DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्रवृत्ति घोटाला: पूर्व जांचकर्ता गीताराम नौटियाल को नोटिस,जानिए कारण

समाज कल्याण के संयुक्त निदेशक गीताराम नौटियाल एसआईटी के राडार पर आ गए हैं। आरोप है कि वर्ष 2011 में हरिद्वार के समाज कल्याण अधिकारी रहे गीताराम नौटियाल ने छात्रवृत्ति की राशि निजी संस्थानों को दे दी। एसआईटी ने नौटियाल को नोटिस जारी करते हुए पूछताछ के लिए बुला लिया है। उत्तराखंड में करोड़ों के बहुचर्चित छात्रवृत्ति घोटाले में पहली जांच समिति के सदस्य रहे गीताराम नौटियाल पर भी कार्रवाई की तलवार लटकती दिखाई दे रही है। उत्तराखंड जनजाति बोर्ड के उपनिदेशक और हरिद्वार के पूर्व जिला समाज कल्याण अधिकारी अनुराग शंखधर की गिरफ्तारी के बाद नौटियाल से पूछताछ की तैयारी है। आरोपों में घिरे पूर्व जिला समाज कल्याण अधिकारी शंखधर की तरह गीताराम नौटियाल को एसआईटी ने नोटिस जारी कर दिया है। नौटियाल को एसआईटी दफ्तर हरिद्वार बुलाया गया है। हरिद्वार न आने पर बड़ी कार्रवाई हो सकती है। बता दें कि संयुक्त निदेशक नौटियाल पर भी आरोप है कि वर्ष 2011 में हरिद्वार में जिला समाज कल्याण अधिकारी रहते उन्होंने कुछ प्राइवेट संस्थानों को छात्रवृत्ति दी थी। गीताराम नौटियाल के रिश्तेदारों के खिलाफ भी डोईवाला थाने में छात्रवृत्ति घोटाले का मुकदमा दर्ज है। आरोप है कि फर्जी आय प्रमाण पत्र के जरिये छात्रवृत्ति ली गई और इन पैसों से एक कार भी खरीदी गई। जानकारों की मानें तो संयुक्त निदेशक गीताराम नौटियाल के पास एसआईटी का सहयोग करने के अलावा और कोई दूसरा विकल्प नहीं बचता है। एसआईटी का सहयोग नहीं करने पर शंखधर के खिलाफ भ्रष्टाचार का मुकदमा दर्ज किया गया था।

 

संयुक्त निदेशक गीताराम नौटियाल को नोटिस भेजकर पूछताछ को एसआईटी कार्यालय बुलाया गया है। आशा है कि नौटियाल जांच में एसआईटी को सहयोग करेंगे। 
मंजूनाथ टीसी, एसआईटी प्रभारी

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:special investigation team serves notice to social welfare department joint director geetaram nautiyal in scholarship scam in uttarakhand