DA Image
24 सितम्बर, 2020|11:36|IST

अगली स्टोरी

अब सबूत के अभाव में नहीं बच पाएंगे यौन अपराधी, जानिए क्यों

rape from women

अब यौन अपराध में शामिल अपराधी किसी भी कीमत पर बच नहीं पाएंगे। तमाम सैंपल और सबूत जमा करने के लिए पुलिस को 117 सेक्सुअल आफेंस एवीडेंस कलेक्शन किट मिली हैं जो राज्य के 39 सर्किलों में बांटी जा रही हैं। पुलिसकर्मियों को इसके लिए फारेंसिक की ट्रेनिंग भी दी जाएगी।

अब तक ज्यादातर केसों में समय पर यौन अपराध पीड़ित के सैंपल ना लिए जाने या मौके पर से बाल, खून या अन्य तरह के सैंपल ना लिए जाने के मामले लगातार सामने आते हैं।

दरअसल पुलिस सैंपल लेने में समक्ष नहीं होती और फॉरेंसिक टीम के देर से पहुंचने के कारण सबूत नष्ट हो जाते हैं या कर दिए जाते हैं। इन मामलों में ज्यादातर सैंपल एक निश्चित समय के भीतर लेने जरूरी होते हैं।

सैंपल न मिलने और उनके सबूत न बन पाने के चलते यौन अपराध के आरोपियों को अक्सर बचने का मौका मिल जाता है। अब सेक्सुअल आफेंस एवीडेंस कलेक्शन किट मिलने और इनकी ट्रेनिंग मिलने के बाद पुलिस कर्मचारी ही, समय पर घटनास्थल से वैज्ञानिक तरीके से सैंपल ले सकेंगे।

क्या है ये किट
इस किट में पुस्तिका, बाल-रेशों के सैंपल लेने के लिए कंघी, खून, स्वैब, सीमेन स्टेन कलेक्शन किट, ग्लास स्लाइड्स, ग्लब्ज, सैंपल कलेक्शन इन्वेलप, कुछ केमिकल, इंस्ट्रूमेंट, कलेक्शन बॉक्स, यूरीन कलेक्शन कंटेनर, स्टेरेलाइजर वाटर सहित फॉरेंसिक से जुड़े कई सामान हैं। 


केंद्र से मिलीं 117  किट 39 सर्किलों में बांटी जा रही हैं। इसके बाद थानास्तर पर भी ये किट पहुंचाई जाएंगी। इसके लिए सभी पुलिसकर्मियों को फॉरेंसिक की ट्रेनिंग भी दी जाएगी ताकि वे वैज्ञानिक तरीके से सबूत एकत्र कर सकें। 
अशोक कुमार, डीजी कानून व्यवस्था

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:sexual offence criminals would not be escaped in absence of evidence as uttarakhand police equipped with sexual offence evidence collection kit