ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडदेश की 1 इंच भूमि लेना भी नामुमकिन, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का भारत-चीन बॉर्डर पर प्लान

देश की 1 इंच भूमि लेना भी नामुमकिन, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का भारत-चीन बॉर्डर पर प्लान

द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बताया कि पीएम मोदी के नेतृत्व वाली केंद्रीय सरकार ने सात आईटीबीपी बटालियन की स्वीकृति प्रदान कर दी है। चार बटालियन स्थापित होने के साथ ही 5000 जवानों की भर्ती भी हुई है।

देश की 1 इंच भूमि लेना भी नामुमकिन, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का भारत-चीन बॉर्डर पर प्लान
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, लाइव हिन्दुस्तानFri, 10 Nov 2023 01:25 PM
ऐप पर पढ़ें

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि देश के दुश्मनों के लिए भारत की एक 1 इंच जमीन लेना भी नामुमकिन होगा। देश की हिमालय सरहदों में हिमवीरों की तैनाती की वजह  से हर देशवासी सुरक्षित महसूस करता है। देहरादून में आईटीबीपी ( भारत-तिब्बत बॉर्डर पुलिस) मुख्यालय में आईटीबीपी के स्थापना दिवस पर बतौर मुख्य अतिथि बोलते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बताया कि पीएम मोदी के नेतृत्व वाली केंद्रीय सरकार ने सात आईटीबीपी बटालियन की स्वीकृति प्रदान कर दी है।

इनमें से चार बटालियन स्थापित होने के साथ ही 5000 जवानों की भर्ती भी हो चुकी  है। मंत्री शाह का कहना थाा कि करीब-करीब  3000 हजार करोड़ की लागत से स्वीकृत बटालियनें भारत-चीन बॉर्डर पर तैनात होंगी।  शाह ने कहा कि भारत-चीन बॉर्डर पर कड़ी सुरक्षा के लिए देश के बहादुर हिमवीर तैनात हैं, और अब चीन सीमा पर बसे गांव वाइब्रेंट विलेज बनेंगे। इसके लिए केंद्रीय सरकार कारगर नीति बनाकर कार्य कर रही है।

केंद्रीय मंत्री शाह ने कहा कि पिछले 10 सालों में आईटीबीपी का खर्च  तीन गुना तक बढ़ाया गया है। भारत-चीन बॉर्डर पर सड़कों, पुलों, और हेलीपैड निर्माण सहित बुनियादी सुविधाओं को विकसीत  करने के लिए 2023 में 12 हजार करोड़ से अधिक की धनराशि स्वीकृत की जा चुकी है, जो 10 साल पहले तक महज 4000 करोड़ रुपये ही थी। 

शाह ने कहा कि आईटीबीपी के बहादुर जवानों के लिए रेलवे और हवाई यात्रा में अर्द्ध सैनिक बलों के लिए रिजर्वेशन कोटा लागू  किया गया है। कहना था कि पिछले 9 सालाों में देश की आंतरिक सुरक्षा पहले से ज्यादा मजबूत हुई है। केंद्रीय मंत्री शाह ने कहा  कि कश्मीर, नार्थ ईस्ट और वामपंथी हिंसा में उल्लेखनीय कमी आई। देश की सरहदों पर दवा और जरूरी सामान आपूर्ति ड्रोन से होगी, जिससे बहादुर जवानों को किसी भी प्रकार की कोई समस्या न हो। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें