ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडतिहाड़ जेल में बंदियों ने क्राइम करने के लिए बनाया गैंग, हिस्ट्रीशीटर समेत चार गिरफ्तार; 3 फरार   

तिहाड़ जेल में बंदियों ने क्राइम करने के लिए बनाया गैंग, हिस्ट्रीशीटर समेत चार गिरफ्तार; 3 फरार   

उस पर भी मण्णुपुरम गोल्ड लोन कंपनी से नौ किलोग्राम सोना लूटने का आरोप है। वारदात की साजिश महिला के बेटे की कंस्ट्रक्शन सा​इट पर काम करने वाले कर्मचारी व उनके नौकर ने रची थी। चार को गिरफ्तार किया है।

तिहाड़ जेल में बंदियों ने क्राइम करने के लिए बनाया गैंग, हिस्ट्रीशीटर समेत चार गिरफ्तार; 3 फरार   
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तानTue, 28 May 2024 08:36 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंदियों ने ऐसी खौफनाक साजिश रची की पुलिस भी हैरान रह गई। जेल में बंद के दौरान आरोपियों ने क्राइम करने के लिए अपना एक गैंग बना लिया। जेल से बाहर आते ही आरोपियों ने डकैती को अंजाम दे दिया। पुलिस ने चार डकैतों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। इनमें एक हिस्ट्रीशीटर भी है। एक अरोपी पर हत्या और डकैती के कई मामले भी दर्ज हैं। 

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में डालनवाला क्षेत्र के चंद्रलोक कॉलोनी में महिला और नौकरानी को बंधक बनाकर डकैती डालने के चार आरोपी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिए। घटना में सात आरोपी शामिल थे। शुरु में लूट में दर्ज केस को अब डकैती में बदला गया है। गिरफ्तार आरोपियों में एक दिल्ली का हिस्ट्रीशीटर बदमाश शामिल है। उसका एक साथी भी शातिर लुटेरा है।

उस पर भी मण्णुपुरम गोल्ड लोन कंपनी से नौ किलोग्राम सोना लूटने का आरोप है। वारदात की साजिश महिला के बेटे की कंस्ट्रक्शन सा​इट पर काम करने वाले कर्मचारी व उनके नौकर ने रची थी। इस मामले में तीन आरोपियों की तलाश की जा रही है। एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि प्रणव सोईन निवासी चंद्रलोक कॉलोनी, डालनवाला ने गत 24 मई को ​शिकायत की।

बताया कि तीन बदमाशों ने घर में मौजूद उनकी मां व नौकरानी मीता को बंधक बनाकर नकदी व मोबाइल फोन लूट लिए हैं।  बदमाशों ने वहां से दो हजार रुपये लूटे थे। पुलिस जांच में राष्ट्रीय पुलिस ग्रुप और अन्य पुलिस ग्रुप पर संदिग्धों की तस्वीरें साझा कीं। सीसीटीवी फुटेज में कुल चार बदमाशों के हुलिए नजर आए थे। पता चला कि इस तरह का गैंग दिल्ली में सक्रिय हैं और इस वक्त प्रशांत नगर इलाके में हैं।

पुलिस और एसओजी की टीम ने दो आरोपियों राजेश कुमार बंसल उर्फ मदन निवासी गली नंबर चार, शुक्र बाजार, विजय विहार फेस वन, रोहिणी, नई दिल्ली व रिंकू कुमार उर्फ हरीश निवासी गली नंबर सात सोनिया विहार, खजूरी, नई दिल्ली को लूटे गए मोबाइल व घटना में इस्तेमाल कार के साथ गिरफ्तार कर लिया। इनसे पूछताछ के बाद पुलिस ने दो अन्य आरोपी मोहित कुमार गंगवार निवासी सेलाकुई, देहरादून मूल निवासी रम्पुरा, नत्थू, थाना बरखेड़ा, पीलीभीत और संजीव कुमार निवासी गोपालपुर, कोतवाली बिजनौर को भी गिरफ्तार कर लिया।

संजीव सोईन का नौकर है। इसके अलावा कंस्ट्रक्शन साइट पर काम करने वाले सागर सोम, प्रेम थापा और उसका एक दोस्त पुलिस की पकड़ से बाहर हैं। पकड़े गए आरोपियों को न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया है। आरोपियों से पुलिस ने दो देशी तमंचे भी बरामद किए हैं।

बंसल पर हैं हत्या और डकैती के कई मुकदमे
आरोपी राजेश कुमार बंसल पर दिल्ली में 2004 में शीशपाल नाम के व्यक्ति की हत्या करने का आरोप है। इसका मुकदमा थाना समयपुर बादली, दिल्ली में दर्ज है। इसके अलावा उसने अपने साथियों के साथ मिलकर 2011 में ठेकेदार के घर भी लूटपाट की थी। वर्ष 2010 में बंसल ने अपने साथियों के साथ मिलकर एक व्यक्ति का अपहरण किया और उसकी हत्या कर दी।

थाना पटेलनगर दिल्ली में कैशवैन लूटने के प्रयास का भी मुकदमा बंसल पर दर्ज है। इसके साथ ही वर्ष 2019 में उसने द्वारिका दिल्ली क्षेत्र में एक कैश वैन से डेढ़ करोड़ रुपये भी लूटे थे। दूसरे आरोपी मोहित गंगवार सराय थाना क्षेत्र में साइबर कैफे चलाता था। उसने धोखाधड़ी को भी अंजाम दिया है। रिंकू कुमार 2009 में मण्णुपुरम गोल्ड लोन कंपनी के ऑफिस से नौ किलोग्राम सोना लूटने का भी आरोपी है।

दो लाख रुपये का विवाद होने पर पूर्व नोकर ने कराई वारदात
एसएसपी के मुताबिक राजेश बंसल उर्फ मदन की उसकी मुलाकात रिंकू, प्रेम व मोहित से तिहाड़ जेल में हुई थी। उन्होंने दिसंबर 2023 को डकैती की योजना बनाई थी। जमानत पर छूटने के बाद आरोपियों की मुलाकात सरधना मेरठ के निवासी सागर सोम से हुई। सागर सोम सोईन की कंस्ट्रक्शन साइट पर काम करता था।

उसने बताया था कि चंद्रलोक कॉलोनी में रहने वाली महिला काफी पैसे वाली है और वह अपने बेटे के साथ यहां पर अकेली रहती है। कुछ दिन पहले ही उनके पति का देहांत हो चुका है। सागर ने बताया था कि महिला ने उसके हिसाब किताब में दो लाख रुपये का घपला किया था, जिसके लिए अब वह उन्हें सबक सिखाना चाहता है।

योजना बनाने के बाद जनवरी 2024 में घर की रैकी की। इसके बाद अप्रैल में यहां डकैती डालने के लिए आए मगर कामयाब नहीं हो पाए। इसके बाद गत 24 मई को फिर से गांधी पार्क में इकट्ठा हुए और डकैती डालने के लिए गए। घर के नौकर संजीव का फोन आने के बाद मदन, प्रेम, रिंकू और उनका एक अन्य साथी साईंलोक कॉलोनी चंद्रलोक कॉलोनी सोईन के घर पहुंचे। प्रेम घर के बाहर खड़े होकर निगरानी करने लगा। बाकी तीनों ने अंदर लूटपाट की।