ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडवनभूलपुरा में कर्फ्यू पर सामने आया बड़ा अपडेट, हल्द्वानी हिंसा के बाद जारी रहेंगी पाबंदियां या मिलेगी राहत 

वनभूलपुरा में कर्फ्यू पर सामने आया बड़ा अपडेट, हल्द्वानी हिंसा के बाद जारी रहेंगी पाबंदियां या मिलेगी राहत 

सुरक्षा और कानून व्यवस्था के लिए आईटीबीपी, एसएसबी, पीएसी, स्थानीय पुलिस और दूसरे जिलों से आए पुलिस के 1700 जवान चप्पे- चप्पे पर तैनात किए गए। वनभूलपूरा क्षेत्र को छावनी में तब्दील कर दिया गया।

वनभूलपुरा में कर्फ्यू पर सामने आया बड़ा अपडेट, हल्द्वानी हिंसा के बाद जारी रहेंगी पाबंदियां या मिलेगी राहत 
Himanshu Kumar Lallहल्द्वानी, हिन्दुस्तानTue, 20 Feb 2024 07:51 PM
ऐप पर पढ़ें

हल्द्वानी में वनभूलपुना में 8 फरवरी को हुई हिंसा के बाद बाद आज कर्फ्यू पर  बहुत बड़ा अपडेट सामने आया है। 12 दिन के बाद जिलाधिकारी वंदना सिंह ने वनभूलपुरा थाना क्षेत्र को रात्रि कर्फ्यू और नगर निगम के अतिक्रमण मुक्त क्षेत्र को कर्फ्यूसे मुक्त करने का आदेश जारी किया है।

डीएम ने वनभूलपुरा क्षेत्र में 8 फरवरी को फैली हिंसा के दौरान पूरे हल्द्वानी नगर क्षेत्र में कर्फ्यू लगाने का आदेश जारी किया था। विगत 8 फरवरी को वनभूलपुरा के मलिक का बगीचा क्षेत्र में नजूल भूमि पर बने मदरसा और धार्मिक स्थल को अतिक्रमण से मुक्त कराने के दौरान हिंसा फैली गई थी। जिसमें 6 लोगों की मौत समेत दर्जनों पुलिस कर्मी और क्षेत्रवासी घायल हो गए थे।

क्षेत्र में फैली हिंसा को देखते हुए जिलाधिकारी वंदना सिंह ने शांति व्यवस्था बनाए रखने को पूरे हल्द्वानी नगर क्षेत्र में कर्फ़्यू लगाने का आदेश जारी किया था। 10 फरवरी को क्षेत्र की कानून व्यवस्था में आए सुधार को देखते हुए जिलाधिकारी ने सिर्फ वनभूलपुरा थाना क्षेत्र तक कर्फ्यू को सीमित कर दिया था।

11 फरवरी को फिर से कर्फ़्यू क्षेत्र को सीमित कर दिया गया। जिसके तहत वनभूलपुरा के गौजाजाली, एफडीआई गोदाम व रेलवे बाजार क्षेत्र व शेष वनभूलपुरा क्षेत्र में कर्फ़्यू लगाया गया था। जिसके बाद कुछ दिनों के क्षेत्र में सिर्फ नाइट कर्फ़्यू ही लिया गया। जबकि अतिक्रमण मुक्त मलिक का बगीचा क्षेत्र की 100 मीटर की परिधि में कर्फ़्यू के आदेश जारी किए गए।

सोमवार को जिलाधिकारी वंदना सिंह ने क्षेत्र में पूरी तरह से शांति व्यवस्था कायम होने पर पूरे वनभूलपुरा क्षेत्र को कर्फ़्यू से मुक्त करने का आदेश जारी कर दिया है। यह आदेश मंगलवार सुबह 5 बजे से प्रभावी ढंग से लागू होगा।

पूरे वनभूलपुरा क्षेत्र को कर्फ़्यू से मुक्त किए जाने पर क्षेत्र के उलेमाओं और बुद्धिजीवियों ने जिला प्रशासन का आभार व्यक्त किया है। साथ उन्होंने शहरवासियों से क्षेत्र में अमन-चैन कायम रखने के लिए सभी से प्रशासन का सहयोग करने की अपील की‌।

कर्फ्यू को हटाया लेकिन फोर्स रहेगी तैनात 
वनभूलपुरा से कर्फ्यू पूरी तरह से हटा दिया गया है, लेकिन अभी भी पैरामिलिट्री का पहरा कुछ दिन रहेगा। हालांकि पैरामिलिट्री की कुछ कंपनी वापस भेज दी गई हैं। शुक्रवार के बाद हालात बिल्कुल सामान्य हो जाएंगे। बीते आठ फरवरी को वनभूलपुरा में हुई हिंसा के बाद पूरे क्षेत्र में कर्फ्यू लगा दिया गया था।

सुरक्षा और कानून व्यवस्था के लिए आईटीबीपी, एसएसबी, पीएसी, स्थानीय पुलिस और दूसरे जिलों से आए पुलिस के 1700 जवान चप्पे- चप्पे पर तैनात किए गए। वनभूलपूरा क्षेत्र को छावनी में तब्दील कर दिया गया। इस दौरान पुलिस का सर्च अभियान चला और हिंसा में शामिल लोगों की गिरफ्तारी भी पुलिस ने की।

बीते शनिवार से प्रशासन ने कर्फ्यू में ढील देना शुरू की। सोमवार की देर रात डीएम ने वनभूलपुरा को कर्फ्यू मुक्त करने का आदेश जारी कर दिया। मंगलवार की सुबह से ही लोगों का आवागमन और बाहर निकलना पूरी तरह शुरू हो गया।

भले ही वनभूलपुरा और उसके हिंसाग्रस्त क्षेत्र से कर्फ्यू हटा दिया गया हो लेकिन सुरक्षा के लिहाज से फोर्स को अभी भी मुस्तैद रखा गया है। वहीं स्थानीय और दूसरे जिलों की फोर्स को उनके ड्यूटीरत थानों चौकियों में वापस भेज दिया गया है, लेकिन आईटीबीपी और एसएसबी का पहरा अभी भी कड़ी निगरानी बनाए हुए हैं।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक पैरामिलिट्री की कुछ कंपनियां शुक्रवार तक वनभूलपुरा में तैनात रहेंगी। एसएसपी पीएन मीणा ने बताया कि हालात पूरी तरह काबू में हैं। सुरक्षा व्यवस्था के चलते कुछ फोर्स को रोका गया है। जल्द ही उसे भी हटा दिया जाएगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें