ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडचारधाम रूट पर बारिश पर अपडेट, कार-बस में सड़क पर गुजर सकती है रात 

चारधाम रूट पर बारिश पर अपडेट, कार-बस में सड़क पर गुजर सकती है रात 

मौसम विभाग के निदेशक डॉ. बिक्रम सिंह के मुताबिक दो और तीन जून को उत्तराखंडके पहाड़ी जिलों में अच्छी बारिश और मैदानी इलाकों में हल्की बारिश और ओलावृष्टि की संभावना है। चारधाम रूट पर मौसम अपडेट है।

चारधाम रूट पर बारिश पर अपडेट, कार-बस में सड़क पर गुजर सकती है रात 
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, लाइव हिन्दुस्तानSun, 02 Jun 2024 11:40 AM
ऐप पर पढ़ें

चारधाम यात्रा रूट पर बारिश पर बहुत बड़ा अपडेट सामने आया है। उत्तराखंड के पर्वतीय इलाकों में अगले दो दिन बारिश का पूर्वानुमान लगाया गया है। ऐसे में चारधाम जाने वाले तीर्थ यात्रियों से अपील है कि यात्रा पर जाने से पहले मौसम की जानकारी जरूर जुटा लें। रात होने से पहले अपने गंतव्य में पहुंच जाएं।

आपको बता दें कि खराब मौसम में सड़क पर बोल्डर या भूस्खलन की आशंका बनी रहती है।  मौसम विभाग के निदेशक डॉ. बिक्रम सिंह के मुताबिक दो और तीन जून को उत्तराखंडके पहाड़ी जिलों में अच्छी बारिश और मैदानी इलाकों में हल्की बारिश और ओलावृष्टि की संभावना है।

उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली, पिथौरागढ़, अल्मोड़ा आदि जिलों में बारिश का पूर्वानुमान है। चार और पांच जून को प्रदेश के अधिकांश इलाकों में बारिश दर्ज की जाएगी। प्रदेश के पहाड़ी जिलों में 40 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से तेज हवाएं चलने का भी येलो अलर्ट दिया गया है।

शनिवार को पहाड़ों में कई जगहों और मैदानों में कुछ इलाकों में हल्की बारिश हुई है। कई जगह ओले भी पड़े हैं। ऐसे में दो जून को लू से राहत मिलेगी। बारिश और ओलावृष्टि से तापमान में कमी दर्ज की जाएगी। उधर, पंतनगर का तापमान 39.5, मुक्तेश्वर का 31, नई टिहरी में 30.6 डिग्री सेल्सियस तापमान रहा।

उत्तराखंड में शनिवार दोपहर बाद पहाड़ के विभिन्न इलाकों और मैदानों में कुछ जगह पर बारिश से गर्मी से कुछ राहत मिली। हालांकि दिन में चिलचिलाती धूप और गर्म हवाओं की वजह से लोगों को परेशानी उठानी पड़ी। दून में तापमान सामान्य से छह डिग्री सेल्सियस ज्यादा 42.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

खराब मौसम-बारिश में रास्ते हो जाते हैं बंद
चारधाम यात्रा रूट में खराब मौसम और बारिश के बाद अकसर रास्ते बंद हो जाते हैं। बारिश में सड़क पर बोल्डर गिरने या फिर भस्खलन की वजह से रास्ते होने की आशंका हमेशा बनी रहती है। हालांकि, यात्रा रूट पर प्रशासन की टीम ने कई जगह बुलडोजर तैनात किए हुए हैं, लेकिन रास्ता बंद होने से तीर्थ यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। 

इन जिलों में स्थित है चारधाम मंदिर
उत्तरकाशी जिले में गंगोत्री और यमुनोत्री धाम स्थित हैं। भगवार शिव को समर्पित केदारनाथ धाम रुद्रप्रयाग जिले में है, जबकि बदरीनाथ धाम चमोली जिले में स्थित है। विदित हो कि 10 मई से शुरू चारधाम में अबतक सबसे ज्यादा केदारनाथ धाम में तीर्थ यात्रियों ने दर्शन किए हैं। 

ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन दोबारा शुरू
चारधाम यात्रा के लिए ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन दोाबरा 1 जून से शुरू कर दिया गया है। चारों धामों में भक्तों की भारी भीड़ की वजह से सराकर ने 15 मई से चारधाम ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन को बंद कर दिया था। हरिद्वार और ऋषिकेश में चारधाम ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन किए जा रहे हैं। आपको बता दें कि चारधाम यात्रा पर जाने से ऑनलाइन या ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है। 

हेमकुंड साहिब में बर्फबारी के बाद ठंड बढ़ी
हेमकुंड साहिब में शनिवार को अपराह्न बाद हिमपात हुआ। बर्फ की फाहों के बीच श्रद्धालुओं ने जो बोले सो निहाल सत श्री अकाल के जय घोष के साथ हेमकुंड साहिब के दर्शन किये और गुरुद्वारे में मत्था टेका। हेमकुंड पहुंचे पर्यटक बर्फ देखकर काफी उत्साहित नजर आए।

हालांकि बर्फबारी के बाद ठंड काफी बढ़ गई है। गोविन्द घाट हेमकुंड साहिब गुरुद्वारा के प्रबंधक सरदार सेवा सिंह ने बताया शनिवार को अपराह्न बाद हेमकुंड साहिब में 5-6 इंच तक बर्फबारी हुई। आधे घंटे से अधिक समय तक हिमपात हुआ। उसके बाद मौसम साफ हो गया।

चारधाम यात्रा करते समय ये रखें सावधानी
यात्रा शुरू करने से पहले मौसम पर अपडेट जरूर लें 
रात होने से पहले अपने गंतव्य पर पहुंच जाएं 
यात्रा करते समय सतर्क रहें 
चारधाम यात्रा पर जाते समय गर्म कपड़े जरूर साथ रखें 
खाने-पीने की वस्तुओं के साथ ही यात्रा पर निकलें