registration is mandatory for selling ayurveda and unani medicines in uttarakhand - आयुर्वेदिक और यूनानी दवाएं बेचने के लिए पंजीकरण अनिवार्य होगा DA Image
18 नबम्बर, 2019|6:30|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आयुर्वेदिक और यूनानी दवाएं बेचने के लिए पंजीकरण अनिवार्य होगा

medicine

आयुर्वेदिक, सिद्धा और यूनानी दवाइयों की बिक्री अब बिना पंजीकरण नहीं हो सकेगी। आयुर्वेद, सिद्धा, यूनानी चिकित्सा पद्धति की ड्रग कंसल्टेटिव कमेटी ने दवा बिक्री के लिए पंजीकरण की अनिवार्यता पर सहमति जता दी है। ड्रग एंड कॉस्मेटिक ऐक्ट में बदलाव के बाद दवा बिक्री के मानक बदल जाएंगे। आयुर्वेदिक, सिद्धा, यूनानी दवाइयों की बिक्री के लिए पंजीकरण की जरूरत अभी तक नहीं है। कोई भी दुकानदार इन दवाइयों को बेच सकता है। मगर, इससे दवाइयों की गुणवत्ता खराब के साथ ही निगरानी भी नहीं हो पा रही है। उत्तराखंड के साथ ही कई राज्यों ने इस पूरी व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए ऐक्ट में बदलाव की मांग की थी। इस पर अब एएसयू ड्रग कंसल्टेटिव कमेटी ने सहमति जता दी है। यह कमेटी जल्द इसका तकनीकी परीक्षण करेगी और फिर ऐक्ट में बदलाव किया जाएगा। आयुर्वेद विभाग के ड्रग कंट्रोलर डॉ. वाईएस रावत ने बताया कि उत्तराखंड की ओर से एएसयू की ड्रग कंसल्टेटिव कमेटी के सामने यह प्रस्ताव रखा गया था, जिस पर अब सहमति बन गई है। उन्होंने कहा कि ऐक्ट में बदलाव की प्रक्रिया पूरी होने के बाद दवाइयों की बिक्री के लिए भी पंजीकरण जरूरी हो जाएगा।

 

सरकार को भेजा प्रस्ताव
उत्तराखंड चिकित्सा परिषद ने आयुर्वेद के दवा स्टोरों के लिए पंजीकरण के साथ फार्मासिस्ट भी अनिवार्य करने की वकालत की है। परिषद अध्यक्ष डॉ. दर्शन कुमार शर्मा ने इसके लिए राज्य सरकार एवं भारतीय चिकित्सा परिषद को प्रस्ताव भेजा है। डॉ. शर्मा का कहना है कि इससे आयुर्वेद में फार्मेसी करने वाले युवाओं को रोजगार के मौके मिलेंगे। साथ ही आयुर्वेद के प्रति युवाओं का रुझान भी बढ़ेगा। 


आयुर्वेद का बड़ा बाजार 
उत्तराखंड आयुर्वेद का बड़ा बाजार है। राज्य में आयुर्वेद दवा निर्माण की 250 से अधिक यूनिटें हैं। तीन हजार से अधिक मेडिकल स्टोर भी हैं। ड्रग एंड कॉस्मेटिक ऐक्ट में आयुर्वेद की दवा निर्माता यूनिटों के लिए तो पंजीकरण की व्यवस्था की गई है, लेकिन दवा विक्रेताओं के लिए पंजीकरण का नियम ही नहीं है। इधर, एलोपैथी की दवाइयों की बिक्री के लिए पहले से ही पंजीकरण अनिवार्य है।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:registration is mandatory for selling ayurveda and unani medicines in uttarakhand