ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडचिलचिलाती गर्मी के बीच पावर कट के साथ लो वोल्टेज से निकला पसीना; शट डाउन से आफत में जान

चिलचिलाती गर्मी के बीच पावर कट के साथ लो वोल्टेज से निकला पसीना; शट डाउन से आफत में जान

पीक आवर्स में बिजली की डिमांड बढ़ते ही सब स्टेशन ओवरलोड हो जा रहे हैं। बड़े फॉल्ट से बचने को यूपीसीएल से लेकर पिटकुल अपने सब स्टेशनों में शट डाउन ले रहा है। गर्मी से लोग काफी परेशान हो रहे हैं।

चिलचिलाती गर्मी के बीच पावर कट के साथ लो वोल्टेज से निकला पसीना; शट डाउन से आफत में जान
power cuts in scorching heat will make you sweat electricity demand has broken all records
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तानMon, 17 Jun 2024 06:29 PM
ऐप पर पढ़ें

भीषण गर्मी के बीच शत-प्रतिशत बिजली सप्लाई के यूपीसीएल के दावे धड़ाम हो गए हैं। न सिर्फ जमकर बिजली कटौती हो रही है, बल्कि लो वोल्टेज की अलग समस्या खड़ी हो गई है। यूपीसीएल के जीरो बिजली रोस्टिंग के दावे हवाई साबित हुए हैं।

शहर से लेकर गांव तक जमकर बिजली की रोस्टिंग हो रही है। इसके कारण भीषण गर्मी से जूझ रहे लोगों को बिजली, पानी की कमी से भी जूझना पड़ रहा है। भीषण गर्मी के कारण बढ़ी हुई बिजली की डिमांड ने पूरे पॉवर सप्लाई सिस्टम को ध्वस्त कर दिया है।

पीक आवर्स में बिजली की डिमांड बढ़ते ही सब स्टेशन ओवरलोड हो जा रहे हैं। बड़े फॉल्ट से बचने को यूपीसीएल से लेकर पिटकुल अपने सब स्टेशनों में शट डाउन ले रहा है। इससे पूरे दिन भर लोगों को बीच बीच में कई कई घंटों की बिजली कटौती झेलनी पड़ रही है।

ये स्थिति किसी ग्रामीण क्षेत्र की नहीं है, बल्कि राजधानी देहरादून के पॉश इलाकों तक की है। दोपहर और रात के समय में एक से दो-दो घंटे तक की बिजली कटौती हो रही है। देहरादून, हरिद्वार, यूएसनगर, नैनीताल के ग्रामीण क्षेत्रों में ये कटौती और अधिक हो रही है।

इस पूरे सप्लाई सिस्टम ने आम आदमी को रुला कर रख दिया है। हर महीने महंगी बिजली का झटका देने वाला यूपीसीएल जनता को पर्याप्त बिजली उपलब्ध नहीं करवा पा रहा है।

जहां भी लोड बढ़ने से दिक्कत आ रही है, वहां के लिए वैकल्पिक इंतजाम किए जा रहे हैं। लोड बढ़ने से फॉल्ट की स्थिति न पैदा हो, इसके लिए फील्ड की टीम को अलर्ट मोड पर रहने के निर्देश दिए गए हैं। फॉल्ट आते ही सूचना मिलते ही तत्काल सही किया जा रहा है। इसके लिए पूरे 24 घंटे फील्ड का स्टाफ मौके पर तैनात है। 
मदनराम आर्य, निदेशक ऑपरेशन