DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तराखंड › वाडिया के वैज्ञानिकों को जियो थर्मल एनर्जी टैप करने में सफलता,जानिए देश में पहली बार हॉट स्प्रिंग से कितने मैगावाट बनेगी बिजली
उत्तराखंड

वाडिया के वैज्ञानिकों को जियो थर्मल एनर्जी टैप करने में सफलता,जानिए देश में पहली बार हॉट स्प्रिंग से कितने मैगावाट बनेगी बिजली

हिन्दुस्तान टीम, देहरादून। शैलेन्द्र सेमवालPublished By: Himanshu Kumar Lall
Sat, 24 Jul 2021 09:43 AM
वाडिया के वैज्ञानिकों को जियो थर्मल एनर्जी टैप करने में सफलता,जानिए देश में पहली बार हॉट स्प्रिंग से कितने मैगावाट बनेगी बिजली

वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलॉजी ने हिमालयी क्षेत्र के गर्म पानी के स्रोतों (हॉट स्प्रिंग) की एनर्जी टैप कर बिजली बनाने की दिशा में उल्लेखनीय सफलता प्राप्त की है। वैज्ञानिकों ने आंकलन किया है कि उत्तर पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र में मौजूद 340 गर्म पानी के स्रोतों पर पावर प्लांट लगाए जाएं तो इससे दस हजार मेगावाट बिजली प्राप्त की जा सकती है। हाइड्रो पावर के मुकाबले इससे मिलने वाली बिजली अपेक्षाकृत सस्ती होगी और इससे पर्यावरण को भी कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा। वाडिया इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिक डा.समीर के तिवारी का यह शोध अंर्तराष्ट्रीय जर्नल हिमालयन जियोलॉजी में छपा है।

वाडिया ने जोशीमठ के पास तपोवन में गर्म पानी के स्रोत से पांच मेगावाट बिजली बनाने के देश के पहले वायनरी पावर प्लांट के लिए उत्तराखंड की ही एक कंपनी जयदेव एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड से करार किया है। संस्थान भविष्य में बिजली कंपनियों से अपने शोध कार्य शेयर कर जियो थर्मल बिजली उत्पादन को बढ़ावा देगा। हिमालय में सारे धार्मिक तीर्थ हाई एल्टीट्यूड पर 1500 से 3000 मीटर के आसपास हैं। इसलिए गर्म पानी के स्रोत भी यहां मिलते हैं। वाडिया ने इन स्रोत का रिजरवायर टेम्प्रेचर आंकलन डिजोल्व सिलिका जियो थर्मोमीटर के आधार पर किया।  इसमें तपोवन जोशीमठ में सबसे अधिक 145 डिग्री के आसपास रिजरवायर टेम्प्रेचर 450 मीटर गहरे बोर होल के बाद मिला है। वैज्ञानिकों के मुताबिक तपोवन जैसी ही अन्य संभावना उत्तराखंड में मौजूद है। 

हिमालय में क्यों है गर्म पानी के स्रोत
महादीपों को आपस में जोड़ने वाली संरचना रिंग ऑफ फायर कहलाती है। भारत में यह सरंचना हिमालय से होकर गुजरती है। इससे ही पृथ्वी की भीतरी तह की ऊष्मा लावा या गर्म पानी के रुप में बाहर निकलती रहती है। हिमालय में इन्ही दरारों के आसपास जियो थर्मल स्प्रिंग की एक्टीविटी होती है। यानि सारे गर्म पानी के स्रोत इन्ही थ्रस्ट पर हैं। स्रोत से सिलिका-कैमिकल एलीमेंट के रुप में पानी के साथ बाहर आता है। इसी के आधार पर जमीन के नीचे की गर्मी का अध्ययन किया जाता है। हिमालय की प्लेट बाउंड्री-थ्रस्ट, मेंटल व कोर में विभाजित है। इसकी गहराई करीब साठ से सौ किलोमीटर है। यह तीन सूचक जोन हिमालय मेन सेंटल थ्रस्ट-एमसीटी मेन ब्राउंडी थ्रस्ट-एमबीटी, इंडिया सांको सूचक जोन-आईटीएसजेड में बंटा है। 

हिमालय में 340 गर्म पानी के स्रोत
जियोलॉजीकल सर्वे ऑफ इंडिया द्वारा 2001 में जारी एटलस के मुताबिक 340 प्राकृतिक स्रोत उत्तर पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र में मौजूद हैं। जिसमें 100 का अध्ययन वाडिया कर चुका है। इसमें 40 उत्तराखंड, 20 हिमाचल, 15 जम्मू कश्मीर व लद्दाख में हैं। इन स्रोत की सतह का औसत तापमान 30 से लेकर 95 डिग्री के आसपास है। उत्तराखंड में सबसे गर्म स्रोत रेणी ग्राम पंचायत के तहत तपोवन सलधार का है। जो सतह पर 93 डिग्री सेल्सियस तक गर्म है। हिमाचल में मणिकरन में 95, लद्दाख के फूगा में 89, यमनोत्री के सूर्यकुंड में 84, बद्रीनाथ में 56 डिग्री सेल्सियस गर्म स्रोत पाए गए। 

देश में सत्तर प्रतिशत बिजली कोयले से बनती है। बीस प्रतिशत बिजली हाइड्रोपावर से बनती है। कोल के इस्तेमाल से बहुत कार्बन उत्सर्जन होता है। जबकि हाइड्रो परियोजना से भी पर्यावरण सम्बंधी नुकसान झेलने पड़ते हैं। गर्म पानी के स्रोत से बिजली बनने से पर्यावरण व कार्बन उत्सर्जन जैसी कोई बाधा नहीं है। डा.कालाचांद सांई, निदेशक वाडिया भू विज्ञान संस्थान, देहरादून।

उपयोगिता-
-हाइड्रो की तरह गाद आने, पानी की कमी होने की दिक्कत नहीं 
-पर्यावरण फ्रेंडली
-कार्बन उत्सर्जन नहीं
-नियमित ऊर्जा स्रोत

भारत में पहली बार
न्यूजीलैंड, जापान, आइसलैंड, फिनलैंड, इटली आदि देशों में जियो थर्मल स्प्रिंग के इस्तेमाल से बिजली बनाई जा रही है। भारत में पहली बार यह प्रयास हो रहे हैं। जियो थर्मल तकनीक का प्लांट बनाने में एक आंकलन के अनुसार 1.6 ये 2.0 मिलियन डॉलर प्रति मेगावाट का खर्चा आता है। लेकिन बिजली बनने का खर्चा हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट से चार गुना कम महंगा है। हिमालय के गर्म पानी के स्रोतों के अलावा गोदावरी बेसिन, गुजरात में भी गर्म पानी के स्रोत हैं। कुमाऊं के गोरी गंगा में भी 10 किलोमीटर लम्बा जियोथर्मल फील्ड मौजूद है।

कहां है हॉट स्प्रिंग-
अलकनंदा घाटी-
स्प्रिंग                                     सतह का तापमान                                  ऊचांई-मीटर में
बद्रीनाथ-तप्तकुंड                         55.6                                                   3089                         
खिरोई                                        57.8                                                 2973
भापकुंड                                     44.7                                                   2680
तपोवन-सालधार                          93                                                        1953
हेलंग                                        60.8                                                     1210
लांगसी                                       53                                                         1225
गनोई                                         25.6                                                      1409
बिरही, गौरीकुंड                             47.3                                                     1930

भागीरथी घाटी-
भुक्की                                         52                                                           1730
झाया                                          44.1                                                        1808
गंगनानी                                     61                                                           1900
थेरंग                                            52.2                                                       1640
मातली                                        29.4                                                         1062

यमुना घाटी-
यमनोत्री-सूर्यकुंड                            84.3                                                     3070
जानकी चट्टी-खरसाली                     28.8                                                     2568
बनस                                             70                                                       2210
वोजारी                                            54.8                                                  1630                
कोटी-मनेप                                      35                                                        1429

संबंधित खबरें