ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडशराब का ऐसे चढ़ा सुरूर पहुंचे अस्पताल,  नशे की लत छुड़ाने को अब डॉक्टरों का सहारा 

शराब का ऐसे चढ़ा सुरूर पहुंचे अस्पताल,  नशे की लत छुड़ाने को अब डॉक्टरों का सहारा 

नगर के जिला अस्पताल में वर्ष 2022 से सामान्य रोगों के साथ ही मानसिक बीमारियों का भी इलाज किया जा रहा है। डिप्रेशन, इंजायटी के साथ ही लोग बुरी आदतों (एडिक्शन) से पीछा छुड़ाने के लिए अस्पताल पहुंच रहे।

शराब का ऐसे चढ़ा सुरूर पहुंचे अस्पताल,  नशे की लत छुड़ाने को अब डॉक्टरों का सहारा 
Himanshu Kumar Lallपिथौरागढ, संतोष आर्यनMon, 27 May 2024 05:47 PM
ऐप पर पढ़ें

दुनियाभर में लोग शराब का सेवन करते हैं, लेकिन कुछ लोग ऐसे हैं जो इस हद तक पी रहे हैं कि उन्हें शराब की लत लग रही है। लेकिन पिथौरागढ़में लोग नशे की लत छुड़ाने के लिए अस्पताल पहुंच रहे हैं। वह शराब की बुरी आदत को छोड़ना तो चाह रहे हैं, लेकिन चाह कर भी उनके लिए शराब छोड़ पाना नामुमकिन साबित हो रहा है।

ऐसे कुछ लोग अब चिकित्सकों की मदद ले रहे हैं। नगर के जिला अस्पताल में वर्ष 2022 से सामान्य रोगों के साथ ही मानसिक बीमारियों का भी इलाज किया जा रहा है। डिप्रेशन, इंजायटी के साथ ही कई लोग बुरी आदतों (एडिक्शन) से पीछा छुड़ाने के लिए भी अस्पताल पहुंच रहे हैं।

ऐसे लोगों में शराब का सेवन करने वाले लोग भी शामिल हैं। बीते एक वर्ष में अस्पताल में अल्कोहल एडिक्शन के तकरीबन 115 मामलें अस्पताल तक पहुंचे हैं। उक्त सभी लोगों की शराब की आदत छुड़वाने के लिए चिकित्सक काउंसलिंग कर रहे हैं।

जीवन को प्रभावित करती है शराब
पिथौरागढ़। सीमांत में और भी लोग शराब की लत से परेशान हो सकती हैं। वरिष्ठ मनोचिकित्सक व मानसिक स्वास्थ्य के नोडल डॉ. ललित भट्ट का कहना है कि लोकलाज के भय से कई लोग इलाज को अस्पताल पहुंचते ही नहीं है।

उनका कहना है मन में दृढ़ इच्छा हो तो शराब की इस बुरी आदत को दूर किया जा सकता है। कहा कि शराब की लत, एक ऐसी बीमारी है जो जीवन के सभी क्षेत्रों के लोगों को प्रभावित करती है।

चरस, स्मैक के लती भी पहुंच रहे इलाज कराने
पिथौरागढ़। शराब के साथ ही चरस स्मैक के लती भी इलाज को अस्पताल को पहुंच रहे हैं। अस्पताल प्रबंधन से मिली जानकारी के मुताबिक बीते कुछ माह में ही चरस के आठ और एक स्मैक एडिक्शन व्यक्ति इलाज कराने पहुंचे हैं। इनकी भी काउंसलिंग की जा रही है।

जनपद में अल्कोहल एडिक्ट लोग इलाज को पहुंच रहे हैं। उक्त लोगों की काउंसलिंग की जा रही है।
डॉ. ललित भट्ट, नोडल मानसिक स्वास्थ्य पिथौरागढ़।