ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडट्रैकिंग पर निकले UP के 4 पर्यटकों ने रातभर सामने देखी मौत, भारी बारिश के बीच जंगलों में भटके रास्ता

ट्रैकिंग पर निकले UP के 4 पर्यटकों ने रातभर सामने देखी मौत, भारी बारिश के बीच जंगलों में भटके रास्ता

घने जंगल एवं दुर्गम रास्ते से रात्रि में एसडीआरएफ की टीम के द्वारा चार युवकों को कड़ी मशक्कत के बाद सकुशल रेस्क्यू कर लिया गया।  पर्यटकों को रेस्क्यू करने के बाद सुरक्षित स्थान पर लाए।

ट्रैकिंग पर निकले UP के 4 पर्यटकों ने रातभर सामने देखी मौत, भारी बारिश के बीच जंगलों में भटके रास्ता
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तानWed, 19 Jun 2024 10:02 AM
ऐप पर पढ़ें

ट्रैकिंग रूट पर निकले चार पर्यटकों को 18 जून की रात जिंदगीभर याद रहेगी। यूपी के रहने वाले पर्यटक ट्रैकिंग के लिए उत्तराखंड के चोपता से देवरिया ताल के लिए ट्रैक पर निकले थे। पर्यटक जंगलों में रास्ता भटक गए थे। गूगल मैप के सहारे रास्ता ढूंढ रहे पर्यटकों की मुसीबत दोगुनी हो गई थी।

पर्यटकों का बारिश में मोबाइल फोन गिर गया घने जंगलों में रातभर फंसे पर्यटकों ने किसी तरह मंगलवार रात करीब 9 बजे रुद्रप्रयाग पुलिस से संपर्क किया। सूचना मिलते ही एसडीआरएफ की टीम रेस्क्यू के लिए देवरिया ताल की ओर रवाना हुई।

घने जंगल एवं दुर्गम रास्ते से रात्रि में  एसडीआरएफ की टीम के द्वारा चार युवकों को कड़ी मशक्कत के बाद सकुशल रेस्क्यू कर लिया गया।  एसडीआरएफ टीम ने पर्यटकों को रेस्क्यू करने के बाद सुरक्षित स्थान पर लेकर आए। यह सभी पयर्टक यूपी के बरेली शहर के रहने वाले हैं।

मूसलाधार बारिश के बीच शुरू किया रेस्क्यू
18 जून को  यूपी बरेली निवासी अभय गौड़ (22), अतीव आहूजा (23), आर्यन पटानी (23), और मोनीष गौतम (23) ने  पर्यटक स्थल चोपता से देवरिया ताल तक ट्रैकिंग करने का निर्णय लिया। वे गूगल मैप की सहायता से पहाड़ियों और जंगलों के बीच पगडंडियों पर चल पड़े।

यात्रा के दौरान आधे रास्ते पहुंचते ही अचानक तेज बारिश शुरू हो गई। उनका फोन भी पानी में गिर गया, जिससे डाउनलोड किए गए गूगल मैप्स बंद हो गए और वे रास्ता भटक गए,बढ़ते अंधेरे और बारिश ने स्थिति को और भी बिगाड़ दिया।

उन्होंने अपनी स्थिति पुलिस से साझा की, स्थानीय पुलिस से सूचना मिलते ही एसडीआरएफ की टीम ने तत्परता दिखाते हुए एसडीआरएफ उत्तराखंड पुलिस की अगस्तमुनि टीम ने सब इंस्पेक्टर धर्मेंद्र सिंह के नेतृत्व में रात में ही रेस्क्यू का कार्य शुरू किया गया।

अगस्तमुनि स्थित एसडीआरएफ पोस्ट से पांच जवानों की एक टीम को तुरंत देवरिया ताल की ओर रवाना किया गया,दुर्गम पहाड़ी रास्ते और भारी बारिश के बीच रात्रि में ही SDRF टीम ने देवरिया ताल की ओर ट्रैक किया।

रात में दोबारा किया शुरू रेस्क्यू अभियान
देवरिया ताल पहुंचने के बाद भी युवकों का पता नहीं चला, इसके बाद टीम ने देवरिया ताल से चोपता की ओर दूसरे मार्ग पर ट्रैकिंग शुरू कर दोबारा रेस्क्यू के लिए निकले। घने अंधेरे के बीच टीम ने टॉर्च जलाकर और मोबाइल फोन के माध्यम से संपर्क कर आवाज देकर चारों युवकों को ढूंढने का प्रयास किया।

आखिरकार, काफी प्रयासों के बाद रात के 2:30 बजे टीम ने उन्हें सुरक्षित रूप से खोज कर रेस्क्यू किया। भारी बारिश के कारण युवकों को चलने में मुश्किल हो रही थी, इस पर टीम ने उन्हें प्राथमिक चिकित्सा देते हुए सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने हेतु अभियान शुरू किया।

बुधवार सुबह 6:30 बजे टीम ने उन्हें सुरक्षित सारी गांव तक लेकर पहुंची, जहां उन्हें जिला पुलिस द्वारा सुरक्षित किया गया। अभय, अतीव,आर्यन और मोनीष गौतम ने उन्हें सकुशल रेस्क्यू करने हेतु एसडीआरएफ की टीम को धन्यवाद दिया।

घने जंगलों के बीच रात्रि में इस साहसिक रेस्क्यू ऑपरेशन में अगस्त्यमुनि पोस्ट के प्रभारी सब इंस्पेक्टर धर्मेंद्र सिंह, कांस्टेबल अनूप, कांस्टेबल मुकेश, कांस्टेबल धीरेंद्र, पैरामेडिक्स विनय और होमगार्ड अरुण शामिल रहे।