ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडबिजली का खर्च बचाएगा यह स्मार्ट मीटर,16 लाख घरों को होगा फायदा

बिजली का खर्च बचाएगा यह स्मार्ट मीटर,16 लाख घरों को होगा फायदा

बिजली चोरी की घटनाओं में भी कमी आएगी। इसके अलावा बिजली की आपूर्ति में सुधार के कदम उठाए जा रहे हैं। स्मार्ट मीटर लगाने की प्रक्रिया शुरू की जा रही है। इससे गलत बिल की समस्या भी दूर की जा सकेगी।

बिजली का खर्च बचाएगा यह स्मार्ट मीटर,16 लाख घरों को होगा फायदा
smart meter will save electricity cost 16 lakh houses will get benefit
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तानSun, 09 Jun 2024 04:43 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तराखंड में आरडीएसएस योजना के तहत 16 लाख के करीब स्मार्ट मीटर लगाए जाएंगे। इससे लोगों का बिजली खर्च नियंत्रित होने के साथ बिजली चोरी भी रुक सकेगी। यूपीसीएल के एमडी अनिल कुमार ने बताया कि राज्य में इस योजना के तहत बिजली वितरण की व्यवस्था में बदलाव होने जा रहा है।

उन्होंने बताया कि बिजली लाइनों को ठीक करने के साथ पुराने मीटर भी बदले जाएंगे, ताकि बिजली का खर्च लोगों के नियंत्रण में रहे। उन्होंने कहा कि स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाने से बिजली खर्च पर नियंत्रण रखा जा सकेगा।

बिजली चोरी की घटनाओं में भी कमी आएगी। इसके अलावा बिजली की आपूर्ति में सुधार के कदम उठाए जा रहे हैं। स्मार्ट मीटर लगाने की प्रक्रिया शुरू की जा रही है। इससे गलत बिल की समस्या भी दूर की जा सकेगी।

सर्वे का राष्ट्रीय संग्रहालय लोगों के लिए खुला
देहरादून, वरिष्ठ संवाददाता। सर्वे चौक स्थित राष्ट्रीय सर्वे संग्रहालय अब आम जनता के लिए खुला रहेगा। 10 जून से यहां कोई भी निशुल्क संग्रहालय देखने जा पाएगा। पहले विशेष अनुमति लेनी होती थी। ज्योडीय एवं अनुसंधान शाखा निदेशक से जारी आदेश के बाद शनिवार को इस संग्रहालय को सभी के लिए खोलने का फैसला लिया गया।

ईसी रोड पर सर्वे चौक के निकट स्थित सर्वे संग्रहालय को दस जून के बाद सोमवार से लेकर शुक्रवार तक सुबह दस से दोपहर एक बजे और दोपहर 2 बजे से शाम पांच बजे खोला जाएगा। प्रभारी मुख्य मानचित्रकार सोमनाथ ने बताया कि इस संग्रहालय में सर्वे के ढाई सौ साल के ऐतिहासिक काम एवं उपकरणों को देखा जा सकता है। एंट्री निशुल्क है। अभी तक यह साल में सिर्फ एक दिन विज्ञान दिवस के मौके पर सार्वजनिक रूप से खुला रहता था। बाकी दिनों में संग्रहालय देखने के लिए से विशेष अनुमति लेनी पड़ती थी।