ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तराखंडउत्तरकाशी हादसा:यात्रा मार्ग पर बिना रुके बस का था तीसरा ट्रिप,चेक पोस्ट पर उठे सवाल-जांच टीम गठित 

उत्तरकाशी हादसा:यात्रा मार्ग पर बिना रुके बस का था तीसरा ट्रिप,चेक पोस्ट पर उठे सवाल-जांच टीम गठित 

उत्तरकाशी जिले में रविवार शाम को एक बड़े सड़क हादसे मं 23 तीर्थ यात्रियों की मौत हो गई। प्रारंभिक जांच में पता चला है कि यात्रा रूट पर बिना रुके बस का था तीसरा ट्रिप था। जांच के आदेश हुए हैं।

उत्तरकाशी हादसा:यात्रा मार्ग पर बिना रुके बस का था तीसरा ट्रिप,चेक पोस्ट पर उठे सवाल-जांच टीम गठित 
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तान टीमMon, 06 Jun 2022 09:27 AM
ऐप पर पढ़ें

उत्तरकाशी जिले में डामटा के निकट दुर्घटनाग्रस्त बस के दस्तावेज तो पूरे थे लेकिन सफर बिना रुके ही कर रही थी। परिवहन अधिकारियों के अनुसार, बस की यात्रा मार्ग पर बिना रुके यह लगातार तीसरी ट्रिप थी। देर शाम परिवहन विभाग की टीम भी मौके पर पहुंच गई थी। संपर्क करने पर परिवहन उपायुक्त सनत कुमार सिंह ने बताया कि वाहन के दस्तावेज की प्रारम्भिक जांच कर ली गई है।

वहां का ट्रिप कार्ड और ग्रीन कार्ड बना हुआ है। ट्रिप कार्ड के अनुसार यात्रा के वक्त बस में 27 लोग सवार थे। राहत एवं बचाव कार्य के बाद दुर्घटना के कारण की जांच की जाएगी। गंभीर घायलों को चालीस हजार की राहत दी जा रही है। यह राहत अन्य मदों से प्रदान की गई राहत से अलग होगी।

मृतकों के परिजनों को परिवहन विभाग की दुर्घटना राहत निधि से एक एक लाख का मुवावजा दिया जाएगा। आपको बता दें कि यमुनोत्री हाइवे पर रविवार शाम डामटा के पास एक बस के गहरी खाई में गिर जाने से 26 श्रद्धालुओं की मौत हो गई और चालक समेत चार गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों को डामटा के अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

हादसे का प्रथमदृष्टया कारण ओवरस्पीड बताया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घटना पर दुख व्यक्त करते हुए मारे गए लोगों के परिजनों को दो दो लाख और घायलों के परिजनों को पचास, पचास हजार रुपए की सहायता देने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ने घटना पर दुख व्यक्त करते हुए अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए।

जानकारी के मुताबिक, रविवार को हरिद्वार से बस संख्या- यूके 04- पीए-1541 मध्य प्रदेश के पन्ना जिले के यात्रियों को लेकर यमुनोत्री धाम के लिए रवाना हुई। शाम करीब पौने सात बजे डामटा के पास रिखाऊ खड्ड के पास अचानक अनियंत्रित होकर 200 मीटर गहरी खाई में जा गिरी।

हादसे की सूचना के बाद एसडीआरएफ, पुलिस, आपदा और राजस्व विभाग की टीमों रेस्क्यू शुरू किया। पुलिस अधीक्षक अर्पण यदुवंशी ने बताया कि बस में चालक समेत 30 लोग सवार थे। घटना में 26 लोगों की मौत हुई है, जबकि चार लोग गंभीर घायल हुए हैं। मौके पर मौजूद पुरोला के थानाध्यक्ष ने बताया कि, 8 शवों को खाई से निकाला जा रहा है।

यमुनोत्री हाईवे पर क्रेश वेरियर न होने से हो रही दुर्घटनायें
यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर अधिकांश जगाहों पर क्रेश वेरियर न होना भी दुर्घटनायें का बड़ा कारण माना जा रहा है। लेकिन एनएच बड़कोट उसके बाद भी यात्रा मार्ग पर क्रेश बेरियर नही लगा पा रहा है। कुछ यही कारण रविवार सांय को भी देखने को मिला। जहां पर क्रेश वेरियर न होने के कारण एमपी के यात्रियों की एक बस सीधे खाई में जा गिरी।

यात्रा प्ररांभ से पहले सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी ने जब नैनबाग से डामटा से जानकी चट्टी तक मार्ग का निरीक्षण किया तो उन्होंने यात्रा मार्ग पर संकरी रोड़ व मोडों पर क्रेश वेरियर नही पाये। जिस पर उन्होंने चिंता जाहिर की और क्रेश वेरियर न होने की रिपोर्ट शासन को दी।

वहीं एपएच व यात्रा से जुड़े विभागों को सुरक्षित यात्रा के लिए क्रेश वेरियर होने अति आवश्यक बताया। लेकिन उसके बाद भी जिला प्रशासन व एनएच के अधिकारियों ने जिन स्थानों पर क्रेश वेरियर नही उन स्थानों पर क्रेश वेरियर लगाने अभी उचित नही समझे। यही कारण रहा की गत माह डबरकोट के पास एक यात्री वाहन दुर्घटना ग्रस्त हुआ।

जिसमें तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई थी। वहीं दूसरी घटना रविवार सांय को डामटा के पास घटी जहां क्रेश वेरियर न होने के कारण बस सीधे खाई में जा गिरी। यदि यहां क्रेश वेरियर होता तो सायद दुर्घटना टल सकती और 26 यात्रियों की जान बच सकती थी।

परिवहन मंत्री ने जताया शोक, हादसे के पीड़ित की सहायता के निर्देश
परिवहन मंत्री चंदनराम दास ने हादसे पर गहरा शोक जताते हुए अधिकारियो को मृतक आश्रितों और घायलों की नियमानुसार  सहायता के निर्देश दिए। उन्होंने अधिकारियों को हादसे की वजह की जांच के लिए भी कहा है। मंत्री ने कहा की यह हादसा बेहद दुखद घटना है। हादसे के प्रभावितों की नियमानुसार सहायता की जाएगी। अधिकारियों को यात्रा मार्ग पर नियमित पेट्रोलिंग करने और वाहनों की नियमित जांच को भी जारी रखने को कहा है। 

epaper