DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सड़क निर्माण का मलबा भागीरथी नदी में डालने पर होगी कड़ी कार्रवाई

भागीरथी नदी

उत्तराखंड सरकार ने आज उत्तरकाशी में आलवेदर रोड के निर्माण कार्य में लगी एजेंसी को मलबे को केवल निर्धारित डंपिंग जोन में ही डाले जाने के निर्देश देते हुए कहा कि इसे नदी में डाले जाने पर कड़ी कार्रवाई की जायेगी।

उत्तराखंड में चल रहे विधानसभा के शीतकालीन सत्र में कार्यस्थगन प्रस्ताव के जरिए निर्दलीय सदस्य प्रीतम सिंह पंवार द्वारा उठाये गये मुददे का जवाब देते हुए संसदीय कार्यमंत्री प्रकाश पंत ने कहा कि उत्तरकाशी जिले में धरासू और नालूपानी के बीच आलवेदर रोड निर्माण के मलबे को भागीरथी नदी में डाले जाने के मामला सामने आने के बाद निर्माण कार्य में लगी एजेंसी से उसका पक्ष मांगा गया था और उसने बताया कि मलबा निर्धारित डंपिंग जोन में ही डाला जा रहा है और केवल भूस्खलन की दशा में ही कुछ मलबा बहकर नदी में जाने की संभावना है।

हांलांकि पंत ने कहा कि वह एजेंसी तथा उत्तरकाशी जिला प्रशासन दोनों को सख्त निर्देश जारी कर रहे हैं कि मलबा निर्धारित डंपिंग जोन में ही डाला जाये और भागीरथी नदी में इसे बिल्कुल नहीं डाला जाये और ऐसा पाये जाने की स्थिति में कंपनी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी। इससे पहले, पंवार ने इस मुद्दे को उठाते हुए कहा कि पूर्व में राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) द्वारा कंपनी पर दो करोड़ रूपये का जुर्माना लगाये जाने के बावजूद वह अब भी मलबा सीधे भागीरथी नदी में डाल रही है जिससे वन संपदा को भारी नुकसान हो रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Strong action will be taken if debris of road construction will throw in Bhagirathi river