DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

03 पुलिसकर्मी और कांग्रेस नेता गिरफ्तार, पढ़िए पूरी खबर

चुनाव सर्विलांस टीम की आड़ में कारोबारी से कैश का बैग लूटने के आरोपी एलआईयू दरोगा, दो पुलिस कर्मी समेत चारों आरोपियों को मंगलवार रात स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तारी के बाद चारों आरोपियों को डालनवाला थाने की हवालात में रखा गया है। यहां से बुधवार को आरोपियों को न्यायालय में पेश किया जाएगा। डीआईजी एसटीएफ रिद्धिम अग्रवाल ने बताया कि लूट के आरोपी एलआईयू दरोगा दिनेश नेगी, सिपाही मनोज अधिकारी और हिमांशु उपाध्याय के अलावा कांग्रेस नेता अनुपम शर्मा को एसटीएफ ने पूछताछ के बाद अपने कार्यालय से गिरफ्तार कर लिया है। 

बता दें कि कारोबारी अनुरोध पंवार निवासी कैनाल रोड, बल्लूपुर की तहरीर पर चार अप्रैल को डालनवाला थाने में लूट को लेकर मुकदमा दर्ज हुआ था। अनुरोध का आरोप था कि उन्हें कारोबार के सिलसिले में अनुपम शर्मा ने चार अप्रैल की रात राजपुर रोड स्थित डब्ल्यूआईसी रेस्टोरेंट बुलाया। वहां से बैग लेकर उसमें रकम चेक किए बिना ही वह अपनी कार से घर जाने के लिए निकले। अनुरोध राजपुर रोड पर मधुबन होटल के पास पहुंचे तो आईजी अजय रौतेला को आवंटित स्कार्पियों कार लेकर तीन लोग पहुंचे। इनमें एलआईयू दरोगा दिनेश नेगी सादे कपड़े में गाड़ी की बीच वाली सीट पर बैठे थे। जबकि,मनोज अधिकारी और हिमांशु पुलिस वर्दी में थे। गाड़ी से उतरे दोनों सिपहियों ने अनुरोध को धमकाते हुए सरकारी गाड़ी में बैठाया और सर्वे चौक के पास छोड़कर उनका रुपयों वाला बैग लेकर फरार हो गए। घबराए अनुरोध ने घटना के दो दिन बाद पुलिस को इसकी सूचना दी। पुलिस ने गोपनीय जांच के बाद 10 अप्रैल को कांग्रेस नेता अनुपम शर्मा के खिलाफ नामजद समेत लूट में प्रयुक्त कार सवार अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। दो दिन तक इसकी जांच इंस्पेक्टर डालनवाला राजीव रौथाण ने की। इसके बाद जांच एसटीएफ को ट्रांसफर कर दी गई। एसटीएफ ने दो दिन तक लगातार आरोपियों को पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया है।

दो दिन की पूछताछ के बाद गिरफ्तारी
एसटीएफ ने दो दिन की मैराथन पूछताछ के बाद दरोगा दिनेश नेगी समेत चारों आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने मंगलवार को चारों आरोपियों से करीब नौ घंटे पूछताछ की। जबकि सोमवार को पांच घंटे की पूछताछ हुई थी।  एसटीएफ अफसरों ने बताया कि सोमवार को चारों आरोपियों से अलग-अलग बैठाकर अलग-अलग टीमों ने सवाल जवाब किए। इस सवालों के आधार पर मंगलवार को नए सवाल तैयार किए गए।  मंगलवार को एटीएफ ने आरोपियों को घटनास्थल और डब्ल्यूआईसी रेस्टारेंट के सीसीटीवी फुटेज दिखाकर उन्हें जोड़ते हुए सवाल पूछे। एसटीएफ की पूछताछ में आरोपी बहुत नपातुला जवाब दे रहे थे। सूत्रों की मानें तो चारों आरोपी लूट की घटना करने से गिरफ्तारी के वक्त तक इनकार करते रहे। हालांकि एसटीएफ ने आरोपियों की कॉल डिटेल रिकार्ड, सीसीटीवी फुटेज के साथ अन्य मजबूत साक्ष्यों के आधार पर उन्हें गिरफ्तार किया है।  डीआईजी एसटीएफ रिद्धिम अग्रवाल ने बताया कि आरोपियों से मंगलवार को उनके सोमवार के जवाब को जोड़कर क्रास सवाल किए गए। इनमें वह फंसते नजर आए। 

 

अपहरण समेत तीन धाराएं बढ़ीं
देहरादून। लूट के आरोपी पुलिस कर्मचारियों को गिरफ्तार करने के साथ ही उनके खिलाफ तीन और धाराएं बढ़ा दी गई हैं। गिरफ्तारी के साथ ही नई धारा अपहरण, गलत तरीके से लोक सेवक का पद धारण करने और किसी को बेवजह रोकने की जोड़ी गई है। जबकि, लूट और षडयंत्र की धारा पहले ही दर्ज हैं। डीआईजी एसटीएफ रिद्धिम अग्रवाल ने नई धाराओं के जोड़े जाने की पुष्टि की है। पुलिस के मुताबिक आरोपियों ने षड्यंत्र के तहत लूट के लिए पीड़ित अनुरोध पंवार की गाड़ी रोकने के साथ ही जबरन उन्हें अपनी गाड़ी में बैठाया गया। सरकारी गाड़ी में बैठे दरोगा दिनेश नेगी को आईएएस अधिकारी बताया गया था। इसी आधार पर आरोपियों के खिलाफ तीनों नए धाराएं जोड़ी गई हैं। उक्त धाराओं के आधार पर आरोपियों को कोर्ट में पेश किया जाएगा। 


 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:special task force arrests three policemen and congress leader in alleged loot case in dehradun