DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तराखंड  ›  उत्तराखंड में मानसून ने दी दस्तक,चमोली सहित आठ जिलों में बारिश का अलर्ट
उत्तराखंड

उत्तराखंड में मानसून ने दी दस्तक,चमोली सहित आठ जिलों में बारिश का अलर्ट

हिन्दुस्तान टीम, देहरादूनPublished By: Himanshu Kumar Lall
Mon, 14 Jun 2021 10:03 AM
उत्तराखंड में मानसून ने दी दस्तक,चमोली सहित आठ जिलों में बारिश का अलर्ट

मानसून उत्तराखंड पहुंच गया है। मौसम विभाग ने दक्षिण पश्चिम मानसून के तय वक्त से करीब एक हफ्ते पहले उत्तराखंड पहुंचने की घोषणा कर दी है। इससे राज्य के सभी जिलों में में बारिश का सिलसिला तेज होने की उम्मीद है। मौसम विभाग ने भी राज्य में अगले पांच दिनों के लिए येलो अलर्ट जारी किया है।  मौसम विभाग के अनुसार, राज्य में मानसून का प्रवेश कुमाऊं वाले छोर से हुआ। पूरे प्रदेश पर इसका प्रभाव छा गया है। विभाग ने आशंका जताई कि सोमवार को पिथौरागढ़ और बागेश्वर में कहीं-कहीं भारी बारिश हो सकती है। राज्य के कई अन्य क्षेत्रों में बिजली चमकने और हल्की बारिश की संभावना है। मैदानी क्षेत्रों में 40 किलोमीटर तक की रफ्तार से हवाएं चलने की आशंका है। मौसम विभाग ने बताया-15 जून को नैनीताल, उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, पिथौरागढ़ में कहीं-कहीं भारी बारिश की संभावना है।  16 जून को उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग, पिथौरागढ़ जिलों में कहीं-कहीं भारी बारिश हो सकती है। 17 जून को पिथौरागढ़, बागेश्वर, नैनीताल, चंपावत जिलों में बारिश की संभावना है। 

सामान्य रहेगा मानसून
मौसम विभाग ने उत्तराखंड में इस बार मानसून के सामान्य रहने की उम्मीद जताई है। राज्य में मानसून सीजन तीस सितंबर तक माना जाता है। विभाग का आकलन है कि अगले करीब साढ़े तीन माह में राज्य में 1200 एमएम बारिश हो सकती है। मौसम वैज्ञानिक रोहित थपलियाल के अनुसार मानसून ने पूरे राज्य को कवर कर लिया है।

मानसून के आने के साथ अलर्ट 
मौसम विभाग ने मानसून अलर्ट के साथ ही प्रदेश में भारी बारिश, तीव्र बौछार, गर्जन के साथ बारिश को लेकर लोगों को सतर्कता बरतने को कहा है। जिला प्रशासन से संवेदनशील इलाकों में भूस्खलन और चट्टान गिरने, इस वजह से राजमार्ग, लिंक मार्गों के अवरुद्ध होने, पहाड़ी क्षेत्रों में कहीं-कहीं नाला एवं नदियों में पानी बढ़ने, निचले इलाकों में जलभराव को लेकर आगाह किया है। विशेषकर पहाड़ी इलाकों में बारिश के समय यात्रा करने के दौरान पर्याप्त सावधानी रखने को कहा गया है।


 

संबंधित खबरें