DA Image
Thursday, December 2, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तराखंडकोरोना दूसरी लहर से सबक लेकर एंबुलेंस सेवा के लिए बने प्रोटोकॉल, ये हैं मानक 

कोरोना दूसरी लहर से सबक लेकर एंबुलेंस सेवा के लिए बने प्रोटोकॉल, ये हैं मानक 

हिन्दुस्तान टीम, देहरादूनHimanshu Kumar Lall
Wed, 21 Jul 2021 09:50 AM
कोरोना दूसरी लहर से सबक लेकर एंबुलेंस सेवा के लिए बने प्रोटोकॉल, ये हैं मानक 

कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच स्वास्थ्य विभाग ने एंबुलेंस सेवाओं के लिए प्रोटोकॉल तय कर दिया है। इसके तहत राज्य में चलने वाली सभी सरकारी व प्राइवेट एंबुलेंस में ऑक्सीजन सिलेंडर रखना अनिवार्य किया गया है। साथ ही सभी एंबुलेंसों में आपातकालीन प्रशिक्षित स्टाफ रखने व ड्राइवरों को भी प्रशिक्षित करने का निर्णय लिया गया है।  उत्तराखंड में सरकारी एंबुलेंस काफी कम हैं। राज्य में करीब ढाई सौ एंबुलेंस 108 सेवा के पास हैं जबकि तीन सौ के लगभग एंबुलेंस स्वास्थ्य विभाग के पास हैं। इसके अलावा शहरी क्षेत्रों में बड़ी संख्या में प्राइवेट एंबुलेंस हैं। सरकारी एंबुलेंस में ऑक्सीजन सिलेंडर व ट्रेंड स्टाफ है पर प्राइवेट एंबुलेंस संचालक मनमाना तरीका अपनाते हें। अधिकांश प्राइवेट एंबुलेंस में ऑक्सीजन सिस्टम और प्रशिक्षित स्टाफ नहीं है। इसके चलते अब राज्य सरकार ने एंबुलेंस सेवाओं के लिए मानक तय कर दिए हैं।

दूसरी लहर में सामने आई थी मनमानी  
राज्य में कोरोना की दूसरी लहर में संक्रमितों की संख्या में अचानक वृद्धि हो गई थी। ऐसे में एंबुलेंस की डिमांड भी बढ़ गई थी। मरीजों को अस्पताल जाने एंबुलेंस की जरूरत पड़ी पर पर्याप्त संसाधन न होने से कई मरीजों की जान एंबुलेंस में चली गई थी। ऐसी घटनाओं में कमी लाने के लिए विभाग ने एंबुलेंस सेवाओं के लिए प्रोटोकॉल तय किया है। स्वास्थ्य निदेशक एसके गुप्ता ने बताया कि इस संदर्भ में सभी सीएमओ को तैयारियों के निर्देश दे दिए गए हैं।  

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें