ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंड‘बेटा! तू मेरे जैसा काम मत करना, वरना एक दिन पछताएगा’ अल्मोड़ा में जगल आग में 4 की जिंदा जलकर मौत

‘बेटा! तू मेरे जैसा काम मत करना, वरना एक दिन पछताएगा’ अल्मोड़ा में जगल आग में 4 की जिंदा जलकर मौत

इंसान की जिदंगी की कद्र नहीं रही। कहा, पहाड़ की जिंदगी पहाड़ से ज्यादा सिस्टम ने खराब कर दी है। करीब 18 साल पहले वन विभाग में बतौर श्रमिक नौकरी शुरू करने वाले कैलाश बिनसर फॉरेस्ट रेंज में तैनात हैं।

‘बेटा! तू मेरे जैसा काम मत करना, वरना एक दिन पछताएगा’ अल्मोड़ा में जगल आग में 4 की जिंदा जलकर मौत
forest fire almor four burnt alive death
Himanshu Kumar Lallहल्द्वानी, प्रमोद डालाकोटीSat, 15 Jun 2024 02:48 PM
ऐप पर पढ़ें

अल्मोड़ा के बिनसर में जंगल की आग में चार कार्मिकों की जिंदा जलकर मौत ने हर किसी को झकझोर दिया है। इस घटना में करीब 45 फीसदी झुलसे 54 वर्षीय कैलाश भट्ट ने रुंधे गले से अपने बेटे विवेक से कहा, ‘बेटा! तू मेरे जैसा काम मत करना, वरना एक दिन पछताएगा। तू अपनी पढ़ाई पूरी कर और कोई अच्छी नौकरी देख।’

काशीपुर पॉलीटेक्निक से पढ़ाई कर रहा विवेक भट्ट गुरुवार को हुई इस घटना में पिता के झुलसने की सूचना पर यहां डॉ. सुशीला तिवारी अस्पताल में पहुंचा। अल्मोड़ा जिले के ताकुला विकासखंड के घनेली गांव निवासी कैलाश भट्ट ने बेटे विवेक को यह बात समझाने की कोशिश की। उन्होंने बेटे को समझाया कि पहाड़ में मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं।

इंसान की जिदंगी की कद्र नहीं रही। कहा, पहाड़ की जिंदगी पहाड़ से ज्यादा सिस्टम ने खराब कर दी है। करीब 18 साल पहले वन विभाग में बतौर श्रमिक नौकरी शुरू करने वाले कैलाश इन दिनों बिनसर फॉरेस्ट रेंज में तैनात हैं।

उनका बेटा विवेक काशीपुर पॉलीटेक्निक से मैकेनिकल इंजीनियरिंग का डिप्लोमा करने के साथ समूह ग की तैयारी भी कर रहा है। विवेक ने बताया कि शुक्रवार सुबह वह पिता से तीन बार मिला। उसके पिता ने बार-बार उससे यही बात कही। तू अपनी पढ़ाई पूरी कर, तभी तेरी नौकरी लगेगी। वरना तू भी मेरी तरह गांव में रह जाएगा।

घायलों से मिलने पहुंचे अधिकारी और नेता : वनाग्नि में गंभीर घायय हुए वनकर्मियों से मिलने के लिए शुक्रवार को एसटीएच हल्द्वानी में अफसर और नेता पहुंचे। सुबह अल्मोड़ा के विधायक मनोज तिवारी, कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल, डीएम नैनीताल वंदना सिंह आदि समेत वन विभाग के अफसर पहुंचे।

आश्रितों को रोजगार मिलेगा : हल्द्वानी। पीआरडी जवान पूरन मेहरा के परिजनों को पीआरडी कल्याण कोष से 1.50 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा। साथ ही मृतक आश्रित को पीआरडी में रोजगार मिलेगा। युवा कल्याण विभाग एवं प्रांतीय रक्षक दल के संयुक्त निदेशक अजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि आग में झुलसे जवान कुंदन नेगी को 50 हजार रुपये कोष से दिए जाएंगे।

सुबह ही फोन पर दी थी आग की सूचना
विवेक ने बताया कि पिता उसे रोजाना सुबह फोन कॉल करते हैं। गुरुवार को जब पिता से सुबह बात हुई तो उन्होंने बताया कि बिनसर के जंगल में आग लगी है। इसके बाद उसकी अपने पिता से बात नहीं हो पाई। शाम को उसके दोस्तों ने उसे घटना की जानकारी दी।

‘यह अप्रत्याशित घटना है, हालात से हारे वन कर्मी’
अल्मोड़ा। शुक्रवार देर शाम बिनसर अभयारण्य पहुंचे प्रमुख वन संरक्षक धनंजय मोहन ने हालात का जायजा लिया। उन्होंने कहा कि हादसा बहुत दुखदायी है। इस बार गर्मी और सूखे की अप्रत्याशित मार पड़ी है। लेकिन हमारे वन कर्मी हर मोर्च पर डटे रहे। गुरुवार को हुई वनाग्नि में भी वनकर्मियों ने अपने साहस का परिचय दिया, लेकिन हालत के आगे कुछ नहीं किया जा सका। कर्मचारियों को भौगोलिक परिस्थिति के आगे हार माननी पड़ी। कहा कि हमारे सभी कर्मचारी तजुर्बेकार थे, लेकिन हालत के सामने वह बेबस हो गए।