DA Image
31 अक्तूबर, 2020|10:42|IST

अगली स्टोरी

उत्तराखंड: जून माह में औसत से आधी ही हुई बारिश, जानिए क्या होगा नुकसान

farmer photo-ht

उत्तराखंड में इस बार मानसून देरी से पहुंचने के चलते जून में औसत से आधी बारिश भी नहीं हुई है। आमतौर पर 23 जून तक प्रदेश में दस्तक देने वाला मानसून इस बार देरी से आया। इस बीच प्री मानसून की फुहारें राज्य को आधा भी न भिगो सकीं। औसत से 86 एमएम कम बारिश पौड़ी तो हरिद्वार में महज 21.1 एमएम बारिश से मौसम वैज्ञानिक हैरान हैं। मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक उत्तराखंड में जून माह में आम तौर पर 177.8 एमएम बारिश होती है। मगर इस साल 84.3 एमएम बारिश हुई है। विभाग के मुताबिक राज्य के आठ जिले 50 फीसदी सूखे ही रह गए। 

हरिद्वार में सबसे कम बारिश
इस दौरान सबसे कम बारिश हरिद्वार में 21.1 एमएम तो यूएसनगर में सर्वाधिक 136 एमएम दर्ज की गई। अल्मोड़ा, बागेश्वर, नैनीताल, पिथौरागढ़, यूएसनगर, चमोली, देहरादून और टिहरी जिलों में 50 प्रतिशत या इससे भी कम बारिश हुई। 

चक्रवात-विक्षोभ बना देरी की वजह 
पंतनगर विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिक डा. आरके सिंह ने बताया कि गुजरात में आए चक्रवात और पश्चिमी विक्षोभ के  चलते राज्य में मानसून कमजोर हुआ। राज्य में मानसून 23-24 जून को आता है। मगर इस बार 24 जून को कुमाऊं के कुछ हिस्सों में बारिश हुई। दो जुलाई को राज्य के कुछ जिलों में मानसून आया, लेकिन पूरी तरह मानसून राज्य में पांच जुलाई के बाद ही बरसा। 

20 प्रतिशत बुवाई घटी, 10% लागत बढ़ी  
राज्य में खरीफ की फसलों धान, सोयाबीन, मक्का आदि की बुवाई जून मध्य से होती है। मगर इस बार बारिश कम या न होने से किसानों को ट्यूबवेल से सिंचाई करनी पड़ी। इससे डीजल और बिजली की खपत बढ़ी है। तराई किसान संगठन अध्यक्ष तजेंदर सिंह वर्क ने बताया कि जून में बारिश नहीं होने से एक 15-20 प्रतिशत बुवाई कम हुई है। 10 प्रतिशत तक खेती की लागत बढ़ गई। 

राज्य में आज भारी बारिश का अलर्ट
देहरादून। मौसम विज्ञान केंद्र ने चेतावनी जारी की है कि देहरादून, नैनीताल, चंपावत, पिथौरागढ़, चमोली, टिहरी और पौड़ी में सोमवार को भारी से बहुत भारी बारिश हो सकती है। इसपर राज्य आपदा कंट्रोल रूम ने सभी जिलों को अलर्ट रहने और अहतियात बरतने के निर्देश दिए हैं। रविवार को भी दून में कुछ देर हल्की रिमझिम बारिश हुई। दोपहर को कुछ देर धूप भी निकली। तापमान अधिकतम 35 डिग्री सेल्सियस रहा। जबकि न्यूनतम 25 डिग्री रहा। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि अगले 24 घंटों में दून समेत छह जिलों में भारी से बहुत भारी बारिश होने की आशंका है। इस दौरान 115.6-204.4 एमएम तक बारिश हो सकती है। दून में इस दौरान तापमान अधिकतम 32 डिग्री रहने का अनुमान है।  


 

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:uttarakhand witnesses deficit rainfall in state