ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडट्रैफिक रूल तोड़ने के मामले 75 फीसदी तक बढ़े, इतने करोड़ रुपयों का हुआ चालान

ट्रैफिक रूल तोड़ने के मामले 75 फीसदी तक बढ़े, इतने करोड़ रुपयों का हुआ चालान

आरटीओ (प्रवर्तन) शैलेश तिवारी ने बताया कि इस अवधि में 82,108 चालान किए गए। बीते साल इसी अवधि में 46,846 चालान किए गए थे, लेकिन इस बार 75.27 फीसदी का इजाफा हुआ। ट्रैफिक नियम तोड़ने पर चालान भी हुआ है।

ट्रैफिक रूल तोड़ने के मामले 75 फीसदी तक बढ़े, इतने करोड़ रुपयों का हुआ चालान
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तानWed, 15 Nov 2023 06:47 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तराखंड में ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों की संख्या में इजाफा हो रहा है। हैरानी की बात है कि विभाग सख्ती के बाद भी ट्रैफिक नियम तोड़ने के मामलों में 75 फीसदी तक इजाफा हुआ है। परिवहन विभाग ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों के खिलाफ लगातार सख्ती बरत रहा है।

विभागीय टीमों ने दस महीने में 82,108 चालान काटे और 14.01 करोड़ रुपये जुर्माना भी वसूला। अकेले दुर्घटनाओं के कारक अभियोगों में 14,404 चालान किए गए। इसके बावजूद रोड सेफ्टी के प्रति लोग जागरूक नहीं हो रहे हैं। परिवहन विभाग ने देहरादून संभाग के अंतर्गत देहरादून, टिहरी, उत्तरकाशी और हरिद्वार में इस साल एक जनवरी से लेकर अक्तूबर तक की कार्रवाई की समीक्षा की।

आरटीओ (प्रवर्तन) शैलेश तिवारी ने बताया कि इस अवधि में 82,108 चालान किए गए। बीते साल इसी अवधि में 46,846 चालान किए गए थे, लेकिन इस बार 75.27 फीसदी का इजाफा हुआ। इस बार 14.01 करोड़ रुपये का जुर्माना वसूला गया, जिसमें पिछले साल की अपेक्षा 33.6 फीसदी का इजाफा हुआ। पिछले साल 10.52 करोड़ रुपये जुर्माना वसूला गया था।

हेलमेट नहीं पहनने वालों पर सख्ती:आरटीओ (प्रवर्तन) शैलेश तिवारी ने बताया कि हेलमेट और सीट बेल्ट नहीं पहनने वालों पर भी सख्ती की गई। ऐसे मामलों में 27 हजार 629 चालान किए गए। जबकि, पिछले साल इसी अवधि में 6563 चालान काटे गए। हरिद्वार में सबसे ज्यादा 13 हजार 584 चालान किए गए।

ओवरलोडिंग के खिलाफ चलेगा अभियान: आरटीओ-प्रवर्तन शैलेश तिवारी ने बताया कि भविष्य में परिवहन विभाग की ओर से पहाड़ी रूटों पर ओवर लोडिंग के खिलाफ अभियान चलाया जाएगा। इसके साथ ही, स्कूल वाहनों का सत्यापन करने के अतिरिक्त सड़क सुरक्षा के लिए जागरूकता अभियान भी चलाया जाएगा। हेलमेट नहीं पहनने वालों पर और सख्ती की जाएगी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें