ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडफिल्मी स्टाइल से रिलायंस ज्वेलरी शोरूम में की डकैती, वीडियो कॉल से सरगना ने रखी नजर; 8 गिरफ्तार

फिल्मी स्टाइल से रिलायंस ज्वेलरी शोरूम में की डकैती, वीडियो कॉल से सरगना ने रखी नजर; 8 गिरफ्तार

रिलायंस ज्वेलरी शोरूम में जिस वक्त शोरूम में डकैती डाली जा रही थी, उस वक्त बदमाशों ने गैंग सरगना को वीडियो कॉल की। डकैती पर पल-पल की अपडेट ले रहा था। गैंग को बाइक मुहैया कराने वाला गिरफ्तार हुआ है।

फिल्मी स्टाइल से रिलायंस ज्वेलरी शोरूम में की डकैती, वीडियो कॉल से सरगना ने रखी नजर; 8 गिरफ्तार
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तानMon, 27 Nov 2023 11:10 AM
ऐप पर पढ़ें

रिलायंस ज्वेलरी शोरूम में जिस वक्त शोरूम में डकैती डाली जा रही थी, उस वक्त बदमाशों ने गैंग सरगना को वीडियो कॉल की। डकैती पर पल-पल की अपडेट ले रहा था। शोरूम में डकैती डालने वाले गैंग को चोरी के वाहन उपलब्ध कराने के आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

गिरफ्तार आरोपी यूपी के अमरोहा जिले का निवासी है। डकैती में पुलिस ने अब तक आठ आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इनमें डकैती के लिए शोरूम में घुसा एक बदमाश भी शामिल है। एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि रिलायंस ज्वेलरी शोरूम में सीसीटीवी फुटेज में दिख रहे बदमाश अभिषेक को पुलिस ने बिहार से गिरफ्तार किया।

उससे जानकारी मिली कि अमरोहा के एक युवक ने उन्हें डकैती डालने में प्रयुक्त कार और दो बाइक उपलब्ध कराई थी। पुलिस ने जानकारी जुटाते हुए अकबर, पुत्र जाहिद, निवासी फैयाज नगर, थाना सैद नागली, जिला अमरोहा यूपी को उसके गांव के पास से गिरफ्तार किया।

एसएसपी के मुताबिक अकबर पूर्व में राजस्थान में कुरकुरे की टूयम कंपनी में स्टोर कीपर का काम करता था। वहां उसके साथ अलीगढ़ निवासी सुमित भी काम करता था। अकबर ने सुमति नाम की लड़की से प्रेम विवाह कर इलाहाबाद हाईकोर्ट में शादी पंजीकृत की थी।

बाद में सुमति की मां ने अकबर के खिलाफ दुष्कर्म और जानलेवा हमले का मुकदमा भिवाड़ी, राजस्थान में दर्ज कराया। अकबर के साथ आरोपियों में अकरम निवासी राजस्थान, सुमित निवासी अलीगढ़, मुकेश निवासी राजस्थान शामिल थे।

तीनों आठ महीने तक किशनगढ़ जेल में रहे। जेल से बाहर आने के बाद अकबर की पहचान सुजीत नाम के एक व्यक्ति से हुई। उसने अकबर को एक कार और बाइक की व्यवस्था करने को कहा। उसके एवज में अच्छी धनराशि मिलने की बात कही। अकबर ने साथी सुमित को इस बारे में बताते हुए उसे भी जोड़ लिया। आरोपियों ने आगरा से जून 2023 में कार लूटी।

वहीं बाइक मानेसर और गुरुग्राम से चुराई गई। इन पर भी फर्जी नंबर प्लेट लगाई गई। सुजीत के कहने पर अकबर ने बीते 31 अक्तूबर को एक बाइक को सहारनपुर चौक के पास, छह नवंबर को कार को बिजनौर और सात नवंबर को दूसरी बाइक आईएसबीटी के पास दी। सात नवंबर को सुजीत ने अकबर को 27 हजार रुपये दिए। 

वीडियो कॉल पर वारदात देख रहा था सरगना 
रिलायंस शोरूम में डकैती डालने वाला यह गैंग फिल्मी स्टाइल में संचालित होता है। डकैती डालने वाले बदमाश अन्य व्यवस्था बनाने वालों से जुड़े नहीं होते हैं। जिस वक्त शोरूम में डकैती डाली जा रही थी, उस वक्त बदमाशों ने गैंग सरगना को वीडियो कॉल की।

वीडियो कॉल पर वह पूरी घटना देख रहा था। उसने देखा कि किस तरह वारदात को अंजाम दिया गया। इसके बाद डकैती डालने वालों को कहा गया कि वह पांवटा साहिब में लूटा गया माल छोड़ दें। वहां इन बदमाशों को कुछ लोग मिले।

उनके पास डकैती का माल छोड़कर आरोपी दिल्ली और अलग-अलग रास्तों के जरिए बिहार पहुंच गए थे। अभिषेक को इतना भी नहीं पता कि उनके द्वारा लूटा गया माल कहां और किसके पास पहुंचा है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें