ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडउत्तरकाशी टनल की सक्सेस स्टोरी बनेगी मॉडल, यह हो रही है तैयारी

उत्तरकाशी टनल की सक्सेस स्टोरी बनेगी मॉडल, यह हो रही है तैयारी

देश में आपदाओं के प्रभावी प्रबंधन के लिए उत्तरकारशी की सिलक्यारा सुरंग में चला रेस्क्यू ऑपरेशन राष्ट्रीय स्तर पर विशिष्ट मॉडल बनने जा रहा। रेस्क्यू ऑपरेशन में उनके प्रयास और अनुभव का ब्योरा मांगा।

उत्तरकाशी टनल की सक्सेस स्टोरी बनेगी मॉडल, यह हो रही है तैयारी
Himanshu Kumar Lallदेहरादून।  चंद्रशेखर बुड़ाकोटीWed, 06 Dec 2023 09:36 AM
ऐप पर पढ़ें

देश में आपदाओं के प्रभावी प्रबंधन के लिए उत्तरकारशी की सिलक्यारा सुरंग में चला रेस्क्यू ऑपरेशन राष्ट्रीय स्तर पर एक विशिष्ट मॉडल बनने जा रहा है। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) ने उत्तराखंड सरकार समेत इस अभियान से जुड़ी 14 एजेंसियों से रेस्क्यू ऑपरेशन में उनके प्रयास और अनुभव का ब्योरा मांगा है।

केंद्र, राज्य सरकार और विभिन्न एजेंसियों के 17 दिन के अनुभवों को पिरोकर भविष्य में आपदाओं से निपटने और उनके असर को कम करने के लिए रणनीति बनाई जाएगी। एनडीएमए का मानना है कि सिलक्यारा रेस्क्यू ऑपरेशन के नतीजों के आधार पर देश में आपदा प्रबंधन की एक ठोस नीति और व्यवस्था तैयार की जा सकती है।

एनडीएमए के सलाहकार-ऑपरेशन एवं संचार कर्नल कीर्ति प्रताप सिंह ने इस बाबत सभी एजेंसियों को पत्र भेजते हुए जानकारियां मांगी है। राज्य के मुख्य सचिव डॉ. एसएस संधु से एसडीआरएफ, राज्य पुलिस, उत्तरकाशी के डीएम और एसएसपी, फायर सर्विस, यूएसडीएम समेत विभिन्न एजेंसियों का इनपुट मांगा गया है। एनडीएमए का कहना है कि सिलक्यारा के जटिल रेस्क्यू ऑपरेशन में देश में आपदाओं के प्रबंधन का ठोस रास्ता तलाशने की अच्छी संभावना है।

ये जानकारी मांगी
एनडीएमए ने इस ऑपरेशन में शामिल अधिकारियों, कर्मचारियों, विशेषज्ञों के साथ ही तकनीकी जानकारियां और चुनौतियों के साथ ही उनके समाधान के प्रयास का ब्योरा मांगा है। सभी एजेंसियों को यह भी बताना होगा हो कि इस ऑपरेशन से किन-किन क्षेत्रों में सुधार का सबक मिला है। भविष्य में ऐसे किसी हादसे के होने पर उसके प्रभावी नियंत्रण के लिए सुझाव भी मांगे हैं।

सिलक्यारा सुरंग हादसा
सिलक्यारा में बन रही सुरंग में 12 नवबंर को भूस्खलन की वजह से 60 मीटर हिस्सा मलबे से भर गया था। इस सुरंग के भीतर 41 मजदूर फंस गए थे। उन्हें बाहर निकालने के लिए 17 दिन तक मेगा रेस्क्यू ऑपरेशन चला। 28 नवंबर को सुरंग में फंसे सभी 41 मजदूरों को सकुशल बाहर निकाला गया।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें