ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडचारधाम में जल्द होगी यात्रा प्रबंधक की तैनाती, तीर्थ यात्रियों को मिलेगा यह फायदा

चारधाम में जल्द होगी यात्रा प्रबंधक की तैनाती, तीर्थ यात्रियों को मिलेगा यह फायदा

गंगोत्री, यमुनोत्री, केदारनाथ, बदरीनाथ धामों में यात्रा प्रबंधक तैनात रहेंगे। इसके साथ ही सोनप्रयाग, गौरीकुंड, हेमकुंड साहिब और ऋषिकेश मुख्यालय में प्रबंधक तैनात होंगे।

चारधाम में जल्द होगी यात्रा प्रबंधक की तैनाती, तीर्थ यात्रियों को मिलेगा यह फायदा
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तानMon, 10 Jun 2024 05:12 PM
ऐप पर पढ़ें

चारों धामों में श्रद्धालुओं की उमड़ती भीड़ को देखते हुए सरकार का जोर भीड़ मैनेजमेंट पर है। चारधाम यात्रा प्रबंधन एवं नियंत्रण संगठन के लिए पर्यटन विभाग चारों धामों और मुख्य पड़ावों पर यात्रा प्रबंधक नियुक्त करने जा रहा है। इसके लिए उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद ने प्रति नियुक्ति पर आवेदन मांगे हैं।

अब आने वाले समय में एक पद यात्रा नियंत्रक का होगा। जो चारधाम यात्रा प्रबंधन एवं नियंत्रण संगठन में मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रूप में काम करेंगे। इसी के साथ तहसीलदार, नायब तहसीलदार भी नियुक्त किए जाएंगे।

सबसे अहम भूमिका यात्रा प्रबंधक की रहेगी। गंगोत्री, यमुनोत्री, केदारनाथ, बदरीनाथ धामों में यात्रा प्रबंधक तैनात रहेंगे। इसके साथ ही सोनप्रयाग, गौरीकुंड, हेमकुंड साहिब और ऋषिकेश मुख्यालय में भी यात्रा प्रबंधक तैनात रहेंगे। इसके लिए अफसरों से प्रतिनियुक्ति या पुनर्नियुक्ति पर आवेदन मांगे हैं।

इस साल चारधाम यात्रा में जिस बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी है, उसे लेकर सरकार सतर्क हो गई है। भीड़ के कारण यात्रा के पहले पखवाड़े में यमुनोत्री, केदारनाथ और यात्रा पड़ाव पर जाम जैसे हालात हो गए थे। इससे श्रद्धालुओं को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था।

आने वाले समय में इसी भीड़ से दिक्कतें न बढ़ें, इसके लिए सरकार का पूरा जोर यात्रा प्रबंधन पर है। इसी कड़ी में सरकार चारधाम यात्रा प्रबंधन पर जोर देते हुए यात्रा प्राधिकरण के गठन पर भी विचार कर रही है।

पूरे यात्रा रूट में भीड़ पर रहेगी नजर
सरकार की तैयारी आने वाले समय में धामों, यात्रा पड़ावों और पूरे यात्रा रुट पर मौजूद भीड़ पर नजर रहेगी। ताकि ऋषिकेश से लेकर धामों तक पूरे रूट पर भीड़ को नियंत्रित किया जा सके। कहीं भी जाम लगने की स्थिति पर भीड़ को पहले ही नियंत्रित किया जा सके। ताकि धामों में भीड़, अव्यवस्था की स्थिति न पैदा हो।

Advertisement