ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडसुबह उठते ही पानी के लिए टेंशन, मैदानी-पर्वतीय शहरों में पेयजल के लिए लंबी लाइन

सुबह उठते ही पानी के लिए टेंशन, मैदानी-पर्वतीय शहरों में पेयजल के लिए लंबी लाइन

टैंकरों की डिमांड बढ़ने के साथ मनमानी भी शुरू हो गई है। निजी टैंकर कारोबारी मनमाने दाम लेकर टैंकर भेज रहे हैं। जल संस्थान से भी अब व्यक्तिगत रूप से टैंकर नहीं दिए जा रहे हैं। पानी का संकट है।

सुबह उठते ही पानी के लिए टेंशन, मैदानी-पर्वतीय शहरों में पेयजल के लिए लंबी लाइन
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तान टीमTue, 18 Jun 2024 03:59 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तराखंड के मैदानी शहरों से लेकर पवर्तीय इलाकों में भीषण गर्मी पड़ रही है। बढ़ते तापमान के बीच पीने के पानी की वजह से लोगों को टेंशन हो रही है। कई शहरों में पेयजल संकट से लोग परेशान हैं। सुबह उठते ही पानी के टेंशन की वजह से पूरा दिन गुजरता है। कई मोहल्लों में पानी के लिए लंबी-लंबी लाइनें लग रहीं हैं। 

देहरादून, नैनीताल, बागेश्वर, पौड़ी, अल्मोड़ा आदि जिलों में पीने के पानी के लिए लोगों को मेहनत करनी पड़ रही है। भीषण गर्मी में कई शहर पेयजल संकट की चपेट में आ गए हैं, जिससे लोगों की मुश्किलें भी दोगुनी हो गईं हैं।  

राजधानी में भीषण गर्मी के बीच पानी की आपूर्ति में हांफे टैंकर
देहरादून में पेयजल संकट गहराता जा रहा है। सोमवार को जल संस्थान के पास डेढ़ सौ कॉल्स आईं। लोगों ने टैंकर भेजने का अनुरोध किया। मगर, विभाग सिर्फ 120 टैंकर ही भेज पाया। रविवार को सौ टैंकर भेजे गए थे। दूसरी ओर, टैंकरों की डिमांड बढ़ने के साथ मनमानी भी शुरू हो गई है।

निजी टैंकर कारोबारी मनमाने दाम लेकर टैंकर भेज रहे हैं। जल संस्थान से भी अब व्यक्तिगत रूप से टैंकर नहीं दिए जा रहे हैं। दरअसल, बारिश नहीं होने पर बांदल स्रोत से पानी बढ़ने की अभी उम्मीद नहीं है। शिखर फॉल, बीजापुर कैनाल, ग्लोगी स्रोतों में भी पानी घट रहा है। ट्यूबवेल के डिस्चार्ज में कई जगह कमी आ चुकी है।

इसका सीधा असर कालीदास रोड, विजय कॉलोनी, हाथीबड़कला, पथरियापीर, बद्रीनाथ कॉलोनी, डोभालवाला, न्यू कैंट रोड, नेशविला रोड, करनपुर, ईसी रोड, नीलकंठ विहार, नई बस्ती और डीएल रोड पर पड़ रहा है। प्रभावित हिस्सों में टैंकर की डिमांड इतनी ज्यादा आ रही है कि इसे पूरी करने में जल संस्थान को घंटों लग जा रहे हैं।

रात के समय 12 से एक बजे तक भी टैंकर भिजवाए जा रहे हैं। जिन संकरी गलियों में टैंकर नहीं जा पा रहे हैं, वहां के लिए छोटे वाहनों में एक हजार लीटर के टैंकर भेजे जा रहे हैं। विजय कॉलोनी के पार्षद सतेन्द्रनाथ ने बताया कि नीलकंठ विहार, बलूनी चौक डोभालवाला में छोटे टैंकर भेजे जा रहे हैं।

दूसरी तरफ, जल संस्थान के सहायक अभियंता राघवेंद्र डोभाल ने बताया कि शहर में इन दिनों डिमांड इतनी अधिक हो गई है कि एक टैंकर एक परिवार की बजाय कॉलोनी के कई घरों में बांटा जा रहा है। जल संकट से निपटने के प्रयास जारी हैं।

बागेश्वर समेत कई जिलों में गहराया पानी का संकट
बागेश्वर, नैनीताल, अल्मोड़ा समते कई जिले में इस वक्त गर्मी चरम पर है। शहर में पानी का संकट बना है। वह प्राकृतिक स्रोतों का रुख कर रहे हैं। बावजूद भरपूर पानी नहीं मिल पा रहा है। जिससे नागरिकों में आक्रोश है। उन्होंने शीघ्र पेयजल आपूर्ति सुचारु नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी दी है।

नगर में पेयजल किल्लत अब एक बड़ी समस्या का रूप लेती जा रही है। हर साल गर्मी के मौसम में जिले के कई क्षेत्रों में पेयजल व्यवस्था एक समस्या बन जाती है। नगर में सरयू पंपिंग योजना, आईवेल के अलावा जखेड़ा पेयजल योजना से आपूर्ति होती है। कारण पेयजल संकट बढ़ता जा रहा है।

स्थानीय मोहन चंद्र कांडपाल, मनोज कुमार, सुंदर सिंह, बीना देवी, मंगला देवी आदि ने शीघ्र पानी की आपूर्ति सुचारू करने की मांग की इधर, जलसंस्थान के अधिशासी अभियंता सीएस देवड़ी ने कहा कि जहां पानी नहीं पहुंच रहा है, वहां टैंकर से भेजा जा रहा है।