ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडकेदारनाथ-यमुनोत्री चारधाम पर बारिश-आकाशीय बिजली चमकने का अलर्ट, ये रखें सावधानी 

केदारनाथ-यमुनोत्री चारधाम पर बारिश-आकाशीय बिजली चमकने का अलर्ट, ये रखें सावधानी 

मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह के मुताबिक उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली, बागेश्वर, पिथौरागढ़, टिहरी, अल्मोड़ा और चंपावत जिले में आज कहीं-कहीं हल्की बारिश का पूर्वानुमान है।

केदारनाथ-यमुनोत्री चारधाम पर बारिश-आकाशीय बिजली चमकने का अलर्ट, ये रखें सावधानी 
rain lightning alert kedarnath yamunotri chardham weather forecast
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, लाइव हिन्दुस्तानSat, 25 May 2024 12:31 PM
ऐप पर पढ़ें

केदारनाथ-यमुनोत्री, बदरीनाथ समेत चारधाम यात्रा रूट पर मौसम को लेकर बड़ा अपडेट सामने आया है। उत्तराखंड मौसम पूर्वानुमान में यात्रा रूट पर बारिश को लेकर येलो अलर्ट जारी किया गया है। ऐसे में चारधाम यात्रा पर जाने वाले तीर्थ यात्रियों से अपील है कि वे सुरक्षित होकर यात्रा करें। 

मौसम विभाग की ओर से जारी पूर्वानुमान में उत्तराखंड के पर्वतीय जिलों में हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना जताई है। 26 से 28 मई के बीच कई जिलों को येलो अलर्ट में रखा गया है। यहां आकाशीय बिजली चमकने, तेज हवाएं चलने और बारिश से संवेदनशील स्थानों पर चट्टानें खिसकने के साथ ही बरसाती नालों में अचानक पानी बढ़ने की चेतावनी दी है।

मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह के मुताबिक उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली, बागेश्वर, पिथौरागढ़, टिहरी, अल्मोड़ा और चंपावत जिले में आज कहीं-कहीं हल्की बारिश और कुछ स्थानों पर गर्जन के साथ बारिश के आसार हैं। अन्य जिलों में मौसम शुष्क रहेगा। मैदानी जिलों में दिन के समय तेज हवाएं चलेंगी।

26 मई से पूरे राज्य में मौसम में बदलाव की उम्मीद दिख रही है। राज्य के अधिकांश हिस्सों में बारिश हो सकती है। खासतौर पर पर्वतीय जिलों में कुछ स्थानों पर एक-दो दौर की तेज बारिश के आसार बन रहे हैं। इसके लिए पर्वतीय जिलों के लिए अलर्ट जारी करते हुए सावधानी बरतने की सलाह दी गई है।

इधर, देहरादून में शुक्रवार को दिन का तापमान 38.2 डिग्री रहा, जबकि न्यूनतम तापमान 27.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। आज शनिवार को दून में दिन और रात के तापमान में इजाफा होगा। दिन में 39 डिग्री और रात में 28 डिग्री सेल्सियस तक तापमान रह सकता है। यहां आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे।

यात्रा दौरान यह रखें सावधानी
चारधाम यात्रा रूट पर बारिश होने पर यात्रा न करें
खराब मौसम पर यात्रा करने से परहेज करें 
यात्रा शुरू करने से पहले मौसम की जानकारी जरूर ले लें 
रात होने से पहले अपने गंतव्य पर सुरक्षित पहुंचने का प्रयास करें 
सफर के दौरान खाने-पीने की चीजें साथ रखें 
चारधाम यात्रा रूट पर सफर के दौरान हमेशा सतर्क रहें 
सफर में गर्म कपड़े और जरूरी दवाएं अपने साथ जरूर रखें   

इन जिलों में स्थित हैं चारधाम मंदिर
उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में भगावन शिव को समर्पित केदारनाथ धाम स्थित है। 10 मई से शुरू चारधाम यात्रा में सबसे ज्यादा तीर्थ यात्री केदारनाथ घाम को दर्शन करने के लिए पहुंच रहे हैं। चमोली जिले में बदरीनाथ धाम है। इस धाम में भी भक्तजनों की काफी भीड़ देखने को मिल रही है। जबकि, उत्तरकाशी जिले में गंगोत्री और यमुनोत्री धाम स्थित हैं। 

ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन बंद
चारधाम यात्रा में तीर्थ यात्रियों की भारी भीड़ देखने को मिल रही है। चिंता की बात है कि तीर्थ यात्री एमपी, गुजरात, राजस्थान आदि राज्यों से रजिस्ट्रेशन के बिना उत्तराखंडपहुंच रहे हैं। तीर्थ यात्रियों की भारी भीड़ को देखते हुए सरकार ने 31 मई तक ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन बंद किए हैं। ऐसे में तीर्थ यात्रियों से अपील है कि ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के बाद ही चारधाम यात्रा को निकलें। 

चार धाम यात्रा के लिए ऐसे कराएं  ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन
बदरीनाथ, गंगोत्री, केदारनाथ समेत चार धाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालु पर्यटन विभाग की वेबसाइट registrationandtouristcare.uk.gov.in पर जाकर पंजीकरण कर सकते हैं। इसके साथ ही श्रद्धालु मोबाइल ऐप touristcareuttarakhand से भी पंजीकरण करा सकते हैं।

इसके अलावा पंजीकरण का एक और विकल्प व्हाट्सअप नंबर 8394833833 पर यात्रा टाइप कर पंजीकरण हो सकता है। टोल फ्री नंबर 01351364 नंबर पर भी पंजीकरण की सुविधा दी गई है।
   
चारधाम में यात्री संख्या सीमित करने का विरोध
चारधाम यात्रा को लेकर शहर व्यापार मंडल और चारधाम से जुड़े ट्रेवल कारोबारियों के संयुक्त मोर्चे की बैठक में चारधाम यात्रा में सीमित संख्या में रजिस्ट्रेशन करने का सभी ने विरोध किया। चारधाम यात्रा में ऑफ लाइन रजिस्ट्रेशन 31 मई तक के लिए बंद कर दिए गए हैं।

रजिस्ट्रेशन बंद होने से जहां बाहर से आए यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ रही है। वहीं रजिस्ट्रेशन न होने से यात्रियों के चारधाम में न जाने से चारधाम से जुड़े कारोबारियों के कारोबार पर भी इसका सीधा असर देखने को मिल रहा है।