के प्रति लोगों को जागरूक करेंगे। इस मौके पर डॉ.अनिल जोशी ने कहा कि नदियों के बिना जीवन संभव नहीं है। वैज्ञानिक मंगल ग्रह पर जाने की तो सोच रहे हैं मगर पृथ्वी पर बहने वाली नदियों के बारे में नहीं सोचा जा रहा है। कहा नदियां हमारा जीवन हैं और अगर नदियां समाप्त हो जाएगी तो हमारा जीवन भी समाप्त हो जाएगा। उत्तराखंड की गंगा और यमुना नदी देश की 25 प्रतिशत आबादी को जलापूर्ति करती हैं, इसके कारण उत्तराखंड को वाटर बैंक भी कहा जाता है। देवप्रयाग विधायक विनोद कंडारी ने कहा कि उन्हे अपनी विधान सभा से गंगा जैव विविधता पद यात्रा को शुरू किए जाने पर खुशी है। कहा कि गंगा के जीवों का अस्तित्व बना रहना चाहिए। उन्होंने लोगों से बांज-बुरांस और अन्य प्रजाति के पौधों का रोपणकर जल स्रोत्रों को बचाए जाने की अपील की। कहा प्रत्येक छात्र-छात्राओं को पौध रोपण कर पर्यावरण संरक्षण में अपना योगदान देना चाहिए। डॉ. रुचि बडोला ने बताया कि विभिन्न पैदल मार्गों से होते हुए नौ जून को त्रिवेणीघाट ऋषिकेश में पद यात्रा संपन होगी। पद यात्रा में डॉ. परिवा बड़थ्वाल, डॉ.दीपिका डोगर, सुनीता रावत, अमानत गिल, अरविंद कुमार कुमार, दिवेद्वी, अजीत कुमार, प्रभाकर यादव, अदित देव, चिराग, अजय, विपुल मौर्य, अरविंद जियाल आदि शामिल है। फोटो

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Life is not possible without rivers: Dr. Anil Joshi