DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आओ राजनीति करें-अब नारी की बारी : शिक्षा के लिए महिलाओं को मिले प्रोत्साहन राशि

महिलाएं लगातार शिक्षा के क्षेत्र में आगे तो बढ़ रही हैं, लेकिन ग्रामीण इलाकों में आज भी महिलाओं को उचित अवसर नहीं मिल पाते हैं। लोकतंत्र की नींव को मजबूत करने के लिए महिलाओं को पढ़ाना जरूरी है। यह बातें हरिद्वार के पढ़े-लिखे वर्ग ने आपके प्रिय अखबार ‘हिन्दुस्तान’ की ओर से आयोजित ‘आओ राजनीति करें- अब नारी की बारी’ अभियान के तहत शिक्षा पर आयोजित संवाद में कहीं।

महिला सशक्तीकरण के तमाम प्रयासों के बावजूद अभी समाज में महिलाओं की बड़ी आबादी हाशिये पर है। इसकी एक वजह से महिलाओं का शिक्षित न होना। हरिद्वार कार्यालय में शिक्षा पर आयोजित संवाद कार्यक्रम में हरिद्वार के पढ़े-लिखे वर्ग ने बेबाकी से अपने विचार रखे। उन्होंने कहा कि महिलाओं को शिक्षित करने के बाद ही देश आगे बढ़ सकता है। कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाओं को पढ़ाना होगा, चाहे इसके लिए सरकार को महिलाओं को प्रोत्साहन राशि ही क्यों न देनी पड़े।  

शहर के शिक्षक, समाजसेवी, सामाजिक कार्यकर्ताओं ने संवाद कार्यक्रम में शिरकत की। उन्होंने कहा कि महिलाओं को शिक्षित बनाने के लिए सरकार को अभी और अधिक प्रयास करने की जरूरत है। ग्रामीण क्षेत्र की महिलाएं शिक्षा से आज भी वंचित हैं। अशिक्षित महिलाएं अपनी बेटियों को शिक्षित बनाने का प्रयास भी कम हीं करती हैं। इसके लिए ग्रामीण इलाकों में जाकर लोगों को जागरूक करने की जरूरत है। कहा कि लोगों की सोच में बदलाव होने के बाद ही महिलाओं की शिक्षा में बदलाव आ सकेगा। कहा कि जब महिला शिक्षित होगी उसी के बाद चुनाव में जनप्रतिनिधि चुनने का निर्णय महिला अपनी स्वतंत्रता से कर सकेगी। 

राजनीति में पति नहीं आने देते आगे 
वक्ताओं ने कहा कि राजनीति के क्षेत्र में पति महिलाओं को आगे नहीं आने देते है। निकाय चुनाव में महिलाओं को 50 फीसद आरक्षण तो दे दिया गया है, लेकिन अन्य किसी चुनाव में इतना आरक्षण क्यों नहीं दिया जा रहा है। आरक्षण मिलने के बाद भी पति महिलाओं को राजनीति में आगे नहीं आने दे रहे हैं। महिला जब शिक्षित होगी तभी अपने पति से आगे आकर काम कर सकेगी। 

शहर आगे बढ़ रहे, गांव पीछे हो रहे
संवाद में वक्ताओं ने कहा कि शहर आगे बढ़ रहा है और ग्रामीण पीछे होते जा रहे हैं। वक्ताओं ने इसका तर्क भी दिया। उन्होंने बताया कि इसका मुख्य कारण है कि ग्रामीण क्षेत्र की महिलाएं शिक्षित नहीं हो पा रही हैं। शहर की लड़की तो एजुकेशन पर ध्यान देती है, लेकिन ग्रामीण क्षेत्र में महिलाओं की शिक्षा पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। जिस कारण ये सब हो रहा है। 

महिलाओं के प्रति नजरिया बदलें
वक्ताओं ने कहा कि समाज में महिलाओं के प्रति लोगों का नजरिया बदलना होगा, तभी उन्हें सम्मान के साथ उनका हक मिल सकेगा। कहा कि सरकारी और सामाजिक संस्थाओं को समाज में ऐसा माहौल बनाना चाहिए कि महिलाएं स्वयं शिक्षित होने का प्रयास करे और अपने बेटियों को भी शिक्षित बना सके।  
 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:women say they should be given incentives in aao rajniti karein talk show held in haridwar