ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडटाइगर के आतंक के बीच सुरक्षा घेरे में स्कूल पहुंच रहे छात्र, रामनगर में एक महिला की ले चुका है जान

टाइगर के आतंक के बीच सुरक्षा घेरे में स्कूल पहुंच रहे छात्र, रामनगर में एक महिला की ले चुका है जान

शिक्षकों ने बस से बच्चों को लाने और छोड़ने की व्यवस्था करने की मांग की है। शनिवार की घटना के बाद ढेला गांव में ग्रामीण भयभीत हैं। जंगल के बीच से होकर 80 बच्चे स्कूल पहुंचते हैं।

टाइगर के आतंक के बीच सुरक्षा घेरे में स्कूल पहुंच रहे छात्र, रामनगर में एक महिला की ले चुका है जान
Himanshu Kumar Lallरामनगर, हिन्दुस्तान  Tue, 20 Feb 2024 03:52 PM
ऐप पर पढ़ें

टाइगर की दहशत से लोगों की टेंशन कम नहीं हो रह है। ढेला क्षेत्र में बाघ के हमले में शनिवार को एक और महिला की मौत के बाद स्कूली बच्चों की सुरक्षा को लेकर चिंता बढ़ गई है। सोमवार को राजकीय इंटर कॉलेज ढेला में आने वाले पटरानी के बच्चों को कॉर्बेट टाइगर रिजर्व ने सुरक्षा गार्डों के बीच स्कूल पहुंचाया और शाम को स्कूल से घर छोड़ा।

विद्यालय के शिक्षकों ने बस से बच्चों को लाने और छोड़ने की व्यवस्था करने की मांग की है। शनिवार की घटना के बाद ढेला गांव में ग्रामीण भयभीत हैं। जंगल के बीच से होकर पटरानी गांव से हर दिन करीब 80 बच्चे ढेला के स्कूल पहुंचते हैं। इसी रास्ते में इन दिनों हिंसक बाघ सक्रिय है।

इसे लेकर जीआईसी के शिक्षक नवेंदु मठपाल और अन्य स्टाफ समेत गांव के लोग बच्चों को सुरक्षा देने की मांग करते आ रहे हैं। रविवार को विधायक दीवान सिंह बिष्ट ने भी सीटीआर निदेशक को बच्चों को सुरक्षा के बीच विद्यालय लाने के निर्देश दिए थे।

सोमवार सुबह जीआईसी ढेला में पटरानी गांव के बच्चे सोमवार को बंदूकधारी वनकर्मियों की सुरक्षा में स्कूल लाए गए। बच्चों को सुरक्षा देने वालों में कॉर्बेट टाइगर रिजर्व के वन आरक्षी गोधन सिंह, तेजपाल रावत और कुबेर बंगारी रहे।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें