DA Image
27 जनवरी, 2021|3:45|IST

अगली स्टोरी

हर की पैड़ी को दोबारा मिला गंगा का दर्जा, स्कैप चैनल का शासनादेश हुआ रद्द 

haridwar kumbh mela 2021

 

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के हरिद्वार गंगा आरती में शामिल होने से दो दिन पूर्व सरकार ने हर की पैड़ी को फिर से गंगा का दर्जा दे दिया है। इसके लिए 2016 में जारी स्कैप चैनल संबंधित शासनादेश निरस्त कर दिया गया है। इसी के साथ खड़खड़ी से हर की पैड़ी होते हुए कनखल तक की जलधारा को स्वत: गंगा का दर्जा मिल गया है। 

सचिव आवास शैलेश बगौली की ओर से बुधवार को इसके आदेश जारी किए गए। आदेश में विभाग की ओर से 14 दिसंबर 2016 को जारी शासनादेश में इस क्षेत्र का उल्लेख स्कैप चैनल के रूप में किए जाने संबंधित निर्णय समाप्त किए जाने की जानकारी दी है। हालांकि स्कैप चैनल शब्द हटाने के अलावा उक्त शासनादेश के अन्य बिंदू अब भी प्रभावी रहेंगे।

इस तरह इस क्षेत्र में निर्माणों पर फिर सवाल खड़ा हो सकता है। गौरतलब है मैदानी क्षेत्रों में गंगा और उसकी सहायक नदियों के किनारे दो सौ मीटर के दायरे में निर्माण प्रतिबंधित करने संबंधित एनजीटी के आदेश के क्रम में राज्य सरकार दिसंबर 2016 में उक्त शासनादेश जारी किया था। इससे गंगा के दौ सौ मीटर दायरे में हुए निर्माण कार्यों को फौरी राहत तो मिल गई थी, लेकिन संत समाज सहित अन्य लोग शुरुआत से ही इस आदेश को निरस्त करने की मांग कर रहे थे। 

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के दौरे से पहले आदेश
हर की पैड़ी को फिर से गंगा का दर्जा देने का प्रस्ताव करीब डेढ़ साल से आवास विभाग के पास विचाराधीन था। सीएम त्रिवेंद्र रावत पूर्व में कई बार सहमति भी जता चुके थे। अब सरकार ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के दौरे से ठीक पहले, उक्त शासनादेश जारी एक तरह से सिचासी बढ़त दर्ज कर दी है।

नड्डा चार दिसंबर को हर की पैड़ी गंगा आरती में शामिल होंगे। जनवरी से प्रस्तावित कुंभ मेला से पहले भी लोक आस्था के इस विषय पर निर्णय लेने का दबाव सरकार पर बढ़ गया था।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:uttarakhand government cancels har ki padi ghat haridwar escape channel status