ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडहरिद्वार कुंभ की व्यवस्थाओं पर संतों ने मोहन भागवत के सामने जताई नाराजगी

हरिद्वार कुंभ की व्यवस्थाओं पर संतों ने मोहन भागवत के सामने जताई नाराजगी

वरिष्ठ संतों ने कुंभ आयोजन व्यवस्थाओं को लेकर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के सामने खासी नाराजगी जताई है। संतों ने बैठक में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के सामने अपनी नाराजगी जता दी है। संतों के तल्ख तेवरों...

हरिद्वार कुंभ की व्यवस्थाओं पर संतों ने मोहन भागवत के सामने जताई नाराजगी
सुनील डोभाल, हरिद्वारTue, 06 Apr 2021 08:24 AM
ऐप पर पढ़ें

वरिष्ठ संतों ने कुंभ आयोजन व्यवस्थाओं को लेकर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के सामने खासी नाराजगी जताई है। संतों ने बैठक में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के सामने अपनी नाराजगी जता दी है। संतों के तल्ख तेवरों को देखते हुए भागवत ने उन्हें उत्तराखंड मुख्यमंत्री से बातचीत कर व्यवस्थाओं में सुधार का भरोसा दिलाया है। 

दो दिन प्रवास के अंतिम दिन सोमवार को भागवत ने भूपतवाला स्थित काष्णिक आश्रम में वरिष्ठ संतगणों मुलाकात की। सूत्रों की माने को कुंभ की चर्चा शुरु होते ही संत तल्ख हो गए और उत्तराखंड सरकार पर जमकर बरसे। संतों ने यह कहने में कोई कसर बाकि नहीं रखी कि पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिहं रावत कुंभ आयोजन के पक्ष में ही नहीं थे। नए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के कार्यों की तारीफ करते हुए संतों ने कहा कि वे जो भी आदेश दे रहे है उनके निर्देशों का सही तरीके से पालन नहीं हो रहा है।

व्यवस्थाओं को लेकर संतों ने कहा कि आज भी काम पूरे नहीं हो पाए है। बैरागी संतों की नाराजगी का मामला भी भागवत के समक्ष रखा गया। संतों की बातों को सुनने के बाद भागवत ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री से मामले में बात कर तेजी के साथ व्यवस्थाओं में सुधार का भरोसा दिलाया। उल्लेखनीय है कि बीते रविवार को पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हरिद्वार आकर भागवत से मुलाकात की थी।

बैठक में संतों ने मठ मंदिरों के अधिग्रहण को लेकर भी नाराजगी जताई कहा कि भाजपा के शासनकाल में मठ मंदिर अधिग्रहण पर पूरी तरह से रोक लगनी चाहिए। बैठक में बाबा रामदेव, निरंजन पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर केलाशानंद गिरि, आनंद अखाड़ा के आचार्य महामंडलेश्वर बालकानंद गिरी, श्रीमहंत ज्ञानदेव सिंह, रामभद्राचार्य, गुरु शरण आचार्य, महामंडलेश्वर परमानंद सरस्वती, चिन्मयनंद सरस्वती, श्री महंत रविंद्र पुरी, महामंडलेश्वर हरिचेतनानंद, अखाड़ा परिषद अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरी, चिदानंद मुनी आदि शामिल रहे। 

कमेटी करे संतों की जांच
संतों ने भागवत से मांग करेत हुए कहा कि आरोप लगाने पर एक कमेटी बने जो संत के आरोपों की जांच करे। कई बार लोग झूठे आरोप लगाकर संत को बदनाम कर देते है। 

देवस्थानम बोर्ड भंग करने की मांग
देवभूमि तीर्थ पुरोहित हकहकूकधारी महापंचायत के संयोजक सुरेश सेमवाल के नेतृत्व में सोमवार को पावन कृष्ण धाम में सरसंघचालक मोहन राव भागवत से भेंट की। तीर्थ पुरोहितों के प्रतिनिधिमंडल ने देवस्थानम बोर्ड भंग करने से संबंधित एक ज्ञापन भागवत को सौंपा। प्रतिनिधिमंडल में सुरेश सेमवाल, कृतेश्वर उनियाल, उमेश सती, अनुरूद उनियाल व सूरज सेमवाल शामिल रहे।