DA Image
Tuesday, November 30, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तराखंडउत्तराखंड में आफत बनी बारिश, नैनीताल में भूस्खलन से तीन मकान दबे, एक महिला का पैर टूटा

उत्तराखंड में आफत बनी बारिश, नैनीताल में भूस्खलन से तीन मकान दबे, एक महिला का पैर टूटा

नैनीताल। कार्यालय संवाददाताDinesh Rathour
Sun, 12 Sep 2021 10:42 PM
उत्तराखंड में आफत बनी बारिश, नैनीताल में भूस्खलन से तीन मकान दबे, एक महिला का पैर टूटा

नैनीताल तहसील के दूरस्थ अमगढ़ी गांव में रविवार शाम हुई मूसलाधार बारिश के बाद फिर भूस्खलन हो गया। इस कारण तीन ग्रामीणों के मकान मलबे में दब गए हैं। बचने के प्रयास में एक महिला नीमा देवी का पैर टूट गया, जिसे रामनगर अस्पताल भेजा गया है। एसडीएम नैनीताल ने बचाव व राहत के लिए गांव में रेस्क्यू टीम भेज दी है। फिलहाल ग्रामीणों को गांव के ही इंटर कॉलेज में ठहराया गया है।

जानकारी के अनुसार, नैनीताल तहसील का अमगढ़ी गांव का तोक खैराड़ भूस्खलन प्रभावित है। ग्राम प्रधान गंगा नैनवाल, प्रधान प्रतिनिधि गणेश नैनवाल ने बताया कि रविवार शाम गांव में जोरदार बारिश हो रही थी। शाम करीब साढ़े पांच बजे खैराड़ तोक के ऊपर की पहाड़ी पर फिर से बड़ा भूस्खलन हो गया। मलबा गांव की ओर आया और तीन लोगों जीवानी राम, चंदन राम व नीमा देवी के मकान मलबे में दब गए। उन्होंने बताया कि बीते दिनों गांव में भूस्खलन के बाद प्रशासन ने यहां के करीब बीस परिवारों को गांव के इंटर कॉलेज में ठहरवाया है।

रविवार को खैराड़ तोक के ये परिवार दोपहर में अपने खेतों में काम के लिए गए थे। इसके बाद शाम को सभी भोजन करके वापस इंटर कॉलेज में रहने आते हैं। इसी बीच, शाम के समय भूस्खलन हो गया। भूस्खलन से ग्रामीणों की फसल भी बर्बाद हो गई है। भूस्खलन से बचने के दौरान महिला नीमा देवी का पैर टूट गया, जिसे रामनगर रेफर किया गया है। बताया कि ग्रामीण जगत प्रकाश, चनी राम, प्रेम राम, आनंद दानी, मोहन दानी पूरन मेहता आदि बचाव कार्य में जुटे रहे। भूस्खलन के कारण गांव वाले दहशत में हैं। उन्होंने प्रशासन से ग्रामीणों के भवन का निर्माण कराने के साथ ही सुरक्षित स्थानों पर विस्थापन की मांग उठाई है। 

लगातार भूस्खलन से गांव पर खतरा

ग्रामसभा अमगढ़ी के अंतर्गत खैराड़ तोक में करीब 30 परिवार पहले ही सरकारी व्यवस्था पर स्थानीय इंटर कॉलेज में रह रहे हैं। जिस पहाड़ पर गांव बसा है, वहां पिछले काफी समय से भूस्खलन हो रहा है। इंटर कालेज और खैराड़ के बीच करीब पांच किमी का फासला है। लगातार हो रही बारिश से स्थिति और भयावह हो रही है और ग्रामीण प्रशासन से स्थायी समाधान की मांग कर रहे हैं। 

नैनीताल के संयुक्त मजिस्ट्रेट प्रतीक जैन ने बताया, अमगढ़ी गांव में भूस्खलन के कारण तीन मकानों के क्षतिग्रस्त होने की सूचना मिली है। रेस्क्यू टीम रवाना कर दी गई है, जो नुकसान का आकलन करेगी। फिलहाल जनहानि की सूचना नहीं है। यहां इंटर कॉलेज में ठहराए गए परिवारों को लगतार राहत किट पहुंचाई जा रही है।

ज्योलीकोट में मलबे ने दुकान की दीवार को तोड़ा

नैनीताल। ज्योलीकोट में रविवार दोपहर दो बजे बाद हुई मूसलाधार वर्षा में मुख्य बाजार में स्थित इलेक्ट्रिकल्स की दुकान में पीछे पहाड़ी पर मलबा आ गया। मलबा पानी के तेज बहाव के साथ दुकान की पक्की दीवार को तोड़ता हुआ निकला। इससे दुकान पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई। मुख्य बाजार के समानांतर निरीक्षण भवन मोटर मार्ग में बंद नालियों और कलवर्ट से पानी की निकासी न होने से ज्योलीकोट मुख्य बाजार में हाईवे नाले में तब्दील हो गया। 

 

 
 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें