two women climbed atop water overhead tanks pressing demand to reinstate them in aiims rishikesh dehradun - एम्स में नौकरी की बहाली के लिए टंकी पर चढ़ी युवतियां DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एम्स में नौकरी की बहाली के लिए टंकी पर चढ़ी युवतियां

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश से निकाले गए आउटसोर्स कर्मचारियों का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। शुक्रवार तड़के नर्सिंग से निकाली गई दो युवतियां रेलवे स्टेशन जीआरपी चौकी के समीप स्थित पानी की टंकी पर चढ़ गईं। सूचना मिलने पर प्रशासन के हाथ-पांव फूल गये। निष्कासित आउटसोर्स कर्मियों ने चेताया कि बहाली न होने तक आंदोलन जारी रहेगा।  शुक्रवार तड़के करीब पांच बजे कंचन और मनीषा चंचल रेलवे स्टेशन स्थित पानी की टंकी पर चढ़ गईं। उनके समर्थन में डेढ़ दर्जन से अधिक युवतियां भी पानी की टंकी की सीढ़ियों पर बैठ गई। सूचना मिलने पर बैराजमार्ग पर कर्मचारी संघर्ष मोर्चा के लोग भी रेलवे स्टेशन पहुंचे और एम्स प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। टंकी पर चढ़ी कंचन और मनीषा चंचल ने कहा कि जब तक एम्स प्रशासन निकाले गए सभी आउटसोर्स कर्मचारियों को बहाल नहीं करता है, वह टंकी से नहीं उतरेगी। कर्मचारी संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष दीपक रयाल ने बताया कि आंदोलन में शामिल होने के कारण मनीषा चंचल के पति लैब असिस्टेंट सतीश चंचल को सेवा से हटा दिया गया।

टंकी पर चढ़ी दोनों युवतियों ने लिखित संदेश भेजकर बहाली की मांग की है। सूचना पर ऋषिकेश एसडीएम प्रेमलाल, तहसीलदार रेखा आर्य, कोतवाली से एसएसआई मनोज नैनवाल पुलिस फोर्स लेकर मौके पर पहुंचे और युवतियों से वार्ता का प्रयास आरंभ कर दिया था। आउटसोर्सिंग संघर्ष मोर्चा के दीपक रयाल का कहना है कि एम्स से निकाले गए सभी कर्मचारियों की बहाली तक आंदोलन जारी रहेगा।  टंकी पर चढ़ी युवतियों के समर्थन में राधा राणा, मोनिका, प्रतिभा, साधना, ममता, शिवानी, सरिता, पूजा, सुमन वर्मा, शोभा चौहान, लक्ष्मी नेगी, राजबाला, अनिता भंडारी, सतेश्वरी, प्रतिभा  पानी की टंकी की सीढ़ियों पर बैठी। कहा कि मनीषा तथा उसके पति सतीशचंद चंचल को एक साथ नौकरी से निकाला गया है। उन्होंने कर्मचारियों को शीघ्र बहाल करने की मांग उठाई है। 

 

ऋषिकेश एम्स के उप निदेशक का किया घेराव
ऋषिकेश। एम्स के आउटसोर्स कर्मियों के समर्थन में सर्वदलीय संघर्ष समिति के पदाधिकारियों का पारा चढ़ गया। उन्होंने आंदोलन कर रहे कर्मियों से वार्ता करने आये एम्स के उपनिदेशक एवं जनसंपर्क अधिकारी का घेराव कर दिया। इस दौरान उनकी एसडीएम और सीओ से भी तीखी नोकझोंक हुई। पुलिस फोर्स ने किसी तरह एम्स के दोनों अधिकारियों को सुरक्षित निकाला।

 

16 घंटे बाद पानी की टंकी से नीचे उतरीं दोनों आंदोलनकारी
ऋषिकेश। विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल और एम्स निदेशक प्रो. रविकांत के बीच देर रात चली वार्ता के बाद करीब 9.10 बजे पानी की टंकी पर चढ़ीं दोनों आंदोलनकारी युवतियां नीचे उतर आयी हैं। इस मौके पर  मेयर अनीता ममगाईं ने दोंनों युवतियों को जूस पिलाकर आंदोलन खत्म कराया। इस मौके पर निर्णय लिया गया कि विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, मेयर अनीता ममगाईं और एम्स निदेशक प्रो.रविकांत के साथ आंदोलनकारियों के मुखिया की बैठक होगी।

 
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:two women climbed atop water overhead tanks pressing demand to reinstate them in aiims rishikesh dehradun