ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडउत्तराखंड: 5 दिन से टनल में फंसे 40 मजदूर, रेस्क्यू ऑपरेशन में लगेंगे और 2-3 दिन, ये है वजह

उत्तराखंड: 5 दिन से टनल में फंसे 40 मजदूर, रेस्क्यू ऑपरेशन में लगेंगे और 2-3 दिन, ये है वजह

उत्तराखंड के उत्तराकाशी में पिछले 5 दिनों से फंसे मजदूरों को सुरक्षित बाहर निकालने की कोशिश जारी है। दिन रात रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा है। एक्सपर्ट्स और आधुनिक मशीनों की मदद भी ली जा रही है।

उत्तराखंड: 5 दिन से टनल में फंसे 40 मजदूर, रेस्क्यू ऑपरेशन में लगेंगे और 2-3 दिन, ये है वजह
Aditi Sharmaलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीThu, 16 Nov 2023 05:29 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तराखंड के उत्तराकाशी में 40 मजदूर पिछले 5 दिनों से फंसे हुए हैं। उन्हें सुरक्षित बाहर निकालने के लिए दिन रात रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा है लेकिन अभी तक सफलता नहीं मिल पाई है। वहीं अब बताया जा रहा है मजदूरों को सुरक्षित बाहर निकालने में 2-3 दिन का समय और लग सकता है। 

मजदूरों को निकालने के लिए आधुनिक मशीनों की मदद ली जा रही है। गुरुवार को भी अमेरिकन ऑगर मशीन इंस्टॉल करके फिर से रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया गया। इस बीच केंद्रीय मंत्री वीके सिंह गुरुवार को स्थिति का जायजा लेने पहुंचे। उन्होंने बताया कि मजदूरों को सुरक्षित बाहर निकालने में 2-3 दिन का समय और लग सकता है। उन्होंने कहा कि वैसे तो बचाव कार्य जल्द पूरा किया जा सकता है, यहां तक ​​कि शुक्रवार तक भी, लेकिन सरकार अप्रत्याशित कठिनाइयों को ध्यान में रखते हुए लंबी समयसीमा तय कर रही है।

मजदूरों की सुरक्षा सबसे जरूरी

साइट पर मौजूद वीके सिंह ने कहा, हमारी प्राथमिकता यह सुनिश्चित करना है कि फंसे हुए मजदूर सुरक्षित हैं और उन्हें जल्द से जल्द बचाया जाए। प्रधानमंत्री से लेकर मुख्यमंत्री तक हर कोई हर संभव तरीके से मदद कर रहा है। हमें उस मशीन के साथ कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ा जो पहले इस्तेमाल की जा रही थी और अब एक तेज़, अधिक शक्तिशाली मशीन तैनात की गई है।

वीके सिंह ने कहा, हमारा टारगेट है कि ऑपरेशन 2-3 दिन में खत्म हो जाए। ये जल्दी भी खत्म हो सकता है लेकिन कहीं फिर कोई परेशानी ना आ जाए, इसलिए लिए हम ज्यादा समय लेकर चल रहे हैं। सभी सुझावों पर विचार किया जा रहा है। विदेशी एक्सपर्ट्स के साथ-साथ देश के एक्सपर्ट्स की  भी सलाह ली जा रही है।

मजदूरों से की  बात

वीके सिंग ने बताया कि उन्होंने मजदूरों से भी बात की और उन्होंने हिम्मत बनाई हुई है। उन्हें पता है कि सरकार उन्हें बचाने की कोशिश कर रही है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें