DA Image
27 अक्तूबर, 2020|3:10|IST

अगली स्टोरी

मनरेगा कार्यों की धीमी प्रगति से डीएम खफा

default image

जिला कार्यालय सभागार में डीएम डा वी.षणमुगम ने मनरेगा, एनआरएलएम, आईफेड, कृषि भूमि संरक्षण, रुर्बन कलस्टर, ग्राम्य विकास अभिकरण के कार्यों की प्रगति की समीक्षा बैठक ली। विकासखण्ड प्रतापनगर, नरेन्द्रनगर, थौलधार के अन्तर्गत मनरेगा एवं लाईवलीहुड कार्यों की खराब स्थिति एवं धीमी प्रगति पर जिलाधिकारी ने नाराजगी प्रकट करते हुए सीडीओ अभिषेक रूहेला को निर्देश दिये कि यदि वित्तीय वर्ष की समाप्ति तक निर्धारित लक्ष्यों की प्राप्ति नहीं हो पाती है, तो सम्बन्धित बीडीओ को एडवर्स एन्ट्री देना सुनिश्चित करें। यदि लक्ष्य प्राप्ति की स्थिति अत्यधिक खराब रहती है तो सम्बन्धित अधिकारी को रिर्वट करें।

डीएम ने यह भी समीक्षा बैठक में स्पष्ट किया कि विकासखण्ड स्तर पर कार्यों को सम्पादित करने के लिए बीडीओ के साथ-साथ पूरी टीम जिसमें जेई, कार्यक्रम अधिकारी, बीबीएम आदि की भी जिम्मेदारी निर्धारित करने के साथ-साथ दैनिक रुप से प्रगति की समीक्षा करने के लिए सीडीओ व डीडीओ सख्त निर्देश दिये। डीएम ने किसी भी योजना के क्रियान्वयन एवं लक्ष्य प्रप्ति के लिए टाईमलाईन व डेडलाईलान का निर्धारण करने का कहा। जिलाधिकारी ने कहा कि यदि कार्य समाप्ति की डेडलाईन को लक्ष्य मानते हुए कार्य करा जाय तो समय पर लक्ष्य की प्राप्ति होना सम्भव है। जिलाधिकारी ने मनरेगा कार्यो की समीक्षा के दौरान कहा कि इस योजना के अन्तर्गत मनरेगा जाब कार्ड धारक को एक-एक वर्ष में 100 दिन के रोजगार दिये जाने का प्रावधान है। इस मौके पर सीडीओ अभिषेक रुहेला, पीडी भरत चन्द्र भट्ट, डीडीओ आनन्द भाकुनी, प्रबंधक आजीविका डा हीराबल्लभ पंत आदि मौजुद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:DM upset due to slow progress of MNREGA works