DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्रवृत्ति घोटाला: जांच के घेरे में आएंगे कई नामी संस्थान

छात्रवृत्ति घोटाले की जद में राजधानी के कई नामी शिक्षण व प्रशिक्षण संस्थान भी आएंगे। सूत्रों के अनुसार, देहरादून और हरिद्वार के तीन से ज्यादा निजी कॉलेजों में छात्रवृत्ति के गोलमाल की शिकायतें मिली थीं। इनमें लगभग 153 कॉलेज देहरादून जबकि करीब 150 कॉलेज हरिद्वार के थे। एसआईटी ने अब तक की जांच में हरिद्वार में 74 और देहरादून में 12 से ज्यादा कॉलेजों को चिन्हित किया है। जांच बढ़ने के साथ ऐसे कॉलेजों की संख्या और बढ़ने की संभावना है।  

एसआईटी ने फर्जीवाड़े को लेकर हरिद्वार में कार्रवाई करीब-करीब पूरी कर ली है। यहां चिह्नित 74 कॉलेजों को नोटिस जारी किए जा चुके हैं और उनके पदाधिकारियों से पूछताछ जारी है। पांच कॉलेजों के पदाधिकारियों की गिरफ्तारी हो चुकी है। ऐसे में अब एसआईटी का पूरा फोकस राजधानी के संस्थानों पर है। अभी यहां फर्जीवाड़े के शक की जद में 12 संस्थान आए हैं। आरोप है कि इन कॉलेजों के प्रबंधकों ने समाज कल्याण विभाग को करोड़ों रुपये का चूना लगाया है। सूत्रों के अनुसार ऐसे कॉलेजों की संख्या 30 तक पहुंच सकती है। इसमें कई नामी संस्थानों के शामिल होने की बात कही जा रही है। इस संबंध में जरूरी रिकार्ड कॉलेज से लिए गए हैं और कुछ के रिकार्ड यूनिवर्सिटी से मंगवाए गए हैं।

 

गजब! छात्रवृत्ति लेने के बाद बंद कर दिए कॉलेज
एसआईटी की अब तक की जांच में दो ऐसे कॉलेज भी सामने आए हैं जो 2016 से पहले ही बंद हो गए, जबकि इनमें दो साल तक सैकड़ों छात्रों के नाम पर छात्रवृत्ति के रूप में करोड़ों रुपये लिए गए। बाद में ये कॉलेज बंद हो गए। इसके पीछे क्या वजह थी ये भी पता किया जा रहा है। इनका रिकार्ड यूनिवर्सिटी से मंगाया गया है।

 

अभी राजधानी के करीब एक दर्जन कॉलेज जांच के दायरे में हैं। इनमें कुछ नामी-गिरामी कॉलेज भी हैं। इन सभी से उनके वर्ष 2012 से 2017 तक के रिकार्ड मंगवाए गए हैं। कुछ के पास रिकार्ड नहीं हैं, जो यूनिवर्सिटी से मंगवाए जा रहे हैं। इसके बाद ही फर्जीवाड़े का आकलन हो पाएगा।
अशोक कुमार, डीजी, कानून व्यवस्था

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:renowned institutions come under scanner in scholarship scam in uttarakhand