ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तराखंडरिश्तेदार-दोस्त बनकर बैंक खातों में डाल रहे डाका, साइबर ठगी के नए तरीकों ने दी टेंशन

रिश्तेदार-दोस्त बनकर बैंक खातों में डाल रहे डाका, साइबर ठगी के नए तरीकों ने दी टेंशन

वह कॉल कर स्वयं को रिश्तेदार, परिचित बताते हैं। वह ऐसा माहौल बनाते हैं कि सामने वाला उन्हें अपना रिश्तेदार, परिचित ही समझ बैठता है। बाद में कहते है कि उनके यहां से ऑनलाइन रुपये ट्रांसफर नहीं हुए।

रिश्तेदार-दोस्त बनकर बैंक खातों में डाल रहे डाका, साइबर ठगी के नए तरीकों ने दी टेंशन
Himanshu Kumar Lallपिथौरागढ़। संतोष आर्यनMon, 05 Feb 2024 05:00 PM
ऐप पर पढ़ें

साइबर ठगी के बावजूद लोग सतर्कता छोड़ अधिक लापरवाही बरत रहे हैं। हालात यह हैं कि अज्ञात नंबरों से कॉल करने वाले लोग स्वयं को रिश्तेदार, परिचित, दोस्त बताकर उनके बैंक खाते में धन भेजने को लेकर मैसेज कर रहे हैं और लोग ठगों के झांसे में आकर उनके बताए खातों में अपने बैंक खाते से धन ट्रांसफर कर रहे हैं।  

एक माह के भीतर ही साइबर ठगों ने रिश्तेदार, परिचित बनकर करीब 35 लोगों को ठगा है। जनपद में पुलिस लगातार जागरूकता अभियान चलाकर लोगों से साइबर ठगों के चंगुल से स्वयं को सुरक्षित रखने को प्रेरित कर रही है। पेटीएम फ्राड, फोन पे, यूपीआइ फ्राड, वीडियो काल कर अश्लील वीडियो बनाकर ब्लेकमेलिंग के साथ इन दिनों ठग खुद को पीड़ित का रिश्तेदार, परिचित बनकर धोखाधड़ी कर रहे हैं।

वह कॉल कर स्वयं को रिश्तेदार, परिचित बताते हैं। वह ऐसा माहौल बनाते हैं कि सामने वाला उन्हें अपना रिश्तेदार, परिचित ही समझ बैठता है। बाद में कहते है कि उनके यहां से ऑनलाइन रुपये ट्रांसफर नहीं हो रहे हैं। इसलिए वह उनके खाते में रुपये डालेंगे और बाद में वह उनके बताए खाते में धनराशि भेज दें। अराजक तत्व खाते में धन जमा होने का बैंक से आने वाले हुबहु मैसेज संबंधित को भेजते हैं। 
खतौली के मोहन सिंह ने कोतवाली में तहरीर दी है। उनका कहना है कि पूर्व में उन्हें बैंक से क्रेडिड कार्ड की सुविधा ली थी, जिसे बाद में बंद क दिया।  बीते दिसंबर माह के दौरान बगैर एप्लाई के बैंक की ओर से उन्हें क्रेडिड कार्ड मिला। जब उन्हें कस्टमयर केयर पर कॉल की तो उनसे आधार और पैन कार्ड मांगा गया। कुछ देर बाद उनके खाते से पहले 52हजार 873 और 98635 रुपये निकाल गए। 

ये बरतें सावधानी
-जिस फोन नंबर से कॉल या मैसेज आए उसे वेरिफायर जरूर कर लें
-कॉल करने वाला नंबर और खाते में धन जमा संबंधी मैसेज एक ही मोबाइल नंबर से आए तो सावधान हो जाए
-साइबर ठगों से बचने के लिए फोन काल, एसएमएस या अन्य किसी माध्यम से ओटीपी, यूपीआइ पिन या एटीएम पिन किसी के साथ शेयर न करें
-फोन पर आए किसी भी लिंक को फालो न करें

जनपद में इन दिनों दोस्त, रिश्तेदार, परिचित बनकर साइबर ठगी अधिक हो रही है। साइबर ठगों से बचने के लिए सतर्कता बरतनी होगी। कॉल करने वाला नंबर और खाते में धन जमा संबंधी मैसेज अगर एक ही मोबाइल नंबर से आए तो सावधान हो जाए। 
मनोज पांडेय, प्रभारी साइबर सैल पिथौरागढ़।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें