DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एटीएम में स्कीमर लगाकर ऐसे करते थे ठगी ! जानिए कैसे

अब ATM से उठा सकेंगे ये शानदार सुविधा, जानें कैसे उठा सकते हैं फायदा

एटीएम में स्कीमर डिवाइस लगाकर उसके जरिए ठगी करने वाले तीन अंतरराज्यीय जालसाज शहर कोतवाली पुलिस ने गिरफ्तार किए हैं। आरोपियों ने दिसंबर में धामवाला निवासी ज्वैलर्स के एटीएम का क्लोन बनाकर उससे 2.05 लाख रुपये निकाले थे। आरोपियों से पुलिस ने कार्ड रीडर डिवाइस, कैमरा, ब्लैंक एटीएम कार्ड बरामद किए हैं। पुलिस के मुताबिक आरोपी कई राज्यों में एटीएम में स्कीमर लगाकर ठगी कर चुके हैं। इसकी पुलिस जांच कर रही है। इंस्पेक्टर कोतवाली शिशुपाल सिंह नेगी ने बताया कि धामावाला स्थित सिमरन ज्वैलर्स के संचालक सिमरनजीत सिंह ने बीते 21 दिसंबर को दुकान के बैंक खाते से 2.05 लाख रुपये निकलने के आरोप में अज्ञात ठगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। पुलिस ने जांच शुरू की तो पता लगा कि रोहणी, दिल्ली स्थित एटीएम का प्रयोग कर उनके खाते से उक्त रकम निकाली गई है। एटीएम की सीसीटीवी फुटेज से आरोपियों का हुलिया पुलिस को मिला। हुलिए के आधार पर पुलिस ने जांच की तो पता लगा कि एटीएम से रकम निकालने के बाद जालसाजों ने पास के एटीएम से नगदी जमा करने की मशीन से कुछ रकम जमा की। उक्त खाते की जानकारी पुलिस ने निकाली तो वह हिसावा जिला नवादा, बिहार निवासी बबीता का निकला। उक्त पते पर पुलिस ने जाकर पूछताछ की तो पता लगा कि बबीता का एटीएम उसका भाई रोहित उर्फ चमन प्रयोग करता है। पुलिस ने इसके बाद रंजीत सिंह (28) पुत्र पिंटू सिंह निवासी देवी तालाब चौक, जालंधर, पंजाब, हाल किराएदार इंदर रोड, शिवपुरी कॉलोनी, देहरादून, आयुष कुमार (21) पुत्र अनमोल कुमार और रोहित उर्फ चमन कुमार पुत्र सुनील कुमार दोनों निवासी दौलतपुर, थाना सीतामढ़ी, जिला नवादा, बिहार, हाल निवासी गली नबंर 111,थाना बुराड़ी, नई दिल्ली को गिरफ्तार कर लिया। 

 

ऐसे बनाया गैंग
एसएसआई कोतवाली अशोक राठौर ने बताया कि आयुष अपने साथी रोहित उर्फ चमन के साथ वारदात से करीब एक महीना पहले देहरादून आया था। यहां वह रंजीत से मिले। तीनों ने मिलकर इसके बाद स्कीमर डिवाइस खरीदकर ठगी की योजना बनाई। आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि उन्होंने स्कीमर डिवाइस लेने के बाद विक्की नाम के सख्श से क्लोन डिवाइस बनाना सीखा। इसके बाद वह रात को दून के एक एटीएम के पास पहुंचे। वहां उन्हें सिमरनजीत सिंह के नगदी निकालने से पहले डिवाइस लगाई और एटीएम की जानकारी चुराकर दिल्ली जाकर नगदी निकाल ली।

 

ऑनलाइन मंगाया स्कीमर
रंजीत ने पुलिस को बताया कि वह 10वीं पास है और पत्नी के साथ दून में रहकर अस्पताल से डिस्चार्ज होकर जाने वाले मरीजों की देखभाल करता है। इसकी आयुष से दोस्ती है। आयुष ने दून आने के बाद रंजीत को राजपुर रोड स्थित एक होटल में नौकरी दिलाई। पुलिस के मुताबिक दून पहुंचकर आयुष ने ऑनलाइन ऑर्डर कर स्कीमर डिवाइस मंगवाई।  

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:three arrested for fraud by installing schemer device at atm machine in dehradun