DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तराखंड › उत्तराखंड : पिथौरागढ़ में बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त, दो दर्जन सड़कें बंद
उत्तराखंड

उत्तराखंड : पिथौरागढ़ में बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त, दो दर्जन सड़कें बंद

संवाददाता, पिथौरागढ़Published By: Shivendra Singh
Thu, 16 Sep 2021 06:51 PM
उत्तराखंड : पिथौरागढ़ में बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त, दो दर्जन सड़कें बंद

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में गुरुवार को बारिश से जनजीवन पटरी से उतर गया। जनपद के विभिन्न हिस्सों में बारिश से लोग परेशान रहे। सड़कों पर जलभराव होने से यात्रियों व वाहन चालकों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ा।

सीमांत जनपद में आसमानी आफत थमने का नाम नहीं ले रही। दो दिन बारिश का सिलसिला थमने के बाद गुरुवार को फिर बारिश हुई। दोपहर बाद जनपद के डीडीहाट, कनालीछीना, थल सहित विभिन्न हिस्सों में झमाझम बारिश हुई।  इससे जनजीवन अस्त-व्यस्त रहा। बारिश से कई सड़कें पानी से भर गईं, जिससे वाहन चालकों और यात्रियों के साथ ही राहगीरों को भी खासी परेशानी झेलनी पड़ी। जलभराव होने से कई जगह जाम की स्थिति बनी रही। बारिश के बाद सोर घाटी सहित अन्य घाटी वाले इलाके घने कोहरे के आगोश में लिपटे नजर आए। नदियों का जलस्तर भी बारिश के बाद बढ़ने से किनारे बसी आबादी की चिंता बढ़ गई है। इधर, काली नदी का जलस्तर 888.50 मीटर पहुंच गया, जबकि इसका चेतावनी स्तर 889 मीटर है।

जिले में करीब दर्जनभर सड़कें बंद
बारिश के बाद जिले में पांच बॉर्डर रोड सहित 11 सड़कें बंद हैं, जिससे 20 हजार की आबादी को खासी परेशानी झेलनी पड़ रही है। चीन सीमा को जोड़ने वाली सोबला-दर-तिदांग सड़क 91 दिन बाद भी नहीं खुल सकी। जबकि तवाघाट-लिपुलेख सड़क पिछले तीन दिनों से बंद है। ग्रामीण सड़कों के बंद रहने से 50 से अधिक गांवों में सप्लाई पूरी तरह ठप है। जिससे इन गांवों में राशन व अन्य वस्तुओं की किल्लत शुरू हो गई है। 

बागेश्वर में बारिश से तीन मकान क्षतिग्रस्त
बागेश्वर में बारिश का सिलसिला गुरुवार को भी जारी रहा। सबसे अधिक नुकसान कपकोट तहसील में हुआ है। मंगलवार और बुधवार की रात हुई बारिश से जिले में तीन मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं। जबकि एक आंतरिक सड़क अभी बंद है। बारिश ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है। क्षेत्र में धान मढ़ाई का काम प्रभावित हो रहा है। जिला आपदा प्रबंधन कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार कपकोट तहसील के बड़ेत गांव में बारिश से सरुली देवी पत्नी वीर राम का मकान आंशिक क्षतिग्रस्त हो गया। बागेश्वर तहसील में गैराण निवासी दिनेश राम पुत्र किशन राम और दिनेश राम पुत्र किशन राम का मकान क्षतिग्रस्त हो गया। दोनों परिवारों ने पड़ोसियों के यहां शरण ली है।

संबंधित खबरें