DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कालाढूंगी: आईटीआई में ‘एक स्टूडेंट’ को पढ़ा रहे ‘तीन टीचर’

Teacher, Facebook Post, Monkey, Student said Monkey, Foreign, Foreign News

उत्तराखंड में तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में प्रतिभाएं निखारने के उद्देश्य से खोले गए राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई ) खुद के अस्तित्व के लिए तरस  गए हैं।  तकनीकी शिक्षा की दुर्दशा का अंदाजा लगाने को नैनीताल जिले का कालाढूंगी का आईटीआई काफी है। हाल में यहां एनसीवीटी के तहत कटिंग एंड स्वीविंग ट्रेड शुरू हुआ। इस ट्रेड में एक ही छात्र ने एडमिशन लिया है। संस्थान में दो प्रशिक्षक, एक फोरमैन और एक प्रभारी प्रधानाचार्य समेत चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी तैनात हैं। कुमाऊं मंडल के अधिकांश आईटीआई किराये के एक कमरे में चल रहे हैं तो कई प्रधानाचार्य और अनुदेशकों की कमी झेल रहे हैं। हाल ये हैं कि थोक के भाव में खोले गए आईटीआई में प्रवेश लेने को छात्र नहीं मिल रहे हैं। कुछ ट्रेड बंद होने के बाद हालात और बिगड़ गए हैं। कुमाऊं मंडल के अल्मोड़ा, चंपावत और नैनीताल जिले के अधिकतर सरकारी आईटीआई कागजों पर चल रहे हैं। तकनीकी शिक्षा की ये हकीकत तब सामने आई, जब सेवायोजन अधिकारियों को आईटीआई के निरीक्षण के लिए भेजा गया। इस संबंध में निदेशक सेवायोजन एवं प्रशिक्षण डॉ.अहमद इकबाल ने कहा कि नए ट्रेडों के संचालन और छात्र संख्या बढ़ाने की संभावनाओं के लिए सेवायोजन अधिकारियों से निरीक्षण कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सूचनाओं का अवलोकन कर संभावनाओं के अनुरूप काम किया जाएगा। साथ ही जरूरत पड़ने पर दोबारा निरीक्षण कराया जाएगा।

 

चंपावत में 90% आईटीआई चल रहे किराये के भवन में 
चंपावत जिले के 90% आईटीआई आज भी किराये के भवन में चल रहे हैं। किसी के लिए एक तो किसी ने दो कमरे लिए हैं। इनके अपने भवन लंबे समय से निर्माणाधीन हैं। हालांकि टनकपुर आईटीआई के पास अपना भवन और बेहतर इंफ्रास्ट्रक्चर है।

 

डौनपरेवा-भीमताल में 5 छात्र
नैनीताल जिले के डौनपरेवा और भीमताल आईटीआई किराए के भवन में हैं। भीमताल का सरकारी आईटीआई स्थानीय जनमिलन केंद्र में चल रहा है तो डौनपरेवा आईटीआई का अपना भवन निर्माणाधीन है। भीमताल में तीन और डौनपरेवा में दो छात्र पढ़ते हैं। ओखलकांडा और भवाली आईटीआई भी किराए के कमरे में हैं।

 

नैनी-मछोड़ में एक भी छात्र नहीं
अल्मोड़ा जिले के नैनी और मछोड़ की हालत और खस्ता है। यहां स्टाफ की कमी नहीं है, लेकिन छात्र ढूढे नहीं मिल रहे हैं। इन दोनों आईटीआई में संचालित होने वाले ट्रेडों में एक भी छात्र नहीं है। हवालबाग ब्लॉक के खूंट स्थित आईटीआई में एक ट्रेड संचालित हो रहा है,  जिसमें केवल 10 छात्र हैं। स्टाफ की बात करें तो यहां भी पांच से अधिक कर्मचारी नियुक्त हैं। 
 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:three teachers teach one student in iti kaladungi haldwani in nainital district of uttarakhand