ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडरिलायंस ज्वेलरी शोरूम डकैती पर देहरादून पुलिस को मिले सुराग,कार के गियर बॉक्स में छुपाकर लाए हथियार

रिलायंस ज्वेलरी शोरूम डकैती पर देहरादून पुलिस को मिले सुराग,कार के गियर बॉक्स में छुपाकर लाए हथियार

कार के गियर बॉक्स में हथियार छुपाकर दून लाए थे। लिहाजा, इनकी धरपकड़ के लिए चार राज्यों में पुलिस की टीमें भेज दी गई हैं। बीते गुरुवार की सुबह रिलायंस का ज्वेलरी शोरूम खुलते ही बदमाश अंदर घुस आए थे।

रिलायंस ज्वेलरी शोरूम डकैती पर देहरादून पुलिस को मिले सुराग,कार के गियर बॉक्स में छुपाकर लाए हथियार
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तानTue, 14 Nov 2023 12:47 PM
ऐप पर पढ़ें

रिलायंस ज्वेलरी शोरूम में हुई डकैती मामले में अभी तक खुलासा नहीं हो पाया है। हालांकि, पुलिस का दावा है कि डकैती मामले में पुलिस के हाथ कई अहम सुराग लगे हैं।  देहरादून पुलिस का दावा है कि मामले का जल्द ही खुलासा कर लिया जाएगा।

राजपुर रोड स्थित रिलायंस कंपनी के ज्वेलरी शोरूम में हुई डकैती में प्रयुक्त वाहन तो पुलिस ने बरामद कर लिए, पर आरोपी हत्थे नहीं चढ़ सके हैं। फॉरेंसिक जांच में पता चला है कि डकैती में प्रयुक्त कार लूट की थी।

बदमाश उसके गियर बॉक्स में हथियार छुपाकर दून लाए थे। लिहाजा, इनकी धरपकड़ के लिए चार राज्यों में पुलिस की टीमें भेज दी गई हैं। बीते गुरुवार की सुबह रिलायंस का ज्वेलरी शोरूम खुलते ही बदमाश अंदर घुस आए थे।

उन्होंने यहां कर्मचारियों को पिस्टलों के बल पर बंधक बनाकर बीस करोड़ रुपये से अधिक के गहने ले लिए थे। इस वारदात में प्रयुक्त दो बाइक और एक कार को आरोपी सहसपुर और सेलाकुई क्षेत्र में छोड़कर भाग गए थे।

एसएसपी अजय सिंह ने सोमवार को बताया कि इस प्रकरण में पुलिस के हाथ अहम सुराग लगे हैं। बदमाशों ने डकैती में प्रयुक्त कार जून में यमुना एक्सप्रेस-वे पर आगरा से लूटी थी।

पुलिस ने कार का फॉरेंसिक परीक्षण कराया तो पता चला कि कार को दो लोगों ने जून में दिल्ली से आगरा के लिए बुक किया था। आगरा के कंदौली थाना क्षेत्र में चालक को बंधक बनाकर कार लूट ली गई थी। लिहाजा, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल और मध्य प्रदेश में टीमें भेजी गई हैं।

कोई सुराग नहीं छोड़ा!
डकैती डालने आए बदमाशों ने पुलिस से बचने के लिए पूरी फील्डिंग बिछाई हुई थी। आरोपियों ने दोपहिया वाहन दो महीने पहले ही दिल्ली से चोरी कर लिए थे। इन वाहनों पर फर्जी नंबर प्लेट लगाई गई थी। एक बाइक पर मेरठ एवं दूसरी बाइक पर फतेहपुर का नंबर दर्ज था। आरोपियों की कार जो सेलाकुई क्षेत्र में मिली, उसके अंदर तीन फर्जी नंबर प्लेट भी बरामद हुईं थी।

ऐसा तो नहीं कि उत्तराखंड में ही छुपे हों बदमाश
वारदात के बाद दून और इसके बॉर्डर पर सघन अभियान चलाया गया था। बदमाशों ने अपनी बाइकें सहसपुर थाना क्षेत्र और कार सेलाकुई क्षेत्र में छोड़ी थीं। यहां से बदमाश कहां गए, यह पता नहीं चला है। संभावना यह भी है कि बदमाश उत्तराखंड में ही छुपे हों। बदमाशों ने वारदात से पहले कई माह तक रैकी की थी।

वारदात के कुछ दिन पहले वो हरिद्वार में रुके थे। एसएसपी ने बताया कि आरोपियों ने हथियार छुपाने के लिए जिस तरीके से कार में सीक्रेट बॉक्स बनाया था, ऐसे हथकंडे पूर्व में महाराष्ट्र, बंगाल और महाराष्ट्र की घटनाओं में अपनाए गए हैं।

घिस दिया था चेसिस नंबर
एसएसपी ने बताया कि आरोपियों ने कार का इंजन और चेसिस नंबर घिस दिया था। लिहाजा, पुलिस को कार की फॉरेंसिक जांच करवानी पड़ी। उन्होंने बताया कि जांच में गियर बॉक्स के नीचे एक सीक्रेट बॉक्स मिला है, जिसमें हथियार छुपाए गए थे।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें