ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडLIVE: उत्तरकाशी टनल के अंदर दाखिल हुए NDRF जवान, जल्द आ सकती है खुशखबरी

LIVE: उत्तरकाशी टनल के अंदर दाखिल हुए NDRF जवान, जल्द आ सकती है खुशखबरी

उत्तरकाशी टनल हादसे में 11 दिनों से फंसे 41 लोगों की  जान बचाने को रात-दिन रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। एनडीआरएफ, एसीडीआरएफ, आईटीबीपी, बीआरओ सहित कई नोडल एजेंसियां रेस्क्यू अभियान में जुटी हुईं हैं।

LIVE: उत्तरकाशी टनल के अंदर दाखिल हुए NDRF जवान, जल्द आ सकती है खुशखबरी
Himanshu Kumar Lallउत्तरकाशी, लाइव हिन्दुस्तानWed, 22 Nov 2023 10:46 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तरकाशी टनल हादसे में 11 दिनों से फंसे 41 लोगों की  जान बचाने को रात-दिन रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। एनडीआरएफ, एसीडीआरएफ, आईटीबीपी, बीआरओ सहित कई नोडल एजेंसियां रेस्क्यू अभियान में जुटी हुईं हैं। उम्मीद जताई जा रही है कि बुधवार देर रात तक मजदूरों को सकुशल रेस्क्यू कर लिया जाएगा। 

टनल के अंदर फंसे लोगों को बाहर निकालने के लिए कई विकल्पों पर एक साथ काम किया जा रहा है। उम्मीद जताई जा रही है कि टनल में फंसे सभी लोगों को जल्द ही रेस्कयू कर सकुशल बाहर निकाल लिया जाएगा। 

01:00 AM
उत्तराखंड में रेस्क्यू टीम के सदस्य हरपाल सिंह ने बताया कि टनल के अंदर 10 से 12 मीटर तक और जाना है। मलबे में कुछ स्टील के टुकड़े आ गए हैं और अब उनको काटा जा रहा है। बताया कि लगभग एक घंटे में इन्हें काट लिया जाएगा।

सिंह की मानें कि अगर सबकुछ ठीकठाक रहा तो गुरुवार सुबह करीब 8 बजे तक रेस्क्यू ऑपरेशन पूरा हो जाएगा।

00:30 AM
रेस्क्यू टीम के सामने टनल में खुदाई के दौरान कई चुनौतियां सामने आ रहीं है। ऑगर मशीन के खुदाई के दौरान टनल के अंदर स्टील के टुकड़े की वजह से खुदाई का काम रोकना पड़ा। टीम द्वारा खुदाई के  दौरान सामने आ रहीं अड़चनों को दूर किया जा रहा है। 

00:05 AM
टलन में रेस्क्यू ऑपरेशन बुधवार देररात तक जारी रहा। ऑगर मशीन ने 50 मीटर अंदर तक खुदाई कर दी है। टनल के अंदर फंसे मजदूरों तक पहुंचने के लिए अब बस कुछ ही मीटर दूरी बची है। उम्मीद जताई जा रही है कि जल्द ही खुदाई का काम पूरा हो जाएगा। 

11:30 PM
टलन के अंदर से मजदूरों के बाहर निकलने की अटकलों के बीच परिजनों में खुशी का माहौल है। टनल में पिछले 11 दिनों से फंसे मजदूरों के परिजन टनल के बाहर बुधवार देर रात तक डटे हुए हैं। परिजन बेसब्री से अपनों का टनल के बाहर आने का इंतजार कर रहे हैं। 

11:00 PM
एनडीआरएफ के जवानों के टनल के अंदर प्रवेश करने के बाद राहत व बचाव कार्यों में जुटी अन्य एजेंसियां भी एक्टिव मोड पर आ गईं हैं। टनल के अंदर भी एंबुलेंस तैनात की गई है। डॉक्टर भी टनल के अंदर मैाजूद है। रेस्क्यू अभियान में जुटे सभी कर्मियों को अलर्ट मोड पर रखा गया है।  

10:30 PM
एनडीआरएफ के बहादुर जवान टनल के अंदर प्रवेश किया है। माना जा रहा है कि टनल के अंदर फंसे लोगों को देर रात तक निकाल लिया जाएगा। 

यह भी पढ़ें: सुरंग में मजदूरों तक पहुंचने वाली है 800 MM की पाइप, खत्म होने वाला है देश का इंतजार

10:00 PM
टनल में फंसे मजदूरों के बाहर निकलने की उम्मीद पहले से ज्यादा प्रबल हो गई है। तमाम एजेंसियां सहित सरकार अमला टनल के बाहर मौजूद है। टनल के आस-पास सुरक्षा भी बढ़ाई गई है।

9:30 PM
उत्तरकाशी के सिलक्यारा में कड़ाके की ठंड के बावजूद भी मजदूरों के परिजन टनल के आस-पास एकत्रित हो गए। परिजनों की आंखें अपनों की बेसब्री से इंतजार कर रही है।  

9:00 PM
सीएक पुष्कर सिंह धामी भी रुद्रपुर से उत्तरकाशी पहुंच गए हैं। राहत व बचाव कार्यों का जायजा लिया। बचाव दल के कर्मियों को सुरक्षा के साथ रेस्क्यू अभियान को पूरा करने के निर्देश दिए।

8:30 PM
टनल के आसपास फोर्स बढ़ाई गई। एनडीएआरएफ और मेडिकल टीम को हाई अलर्ट किया गया। टनल के बाहर फोर्स को बढ़ाया गया है।

8:00 PM
सिलक्यारा सुरंग के भीतर 11 दिन से फंसे श्रमिकों को बाहर निकालने की रेस्क्यू अभियान तेज हो गया है। सुरंग के भीतर की सबसे बड़ी बाधा दूर हो गई है। पूर्वाह्न 11 बजे तक 800 एमएम का पाइप सुरंग के भीतर 39 मीटर तक पहुंच गया है। अब पाइप को सिर्फ 18 मीटर तक पहुंचाया जाना बाकी रह गया है। 

यह भी पढ़ें:उत्तरकाशी सुरंग से लगातार दूसरे दिन आई खुशखबरी, 10 मीटर और खुदाई; कब तक निकल सकते हैं 41 मजदूर

7:00 PM
सिलक्यारा टनल में फंसे मजदूरों को निकालने के लिए चल रहे रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान बुधवार देर सांय सिलक्यारा में 43 एंबुलेंस तैनात कर दी गई हैं। इनमें से सात एडवांस लाइफ सपोर्ट एंबुलेंस शामिल हैं। जबकि शेष बेसिक लाइफ सपोर्ट सिस्टम तैयार रखी गई है। हेल्थ टीम के नोडल अफसर डॉ विमलेश कुमार के नेतृत्व में कुल 22 डॉक्टर और 80 अन्य मेडिकल स्टाफ को भी सिलक्यारा और चिन्यालीसौड़ में तैनात रखा गया है।

टनल के समीप ही अलग अलग स्थानों पर 150 ऑक्सीजन सिलेंडर और दवाएं भी तैयार रखी गई हैं। डॉक्टरों की टीम ने दिन में दो बार कैमरे के जरिए मजदूरों से बात की। इस दौरान उन्होंने आंखों में जलन और पेट में कांस्टिपेशन की समस्याएं बताई हैं। हालांकि डॉक्टरों के अनुसार अंदर फंसे सभी मजदूर पूरी तरह स्वस्थ्य हैं।

यह भी पढ़ें:मां मैं ठीक हूं, आप समय पर खाना खाएं... उत्तरकाशी टनल हादसे में अपनों की चिंता में किसी ने त्यागा अन्न तो कोई बेसुध

6:00 PM
सचिव खैरवाल ने बताया कि श्रमिकों ने डॉक्टर को कब्ज की दिक्कत बताई। इस पर डॉक्टर की ओर से उन्हें दवाई की जानकारी दी गई। जो उन तक पहुंच गई हैं। मजदूरों तक अब हर तरह का खाना पहुंचाया जा रहा है। मजदूरों को दाल, रोटी, खिचड़ी, दलिया, फ्रूट्स, जूस आदि भेजा जा रहा है। मजदूरों को पौष्टिक खाना पहुंचने के बाद उनकी हेल्थ और बेहतर हुई है। अब वह पहले से बेहतर महसूस कर रहे हैं।

5:00 PM
श्रमिकों की जरूरतों का पूरा ख्याल रखा जा रहा है। बुधवार को उनके लिए अंडर गारमेंट, टॉवल, साबुन, टूथ ब्रूश भी उपलब्ध कराए गए हैं। इसके अलावा अन्य सुविधाओं का भी पूरा ख्याल रखा जा रहा है।

4:30 PM 
पीएम के पूर्व सलाहाकार भाष्कर खुल्वे की पत्रकार वार्ता। उन्होंने बताया कि 48 मीटर पाइप टनल में फिट हो चुका है।

4:00 PM
एमडी एनएचआईडीसीएल महमूद अहमद ने बताया कि बड़कोट वाले छोर से होरिजेंटल ड्रिलिंग का काम शुरू हो गया था। इसमें तीसरा ब्लास्ट कर लिया गया है। इस स्थान से लगभग आठ मीटर काम पूरा हो गया है। श्रमिकों तक पहुंचने को प्रयास तेज हो गए हैं। इसक बाद भी अभी ड्रिलिंग के दौरान बड़े बोल्डर आने का खतरा अभी भी बना हुआ है।

3:00 PM
उत्तरकाशी की सिलक्यारा टनल में 11 दिनों से फंसे मजदूरों के परिजन बुधवार को बेसब्री से अपनों के बाहर आने का इंतजार करते रहे। शाम चार बजे जैसे ही टनल में 48 मीटर तक पाइप फिट होने की खबर आई। वहां मौजूद परिजनों के चेहरे खिल उठे। 

2:30 PM
सीएम पुष्कर सिंह धामी उत्तरकाशी टनल मामले में लगातार अपडेट ले रहे हैं। कहना था कि टनल में फंसे सभी 41 मजदूरों को सकुशल बाहर निकाल लिया जाएगा। 

2:05 PM
टनल के अंदर ड्रिलिंग का काम लगातार जारी है। बुधवार सुबह से ही रेस्क्यू टीम के सदस्य ड्रिलिंग करने में जुटे हुए हैं।

1:00 PM
पीएम मोदी को सीएम धामी उत्तराकशी टनल हादसे पर लगातार अपडेट दे रहे हैं। उन्होंने बताया कि टनल में फंसे 41 लोगों की जान बचाने को राहत व बचाव कार्य युद्धस्तर पर चल रहा है। आश्वासन दिया कि हरहाल में सभी लोगों को टनल से सुरक्षित बाहर निकाल लिया जाएगा। 

12:05 PM
पीएम मोदी को सीएम धामी उत्तराकशी टनल हादसे पर लगातार अपडेट दे रहे हैं। उन्होंने बताया कि टनल में फंसे 41 लोगों की जान बचाने को राहत व बचाव कार्य युद्धस्तर पर चल रहा है। आश्वासन दिया कि हरहाल में सभी लोगों को टनल से सुरक्षित बाहर निकाल लिया जाएगा। 

11:30 AM
सिलक्यारा सुरंग के अंदर छह इंच का अतिरिक्त फूड पाइप मजदूरों तक पहुंचाने के बाद बाहर परिजनों के चेहरे खिले हुए हैं। श्रमिकों का भी मनोबल बढ़ा है। अब तो वॉकी-टॉकी भी काम करने लगा है। मोबाइल चार्जर भी इस पाइप के जरिए मजदूरों तक पहुंचाया गया है। तीन टाइम का खाना और आवश्यक सामग्री मजदूरों तक इस फूड पाइप के जरिए भेजा जा रहा है। 

11:00 AM
ओडिशा से सिलक्यारा पहुंचे अजय कुमार मंडल ने अंदर फंसे अपने भाई तपन से सोमवार रात 10.30 बजे बातचीत की। अजय कुमार ने बताया कि सुबह कैमरे से भी भाई को देखा है। अपनी आंखों से देखने के बाद यकीन हो गया है कि अंदर फंसे लोग सुरक्षित हैं। इस दौरान खुशी से उनकी आंखें छलक गईं। अब बस इंतजार उनके सकुशल बाहर निकलने का है। अब तक हम भी बहुत चिंतित थे।

10:30 AM
उत्तरकाशी के सिलक्यारा सुरंग के अंदर छह इंच का अतिरिक्त फूड पाइप मजदूरों तक पहुंचाने के बाद बाहर परिजनों के चेहरे खिले हुए हैं। श्रमिकों का भी मनोबल बढ़ा है। अब तो वॉकी-टॉकी भी काम करने लगा है। मोबाइल चार्जर भी इस पाइप के जरिए मजदूरों तक पहुंचाया गया है। तीन टाइम का खाना और आवश्यक सामग्री मजदूरों तक इस फूड पाइप के जरिए भेजा जा रहा है। 

10:15 AM
उत्तरकाशी टनल से जुड़ी एक बहुत बड़ा अपडेट सामने आया है। लगातार दूसरे दिन खुशखबरी सामने आई है। टनल में 10 मीटर अंदर की और खुदाई हो चुकी है। ऐसे में उम्मीद जताई जा रही है कि  जल्द ही लोगों को रेस्कयू  कर लिया जाएगा। 

10:00 AM
टनल के अंदर फंसे  लोगों को बाहर निकालने के लिए 11वें दिन भी राहत व  बचाव का काम जारी है। रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी नोडल एजेंसियां कई प्लान पर काम कर रहीं है। 

9:30 AM
टनल में फंसे लोगों को ऑक्सीजन के साथ ही खाने-पीने का सामान भी पाइप के माध्यम से भिजवाया जा रहा है। बोतल में भरकर पाइप के माध्यम से खिचड़ी भी  भिजवाई जा चुकी है। 
 

 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें