ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडपीएम मोदी ने सीएम धामी को किया फोन, मजदूरों का जाना हालचाल; आगे की रणनीति पर हुई चर्चा

पीएम मोदी ने सीएम धामी को किया फोन, मजदूरों का जाना हालचाल; आगे की रणनीति पर हुई चर्चा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को एक बार फिर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को फोन किया और टनल में फंसे मजदूरों का हालचाल जाना। दोनों नेताओं ने आगे की रणनीति पर भी चर्चा की।

पीएम मोदी ने सीएम धामी को किया फोन, मजदूरों का जाना हालचाल; आगे की रणनीति पर हुई चर्चा
Sneha Baluniएएनआई,उत्तरकाशीTue, 28 Nov 2023 12:20 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तरकाशी की सिलक्यारा टनल में पिछले 16 दिन से 41 मजदूर फंसे हुए हैं। राज्य और केंद्र सरकार की एजेंसियां उन्हे बचाने की पूरी कोशिश कर रही हैं पर अब तक सफलता नहीं मिल पाई है। अब रैट-होल माइनर्स को इसकी जिम्मेदारी दी गई है। इसी पूरे घटनाक्रम पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बारीकी से नजर बनाए हुए हैं। वे रोज मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को फोन करते हैं और रेस्क्यू ऑपरेशन के संबंध में जानकारी लेते हैं। इसके अलावा निर्देश भी देते हैं। मंगलवार को भी पीएम मोदी ने सीएम धामी को फोन किया और रेसक्यू ऑपरेशन के साथ ही मजदूरों का हाल-चाल जाना। इसकी जानकारी मुख्यमंत्री कार्यालय ने दी है।

मुख्यमंत्री कार्यालय ने बताया, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से सुरंग में फंसे मजदूरों का हालचाल लिया। प्रधानमंत्री ने ड्रिलिंग के संबंध में पूरी जानकारी प्राप्त की। उन्होंने कहा कि अंदर फंसे श्रमिकों की सुरक्षा के साथ-साथ बाहर राहत कार्य में लगे लोगों की सुरक्षा का भी विशेष ध्यान रखा जाए। उन्होंने कहा कि अंदर फंसे श्रमिकों के परिवारों को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं होनी चाहिए। प्रधानमंत्री ने सीएम से आगामी रणनीति पर भी चर्चा की।'

सीएमओ ने बताया, 'मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बताया कि मैनुअल खुदाई का काम शुरू हो गया है। अब तक कुल 52 मीटर पाइप को अंदर धकेला जा चुका है। अगर कोई बड़ी बाधा नहीं आई तो जल्द ही सभी मजदूरों को निकाल लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि अंदर फंसे सभी मजदूरों का स्वास्थ्य ठीक है। राहत एवं बचाव कार्य में लगे कर्मी, इंजीनियर एवं विशेषज्ञ अधिकारी हर संभव प्रयास कर रहे हैं।'

सीएमओके के अनुसार, मुख्यमंत्री ने पीएम को बताया कि अंदर फंसे सभी श्रमिकों को नियमित रूप से गुणवत्तापूर्ण भोजन भेजा जा रहा है। सभी मजदूरों को डॉक्टरों और मनोचिकित्सकों के भी लगातार संपर्क में रखा जा रहा है। अंदर फंसे मजदूरों के परिजनों से भी लगातार बातचीत की जा रही है। उन्होंने बताया कि एसडीआरएफ द्वारा स्थापित संचार सेटअप के अतिरिक्त बीएसएनएल द्वारा टेलीफोनिक संचार सेटअप भी स्थापित किया गया है। 

सीएमओ ने आगे बताया, 'मुख्यमंत्री ने पीएम मोदी से कहा कि फंसे हुए श्रमिकों को बाहर निकालने के बाद की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। उन्होंने बताया कि मौके पर एसडीआरएफ, एनडीआरएफ को तैनात किया गया है। मौके पर डॉक्टर की टीम भी मौजूद है। सभी अधिकारियों को 24 घंटे अलर्ट पर रखा गया है।'

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें