ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडमोदी के लिए कलियर शरीफ में दुआ मांग बोले शादाब शम्स- खतरे में नहीं मुसलमान

मोदी के लिए कलियर शरीफ में दुआ मांग बोले शादाब शम्स- खतरे में नहीं मुसलमान

उत्तराखंड वक्फ बोर्ड के चेयरमैन ने मुस्लिम समुदाय के लोगों के साथ हरिद्वार स्थित साबिर साहब की दरगाह में प्रधानमंत्री मोदी की जीत के लिए दुआ की। उन्होंने पीएम मोदी के लिए चादर भी चढ़ाई।

मोदी के लिए कलियर शरीफ में दुआ मांग बोले शादाब शम्स- खतरे में नहीं मुसलमान
Subodh Mishraपीटीआई,हरिद्वारWed, 15 May 2024 04:57 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तराखंड वक्फ बोर्ड के चेररमैन शादाब शम्स ने बुधवार को कहा कि वैश्विक अनिश्चितताओं से निपटने के लिए भारत को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मजबूत नेतृत्व की जरूरत है। लोकसभा चुनाव के बीच पीएम मोदी का समर्थन करते हुए शादाब शम्स ने कहा कि उन्हें भारत के प्रधानमंत्री के रूप में तीसरा कार्यकाल मिलना चाहिए। विपक्षी गठबंधन निशाना साधते हुए शम्स ने कहा कि अगर देश की बागडोर कमजोर हाथों में चली गई तो नुकसान होगा।

शादाब शम्स ने पीटीआई से कहा कि पूरी दुनिया पर युद्ध के बादल मंडरा रहे हैं। विभिन्न देशों में अराजकता और संघर्ष का माहौल व्याप्त है। ऐसे समय में भारत को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मजबूत नेतृत्व की जरूरत है। उन्हें तीसरा कार्यकाल मिलना ही चाहिए. अगर इस समय इसका नेतृत्व कमजोर हाथों में चला गया तो देश को नुकसान होगा। शम्स ने कहा, हमने कलियर शरीफ में चादर चढ़ाई और हाथ उठाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में एक बार फिर मजबूत सरकार बनने की दुआ की।

उन्होंने आगे कहा कि पीएम मोदी की योजना समाज के हर वर्ग तक पहुंची। उनके कार्यकाल में सड़कें बन रही हैं और देश आगे बढ़ रहा है। शम्स ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि पीएम मोदी के शासन में न तो मुसलमान खतरे में हैं और न ही संविधान। कुछ नेताओं की दुकान' जरूर खतरे में है। दावा किया कि विपक्ष मुसलमानों को गुमराह करने की कोशिश कर रहा है और झूठ फैला रहा है।

गौरतलब है कि शम्स की यह टिप्पणी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान के बाद आई है। पीएम ने एक टीवी चैनल से कहा था कि जब उन्होंने घुसपैठिए संबंधी टिप्पणी की थी तो वह मुस्लिम समुदाय का जिक्र नहीं कर रहे थे। वह सदमें में हैं। आपसे किसने कहा कि जब भी कोई अधिक बच्चों वाले लोगों के बारे में बात करता है तो यह निष्कर्ष निकाला जाता है कि वे मुसलमान हैं? आप मुसलमानों के प्रति इतने अन्यायी क्यों हैं? गरीब परिवारों में भी यही स्थिति है। जहां गरीबी है, वहां अधिक बच्चे हैं। चाहे उनका सामाजिक दायरा कुछ भी हो। मैंने हिंदू या मुस्लिम का जिक्र नहीं किया। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा था कि वह सार्वजनिक जीवन में कभी भी 'हिंदू-मुस्लिम' नहीं करेंगे।