ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडतपती गर्मी में पसीने के साथ निकला दम, पेट-डायरिया के मरीजों से अस्पताल पैक; ये रखें सावधानी

तपती गर्मी में पसीने के साथ निकला दम, पेट-डायरिया के मरीजों से अस्पताल पैक; ये रखें सावधानी

दून और कोरोनेशन अस्पताल की इमरजेंसी में शनिवार रात से रविवार रात तक 24 घंटे में 200 से ज्यादा लोग इन्हीं समस्याओं को लेकर पहुंचे। इनमें से कई को भर्ती करना पड़ा।  तपती गर्मी में लोग बीमार हो रहे।

तपती गर्मी में पसीने के साथ निकला दम, पेट-डायरिया के मरीजों से अस्पताल पैक; ये रखें सावधानी
scorching heat people sweating hospitals packed with stomach diarrhea patients take health precautio
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तानMon, 27 May 2024 01:52 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तराखंड के मैदानी शहरों में पारा 40 डिग्री के पार पहुंच गया है। तपती गर्मी के बीच लोगों का जमकर पसीना निकल रहा है। गर्मी में लोग बीमार भी हो रहे हैं। ऐसे में बढ़ते तापमान के बीच लोगों को अपनी सेहत का ख्याल रखना जरूरी हो गया है।

देहरादून में दून में गर्मी से लोगों का हाल बेहाल है। गर्म हवाएं, धूप और उमस से तबीयत खराब हो रही है। जरा सी लापरवाही से पेट में संक्रमण, डायरिया, बुखार जबकि पानी की कमी से डिहाइड्रेशन की समस्या हो रही है।

दून और कोरोनेशन अस्पताल की इमरजेंसी में शनिवार रात से रविवार रात तक 24 घंटे में 200 से ज्यादा लोग इन्हीं समस्याओं को लेकर पहुंचे। इनमें से कई को भर्ती करना पड़ा। दून अस्पताल की इमरजेंसी में शनिवार रात को 192 मरीज ईएमओ डॉ. नवजोत सिंह और डॉ. नरेश राणा ने देखे। इनमें से 12 को भर्ती किया गया। करीब 80 मरीज ऐसे थे, जो पेट और गर्मी से संबंधित समस्याओं के थे।

रविवार को शाम आठ बजे तक ईएमओ डॉ. राणा, पीजी डॉ. आमिर, जेआर डॉ. उबेद, ईएमओ डॉ. अमित अरुण ने 90 मरीज देखे। इनमें से करीब 40 डिहाइड्रेशन, पेट दर्द, उल्टी-दस्त, बुखार की शिकायत वाले मरीज थे। आठ को भर्ती किया गया।

कोरोनेशन अस्पताल के ईएमओ डॉ.मनीष शर्मा के मुताबिक, शनिवार रात को 80 से ज्यादा मरीज इमरजेंसी में आए। इनमें से 50 फीसदी मरीज पेट दर्द, डायरिया, बुखार, उल्टी-दस्त वाले थे। रविवार को पूरे दिन में 100 से ज्यादा मरीज आए। इनमें से करीब 50 गर्मी से परेशानी वाले थे।

इस तरह रखें गर्मी में सेहत का ख्याल
दून अस्पताल के फिजिशियन डॉ. कुमार जी कौल के मुताबिक शरीर का तापमान संतुलित रखने के लिए पसीना अधिक आता है। ऐसे में पानी अधिक से अधिक पिएं। पानी कम पीने से डिहाइड्रेशन का खतरा बढ़ जाता है और शरीर में मिनरल की कमी हो जाती है।

गर्मी में पेट संबंधी दिक्कतें बढ़ सकती है। डिहाइड्रेशन से बचने के लिए धूप में कम से कम बाहर निकलें। छाता या गमछे का प्रयोग करें। तरल पदार्थ और ताजे फल व सब्जी का सेवन करें। ओआरएस का घोल और पानी पीते रहें।

कटे फलों, बासी खाने का सेवन न करें, बर्फ से बने पेय पदार्थों एवं चिकनाई युक्त खाने से बचें। एसी वाहन या घर से बाहर निकलते समय एसी बंद करने के बाद कुछ देर तक रुकें।

गर्मी में कम पानी पीने से हो रही समस्या
कोरोनेशन अस्पताल के ईएमओ डॉ. मनीष शर्मा के मुताबिक गर्मी की वजह से लोगों की सेहत खराब हो रही है। बासी खाना, कटे फल और पानी कम पीने से ज्यादा दिक्कत है। शनिवार रात ईएमओ डॉ. प्रखर गर्ग, रविवार को डॉ. राजीव गैरोला, डॉ. दीपक गहतोड़ी ने मरीज देखे।