ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडमजदूरों के बाहर आने के लिए टाइमलाइन देना गलत, अधिकारी ने क्यों दिया ऐसा बयान?

मजदूरों के बाहर आने के लिए टाइमलाइन देना गलत, अधिकारी ने क्यों दिया ऐसा बयान?

मजदूरों को बचाने का काम आज सुबह 9 बजे के आसपास फिर शुरू हो सकता है। अधिकारियों का मानना है कि ये पूरा ऑपरेशन आज-आज में पूरा हो जाएगा, हालांकि उनका कहना ये भी है कि इसके लिए कोई टाइमलाइन देना गलत है।

मजदूरों के बाहर आने के लिए टाइमलाइन देना गलत, अधिकारी ने क्यों दिया ऐसा बयान?
Aditi Sharmaलाइव हिंदुस्तान,उत्तराकाशीFri, 24 Nov 2023 08:00 AM
ऐप पर पढ़ें

उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में निर्माणाधीन सिलक्यारा सुरंग में 11 दिनों से फंसे 41 मजदूरों को बचाने के काम में गुरुवार  को फिर से रुकावट आ गई। दरअसल जिस प्लेटफॉर्म पर ड्रिलिंग मशीन टिकी हुई है, उसमें दरारें दिखने के बाद ड्रिलिंग रोक दी गई।वहीं बताया जा रहा है कि रेस्क्यू ऑपरेशन आज 9 बजे के आसपास फिर शुरू होगा। अधिकारियों का मानना है कि ये पूरा ऑपरेशन आज-आज में पूरा हो जाएगा, हालांकि उनका कहना ये भी है कि ये रेस्क्यू ऑपरेशन एक जंग की तरह है और इसके लिए कोई टाइमलाइन देना ठीक नहीं है।
    

इसके पीछे की वजह बताते हुए उन्होंने कहा कि एक समयसीमा देने से उन लोगों पर बहुत प्रेशन बनता है जो दिन रात मुश्किल परिस्थितियों में रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटे हुए हैं।  राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) के सदस्य लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) सैयद अता हसनैन ने कहा, कई विशेषज्ञ राय दे रहे हैं कि मजदूरों को आज शाम, कल सुबह बचाया जा सकता है, लेकिन याद रखें कि ये ऑपरेशन एक युद्ध की तरह हैं। इन ऑपरेशनों को समयरेखा नहीं दी जानी चाहिए। युद्ध में, हम नहीं जानते कि दुश्मन कैसे प्रतिक्रिया देगा। सुरंग किस एंगल से गिरी है, हमें नहीं पता।

उन्होंने आगे कहा, फंसे हुए लोगों के साथ-साथ बचावकर्मियों की सुरक्षा का ध्यान रखना जरूरी है और ऑपरेशन को एक समय सीमा के भीतर सीमित करना गलत होगा। यह चुनौतीपूर्ण काम है। यह उम्मीद करते रहना कि अगले दो घंटों में बचाव कर लिया जाएगा, कार्यबल पर दबाव डालता है। यह गलत है।

बता दें, उत्तराखंड के चार धाम मार्ग में निर्माणाधीन सुरंग का एक हिस्सा ढह जाने के बाद 12 नवंबर को विभिन्न एजेंसियों द्वारा बचाव अभियान शुरू होने के बाद से गुरुवार रात को तीसरी बार ड्रिलिंग कार्य रोका गया है। एक अधिकारी के अनुसार जिस प्लेटफॉर्म पर 25 टन की ड्रिलिंग मशीन लगी हुई है, उसे स्थिर करने के लिए गुरुवार को ड्रिलिंग रोक दी गई। संरचना में कुछ दरारें दिखाई दीं, लेकिन इसकी कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई।
    
 दोपहर में, दिल्ली में एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि दोपहर 1.10 बजे मामूली कंपन देखा गया। इसमें कहा गया कि जिस तेजी से मशीन काम कर रही थी, उसका फिर से आकलन किया जा रहा है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें