ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडमजदूरों को बचाने वाले रैट माइनर्स को मिलेंगे 50-50 हजार, CM धामी का बड़ा ऐलान

मजदूरों को बचाने वाले रैट माइनर्स को मिलेंगे 50-50 हजार, CM धामी का बड़ा ऐलान

बुधवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उत्तरकाशी के चिन्यालीसौड़ स्वास्थ्य केंद्र में 41 श्रमिकों से मुलाकात की। इसके बाद उन्होंने कहा, 'मैं उन सभी से मिला हूं। वे स्वस्थ और खुश हैं।

मजदूरों को बचाने वाले रैट माइनर्स को मिलेंगे 50-50 हजार, CM धामी का बड़ा ऐलान
Swati Kumariहिंदुस्तान टाइम्स,उत्तरकाशीWed, 29 Nov 2023 06:14 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तराखंड के उत्तरकाशी टनल हादसे के 41 मजदूरों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है। अब उत्तराखंड सरकार ने मजदूरों की जान बचाने वालों (रैट माइनर्स) को इनाम देने की घोषणा की है। सीएम ने ऐलान किया कि जिन लोगों ने सुरंग खुदाई में काम किया है, उन्हें 50-50 हजार रुपए दिए जाएंगे। बुधवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उत्तरकाशी के चिन्यालीसौड़ स्वास्थ्य केंद्र में 41 श्रमिकों से मुलाकात की। इसके बाद उन्होंने कहा, 'मैं उन सभी से मिला हूं। वे स्वस्थ और खुश हैं। चिकित्सा जांच की गई है। किसी को कोई समस्या नहीं है। आगे की चिकित्सा जांच के लिए उन्हें आज एम्स, ऋषिकेश भेजा जाएगा। 

वहीं, सीएम धामी ने बुधवार को चिन्यालीसौड़ अस्पताल में भर्ती श्रमिकों से मिलकर उनका हालचाल जाना और उन्हें एक-एक लाख रू की प्रोत्साहन राशि का चेक सौंपा। इसके अलावा, खुदाई के लिए सुरंग के अंदर गए बचावकर्मियों को राज्य सरकार की तरफ से 50-50 हजार रुपये का पुरस्कार दिया जाएगा। केंद्र और राज्य सरकार की विभिन्न एजेंसियों द्वारा लगातार युद्धस्तर पर चलाए गए बचाव अभियान के 17 वें दिन मंगलवार रात सिलक्यारा सुरंग में फंसे सभी 41 श्रमिकों को सकुशल बाहर निकाल लिया गया था। श्रमिकों को बाहर निकाले जाने के बाद उन्हें सिलक्यारा से 30 किलोमीटर दूर चिन्यालीसौड़ अस्पताल में बनाए गए 41 बिस्तरों के विशेष वार्ड में ले जाया गया जहां उन्हें चिकित्सकीय निगरानी में रखा गया है। हांलांकि, सभी श्रमिक स्वस्थ हैं। 

वार्ड में भ्रमण के दौरान मुख्यमंत्री ने एक—एक करके सभी श्रमिकों से उनका हाल—चाल जाना और पीठ थपथपाकर उनका हौसला बढ़ाया । इस दौरान कई श्रमिकों ने बिस्तर से उठकर उनका चरण स्पर्श किया तथा उनका आभार जताया। एक श्रमिक ने अपने मोबाइल फोन से मुख्यमंत्री के साथ सेल्फी भी ली। इस दौरान, मुख्यमंत्री ने चंपावत जिले के टनकपुर के रहने वाले श्रमिक पुष्कर सिंह ऐरी की मां से फोन पर बात की और कहा कि सभी श्रमिकों को कुशल बचाकर राज्य सरकार ने अपना वचन निभाया है। उन्होंने कहा कि उनका पुत्र सुरक्षित है और हायर सेंटर में जांच करवाने के उपरांत उसे घर भेज दिया जाएगा । 

अस्पताल के बाहर आकर उन्होंने श्रमिकों के परिजनों से भी बात की और पूछा कि उन्हें भोजन आदि की कहीं कोई समस्या तो नहीं है। बाद में मीडिया से बातचीत में धामी ने कहा कि सभी लोग स्वस्थ और प्रसन्न हैं और वे उन्हें बाहर निकालने में प्रयास करने वाले लोगों और एजेंसियों का धन्यवाद कर रहे हैं । उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का लगातार बचाव अभियान पर विशेष ध्यान बना रहा और वह माता—पिता की तरह श्रमिकों की चिंता करते रहे, इसके लिए श्रमिकों ने उनका भी आभार व्यक्त किया । उन्होंने कहा कि इस बचाव अभियान में दुनिया के सबसे अच्छे प्रयास किए गए ।

 सीएम ने कहा कि सुरंग में फंसे रहने के दौरान 16 दिनों तक उन्होंने हिम्मत बांधी रखी और साथ ही उन्हें बाहर निकालने का प्रयास कर रहे लोगों का भी हौसला बढ़ाया और इसी लिए उन्हें प्रोत्साहन राशि दी गयी है। धामी ने कहा कि सुरंग हादसे के चलते हम सब इस बार दीवाली नहीं मना पाए और अब सभी श्रमिकों को सुरक्षित निकाले जाने के बाद दीवाली का जश्न मनाया जाएगा। उन्होंने श्रमिकों के परिजनों को देहरादून में मुख्यमंत्री आवास में दीवाली मनाने हेतु आमंत्रण भी दिया।

बारह नवंबर को चारधाम यात्रा मार्ग पर बन रही साढ़े चार किलोमीटर लंबी सुरंग का एक हिस्सा ढह जाने से मलबे के दूसरी ओर 41 श्रमिक फंस गए थे जो युद्धस्तर पर चलाए गए बचाव अभियान के बाद मंगलवार को सकुशल बाहर निकाले गए । 
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें